लाइव टीवी

शरीर के दर्द को कैसे चुटकियों में खत्म करती है डिस्प्रिन?


Updated: July 11, 2018, 3:04 PM IST
शरीर के दर्द को कैसे चुटकियों में खत्म करती है डिस्प्रिन?
ये साधारण सी दिखने वाली गोली कैसे आपके शरीर में असर कर दर्द दूर भगाती है. इसके ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले नकारात्मक असर और इसको लेकर फैली भ्रांतियों पर भी एक नजर डालेंगे.

ये साधारण सी दिखने वाली गोली कैसे आपके शरीर में असर कर दर्द दूर भगाती है. इसके ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले नकारात्मक असर और इसको लेकर फैली भ्रांतियों पर भी एक नजर डालेंगे.

  • Last Updated: July 11, 2018, 3:04 PM IST
  • Share this:
साधारण हो या तेज दर्द, आम जिंदगी में हम जाने कितनी ही बार डिस्प्रिन या एस्पिरिन गोली का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन सवाल है कि ये साधारण सी दिखने वाली गोली कैसे आपके शरीर में असर कर दर्द दूर भगाती है. इसके ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले नकारात्मक असर और इसको लेकर फैली भ्रांतियों पर भी एक नजर डालेंगे.

कब-कब करते हैं इस्तेमाल?
- हल्के और तेज सिरदर्द, माइग्रेन, तंत्रिका दर्द, दांतों के दर्द, गले के दर्द आदि में
- सर्दी, जुखाम और बुखार से जुड़े दर्द में मददगार

- गठिया के दर्द, साइटिका, मांसपेशियों का दर्द, जोड़ों में सूजन आदि

कैसे काम करती है डिस्प्रिन?
इस टैबलेट में सिटिसालिसिलिक एसिड मौजूद होता है. ये शरीर में पहुंचकर एंजाइम की क्रिया जिसे साइक्लो-ऑक्सीजिनेज (COX) कहा जाता है, उस अवरुद्ध कर देता है.दरअसल साइक्लो-ऑक्सीजिनेज के चलते प्रोस्टाग्लैंडीन पैदा होता है, जो दर्द, सूजन, थ्राम्बाक्सेन आदि होने का कारण है. इसके कारण प्लेटलेट्स एक साथ जुड़कर ब्लड क्लॉट में बदल जाते हैं. डिस्प्रिन COX के जरिए पैदा होने वाले केमिकल को रोक देती है.

300mg एस्पिरिन वाली ये गोली प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन को रोककर दर्द में आराम देती है. इससे बुखार कम करने में भी आराम मिलता है. नेट डॉक्टर यूके वेबसाइट के मुताबिक 300mg पावर वाली एस्पिरिन दिल के दौरे में बचाने में मदद करती है. ये टैबलेट ब्लड क्लॉट बनने से रोकती है, जो खून की सप्लाई में अवरुद्ध पैदा करता है.



किन लोगों के लिए डिस्प्रिन खतरनाक?
- नवजात और 16 साल से कम उम्र वालों को बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं देनी चाहिए. क्योंकि बच्चे रेयस सिंड्रोम नामक दुर्लभ स्थिति से जुड़े होते हैं. इस स्थिति में इसका बुरा असर ब्रेन और लिवर पड़ता है.

- पेट में अल्सर के रोगियों को इस टैबलेट से बचना चाहिए
- रक्तस्राव विकार जैसे हीमोफीलिया से पीड़ितों को दवाई लेने से बचना चाहिए
- एलर्जी रिएक्शन से पीड़ित लोगों को डिस्प्रिन लेने से बचना चाहिए.
- खराब किडनी और लिवर से परेशान लोगों को इससे दूर रहना चाहिए
- प्रेंगनेंट महिलाएं ऐसी दवाइयों के सेवन से बचें
- बच्चों को दूध पिलाने वाली महिलाएं भी डिस्प्रिन न लें

डिस्प्रिन के साइड इफेक्ट्स
दवाइयां और उनके साइड इफेक्ट्स अलग-अलग तरीकों से लोगों को प्रभावित करते हैं. ऐसे ही कुछ साइड इफेक्ट्स डिस्प्रिन या एस्पिरिन दवाई से भी जुड़े हैं. ऐसा सभी दवाई लेने वालों लोगों के साथ नहीं होता बल्कि कुछ विशेष परिस्थितियों में होता है.

- अपच
- बीमार महसूस और उलटी आना
- पेट में जलन आदि
- पेट या आंतों में घाव और रक्त स्त्राव
- कानों में आवाज सुनाई देना
- त्वचा पर एलर्जी के रिएक्शन
- होठ, जीभ और गले का सूजना
- खून का ज्यादा देर तक बहना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2018, 3:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर