जानिए आखिर पानी में सांस कैसे लेती हैं मछलियां

मछलियां (Fishes) पानी (Water) में सांस लेती हैं, लेकिन उनके सांस लेने की तरीका इंसान से बहुत अलग होता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
मछलियां (Fishes) पानी (Water) में सांस लेती हैं, लेकिन उनके सांस लेने की तरीका इंसान से बहुत अलग होता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

मछलियां (Fishes) पानी (Water) के बिना नहीं रह सकती हैं, लेकिन पानी में वे खास तरीके से सांस ले पाती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 7:19 PM IST
  • Share this:
बचपन में हम सबको मछलियों (Fishes) के बारे जरूर बताया गया था. हमें बताया गया था कि मछली बिना पानी (Water) के नहीं रह सकती है और मछली की वह सरल कविता ‘मछली जल की रानी है, जीवन उसका पानी है’ तो सभी को याद है. लेकिन हमारा ध्यान इस बात पर कभी नहीं गया कि अगर मछली पानी के बिना नहीं रह सकती है तो वह सांस (Berathe) कैसे लेती है. क्या उसे सांस लेने (Breathing) की जरूरत होती भी है या नहीं. मछली सांस तो लेती है, लेकिन पानी में सांस लेने के लिए उसके पास एक खास सिस्टम (System) होता है.

पानी में ऑक्सीजन कैसे
सबसे पहले तो हम यह जान लें कि पानी में भी ऑक्सीजन घुली हुई होती है. अगर मछली को ऐसे पानी में डाला जाए जिसमें हवा नहीं घुली हुई हो तो वह मर जाएगी. पानी में यह हवा समुद्र और नदियों में चलने वाली लहरों के जरिए मिलती घुलती रहती है. इसी लिए अगर आपने अपने दोस्तों के घर में या कहीं और छोटा फिश एक्वेरियम देखा होगा तो उसमें हवा के बुलबुले पैदा करने का सिस्टम जरूर देखा होगा. इसी से मछलियों के लिए पानी में हवा पहुंचती है.

पानी में ही रह कर सांस लेना
यहां से हमें दूसरा सवाल मिलता है. वह यह कि अगर पानी में भी हवा होती है तो हम तो उसमें सांस नहीं लेते लेकिन मछलियों सांस कैसे ले पाती है. इसका जवाब है वह खास सिस्टम जिसके जरिए मछलियां पानी में रहते हुए भी सांस ले पाती हैं.



Fish, Fishes, Water, breathing, Gills,
पानी (Water) में सांस लेने (Breathing) के लिए मछलियां (Fishes) मुंह और गिल्स का उपयोग करती हैं. (तस्वीर: Pixabay)


क्या इंसान नहीं कर सकता ऐसा
दरअसल इंसान और अन्य स्तनपायी जीव का सांस लेने का सिस्टम पानी के अनुकूल नहीं होता. वे केवल खुली हवा में सांस ले पाते हैं. ऐसा डॉल्फिन और व्हेल के लिए भी होता है. इसी लिए वे सतह पर ही तैरती दिखाई देती हैं और सांस लेने के लिए अपना मुंह के पास की नाक को बाहर हवा में लाती हैं.

जानिए क्यों खारे होते हैं सागर और कहां से आया उनमें इतना नमक

तो फिर कैसे सांस लेती हैं मछलियां
मछलियां पानी में सांस लेने का काम गिल्स के जरिए करती हैं, लेकिन उनके सांस लेने की प्रक्रिया की शुरुआत पहले उनके पानी को मुंह में लेने से शुरू होती है. यह पानी पंखों जैसे पतली परत से होकर गुजरता है जो कि उनकी गिल्स में मौजूद होती हैं. इनमें बड़ी मात्रा में खून होता है जिसमें ऑक्सीजन की मात्रा पानी में घुली ऑक्सीजन की तुलना में कम होती है जिससे विसरण (Diffusion) होता है ऑक्सीजन खून में चली जाती है.

जानिए क्या होती है आग और क्यों होता है इसमें विविधता

मछलियों के मुंह के पास गिल्स का सिस्टम होता है जिससे पानी ऑक्सीजन देने के बाद बाहर आ जाता है, लेकिन उसी पानी में कार्बन डाइऑक्साइड भी खून से बाहर निकल कर पानी में मिल जाती है. इसी लिए आमतौर पर देखा जाता है कि मछलियों का मुंह अक्सर खुला ही रहता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज