अपना शहर चुनें

States

Explainer : वैक्सीन का असर कितने वक्त तक रहेगा? क्या टीके के बाद भी बरतनी होगी सावधानी?

नेटवर्क 18 क्रिएटिव
नेटवर्क 18 क्रिएटिव

WHO से लेकर CDC और महामारी विशेषज्ञों तक सभी एक सुर में कह रहे हैं कि मास्क पहनना, उचित दूरी बनाए रखना और साफ सफाई से रहना अच्छी ही नहीं, ज़रूरी आदतें हैं. जानिए क्यों वैक्सीन अकेले काफी नहीं होगी.

  • News18India
  • Last Updated: December 2, 2020, 2:26 PM IST
  • Share this:
Covid-19 की वैक्सीन (Anti Covid Vaccine) हमसे बहुत दूर नहीं रह गई है. इन खबरों के दरमियान आप यह भी सुन रहे हैं कि कम से कम तीन वैक्सीनों के ट्रायलों के नतीजे (Vaccine Trials Results) बेहद सकारात्मक रहे हैं और वैक्सीन को 90 फीसदी तक या उससे ज़्यादा असरदार भी पाया गया है. लेकिन अब सवाल यह है कि किसी व्यक्ति को वैक्सीन (Vaccination) दी जाए, तो कितने समय तक उसे कोरोना संक्रमण (Corona Virus Infection) नहीं होगा? यानी कितने वक्त के लिए वैक्सीन किसी शरीर में अपना असर रखेगी?

इसके अलावा, यह भी एक पहलू विचार का है कि आखिर वैक्सीन की तरफ बढ़ रही दुनिया में विश्व स्वास्थ्य संगठन और तमाम स्वास्थ्य सेवी संस्थाएं और विशेषज्ञ क्यों बार बार कड़ी​ हिदायत दे रहे हैं कि वैक्सीन आने तक ही नहीं, बल्कि वैक्सीन आने के बाद भी सतर्कता और सावधानियां बरतने की आदत न छोड़ी जाए. जानिए कि क्या है वैक्सीन के असर की उम्र का पूरा ब्योरा, जो कई तरह के सवाल खड़े कर रहा है.

ये भी पढ़ें :- क्या है 'अफगान लाइव्स मैटर', किस ताज़ा विवाद को लेकर केंद्र में है?



सवाल : कितने समय तक शरीर पर असरदार रहेगी वैक्सीन?
जवाब : कोविड 19 की जो वैक्सीन सुरक्षित पाई जा रही हैं, उनमें से मोस्ट एडवांस्ड वैक्सीन भी आपके शरीर को कुछ महीनों या शरीर के हिसाब से कुछ सालों तक ही सुरक्षा देने में कारगर होंगी. वॉल स्ट्रीट जर्नल ने विज्ञान के विशेषज्ञों के हवाले से साफ कहा है कि एक बार वैक्सीन लेने से पूरी ज़िंदगी के लिए आप संक्रमण से सुरक्षित नहीं होंगे.

covid vaccine effect, corona vaccine effect, covid vaccine efficacy, corona vaccine efficacy, कोविड वैक्सीन असर, कोरोना वैक्सीन असर, कोविड टीकाकरण, कोरोना टीकाकरण
वैक्सीन तैयार होने की खबरों का मतलब यह नहीं कि आप साफ सफाई आदि सावधानियां बरतना छोड़ दें.


विज्ञान के इतिहास में अब तक ऐसी कुछ ही वैक्सीन बनी हैं, जिन्हें एक बार लेने से आजीवन सुरक्षा संभव होती है. उदाहरण के तौर पर मीज़ल्स की वैक्सीन. सांस संबंधी दूसरे वायरसों और एंटीबॉडी के असर की उम्र से जुड़ा जो ताज़ा डेटा सामने आ रहा है, उसके हवाले से विशेषज्ञ कह रहे हैं कि कोविड 19 की वैक्सीन से ऐसी उम्मीद नहीं रखी जा सकती.

ये भी पढ़ें :- 'एंटी नेशनल' कही जा रहीं शेहला राशिद पहले कितने विवादों में घिरी हैं?

सवाल : क्या वैक्सीन लेने से कोविड हो सकता है?
जवाब : जी नहीं. ऐसी धारणा न बनाएं. वास्तव में इस सवाल का आशय यह है कि क्या वैक्सीन लेने के बाद भी कोविड 19 हो सकता है, इसका जवाब यह है चूंकि वैक्सीन को शरीर पर असर दिखाने के लिए कुछ दिनों का समय लग सकता है. इसलिए यह संभव है कि वैक्सीन लेने के तुरंत पहले या तुरंत बाद में आप संक्रमण से ग्रस्त हो जाएं.

