हमारे सौरमंडल के ग्रहों पर कितनी देर जिंदा रह पाएगा इंसान और क्यों?

हमारे सौरमंडल के ग्रहों पर कितनी देर जिंदा रह पाएगा इंसान और क्यों?
हमारे सौरमंडल के ग्रहों पर इंसान बहुत ज्यादा देर जिंदा नहीं रह सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हमारे सौरमंडल (Solar System) में केवल पृथ्वी (Earth) पर इंसान के जिंदा रहने के हालात हैं, लेकिन बाकी ग्रह वह कितनी देर जिंदा रह सकता है यह एक सवाल है.

  • Share this:
इन दिनों वैज्ञानिक चांद (Moon) और मंगल (Mars) पर इंसान के रहने लायक हालात बनाने पर शोध कर रहे हैं. ऐसे में कई लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि आखिर हमारे सौरमंडल (Solar System) के ग्रहों में कोई इंसान कितने समय तक जिंदा (Alive) रह सकता है. वैसे तो हम सभी जानते हैं कि इस समय हमारे सौरमंडल में केवल पृथ्वी ही ऐसा ग्रह है जो रहने लायक है. लेकिन अगर इंसान किसी तरह से इन ग्रहों पर प्रकट हो जाए तो क्या होगा?

क्या हालात हैं इन ग्रहों पर
हाल के वैज्ञानिकों के अनुसंधान की रुचियों के देख कर यह सवाल जायज है कि आखिर इन ग्रहों में जीवन की अनुकूलता के लिहाज से किस तरह के हालात हैं. द सन के एक लेख में नॉटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी के डॉ डैनियल ब्राउन ने बताया कि हमारे सौरमंडल के ग्रहों पर इसांन का क्या हाल होगा. इन ग्रहों के हाल तो इंसान के हिसाब से बहुत ही मुश्किल हैं, लेकिन कुछ ग्रहों पर शायद इंसान कुछ समय बिता सके, लेकिन ज्यादातर ग्रह ऐसे हैं जहां इंसान जाने के बारे में सोच भी नहीं सकता है.

बुध में केवल दो मिनट?
बुध सूर्य के सबसे पास का ग्रह है. आमधारणा है कि सूर्य के सबसे पास रहने के कारण यह हमेशा ही बहुत गर्म रहता होगा, लेकिन यह सच नहीं नहीं इसकी कक्षा पर निर्भर करता है कि वह कितना गर्म है. इसके 88 (पृथ्वी के) दिनों के बराबर के समय में इसका जो हिस्सा सूर्य के सामने होता है उसमें तापमान 425 डिग्री सेल्सियस तक हो जाता है और जब वहां रात होती है वहां का तापमान -150 डिग्री सेल्सियस हो जाता है. बुध ग्रह पर वायुमंडल नहीं के बराबर है. ऐसे हालातों में आप दो मिनट ही में या तो जम जाएंगें या फिर टोस्ट की तरह जल जाएंगे.



शुक्र सबसे गर्म ग्रह है,लेकिन
शुक्र ग्रह बुध के बाद सूर्य के दूसरा सबसे पास का ग्रह है, लेकिन यह सभी ग्रहों से सबसे ज्यादा गर्म है. इसका वायुमंडल बहुत घना है अगर आप वहां गए तो आपको लगेगा कि आप वहां पानी के एक किलोमीटर नीचे हैं. इसका तापमान 400 डिग्री सेल्सियस है और वहां सल्फ्यूरिक एसिड के बादल बहुत हैं. डॉ ब्राउन के मुताबिक यहां आप एक ही सेंकड में जल जाएंगे