सवाल : क्या वैक्सीन लेने के बाद टेस्ट रिपोर्ट पॉज़िटिव होगी?
जवाब : ट्रायलों में वायरस से जुड़ा टेस्ट वैक्सीन लेने के बाद पॉज़िटिव नहीं देखा गया है. लेकिन अगर आपके शरीर में इम्यून सिस्टम विकसित हो चुका है, जो कि वैक्सीन का मकसद है ही, तो संभावना है कि एंटीबॉडी टेस्ट की रिपोर्ट पॉज़िटिव आए. विशेषज्ञ अभी देख रहे हैं कि कोविड वैक्सीन लेने के बाद एंटीबॉडी टेस्ट के नतीजे किस तरह प्रभावित होंगे.

ये भी पढ़ें :- वो भारतीय, जिसने सबसे पहले EMAIL बनाकर लिया कॉपीराइट

सवाल : जिन्हें कोविड हो चुका है, क्या वैक्सीन उनके लिए भी असरदार होगी?
जवाब : चूंकि दोबारा संक्रमण का खतरा साफ देखा जा चुका है इसलिए विशेषज्ञों की सलाह है कि वैक्सीन सभी को लेना चाहिए. अमेरिकी सरकार के सीडीसी (CDC) की मानें तो विशेषज्ञों को अभी यह नहीं पता है कि वैक्सीन लेने के कितने समय तक दोबारा संक्रमण से बचाव संभव होगा. नैचुरल इम्यूनिटी व्यक्ति व्यक्ति के शरीर पर निर्भर करती है और यह नैचुरल इम्यूनिटी भी आजीवन नहीं होती. वैक्सीन से कितने समय तक के लिए इम्यूनिटी डेवलप होती है, इस बारे में अभी अध्ययन हो रहे हैं.

covid vaccine effect, corona vaccine effect, covid vaccine efficacy, corona vaccine efficacy, कोविड वैक्सीन असर, कोरोना वैक्सीन असर, कोविड टीकाकरण, कोरोना टीकाकरण
वैक्सीन आने के बाद भी मास्क पहनने की हिदायत लगातार दी जा रही है.


सवाल : कब पता चलेगा कि वैक्सीन कितने समय के लिए असरदार है?
जवाब : चूंकि अभी कोविड 19 महामारी को दुनिया में फैले हुए एक साल भी नहीं हुआ है इसलिए इस बारे में सीमित डेटा है. वैक्सीन आने के बाद ही जब ज़्यादा और प्रामाणिक डेटा मिलेगा, तब पता चल सकेगा कि कितने लंबे समय तक के लिए वैक्सीन से इम्यूनिटी डेवलप होती है. नैचुरल इम्यूनिटी और वैक्सीन से डेवलप होने वाली इम्यूनिटी दोनों की अहम हैं और इनसे जुड़ी स्टडीज़ जारी हैं.

सवाल : क्यों वैक्सीन के बाद भी सावधानियां ज़रूरी होंगी?
जवाब : अव्वल तो, अब तक कोई वैक्सीन 100% असरदार पाई ही नहीं गई है और दूसरे वैक्सीन बड़ी आबादी को मिलने में लंबा समय लगेगा. और तीसरे पिछले तमाम सवालों से ज़ाहिर है कि व्यक्ति व्यक्ति की इम्यूनिटी और शारीरिक रिस्पॉंस पर निर्भर होगा कि वैक्सीन का असर कितने लंबे समय तक रहता है. इन तमाम हालात में विशेषज्ञों की सलाह यही है कि आप मास्क पहनने, हाथ धोने, साफ सफाई रखने और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे​ नियमों का पालन करने की आदत बरकरार रखें.

ये भी पढ़ें :- क्या कहता है देश में 'धर्म परिवर्तन' रोकने के कानूनों का इतिहास?

विश्व स्वास्थ्य संगठन की भारतीय टीम ने हाल में कहा है कि वो देश भर में वैक्सीन संबंधी जागरूकता फैलान के साथ ही यह अभियान भी चलाएंगे, जिसमें लोगों को वैक्सीन आने के बाद भी सावधानियां बरतने के फायदों और ज़रूरतों के बारे में बताया जाएगा. इससे साफ़ ज़ाहिर है कि वैक्सीन को लेकर एक सकारात्मक रवैया तो अच्छी बात है, लेकिन लापरवाह हो जाने का नज़रिया बेहद खतरनाक भी हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज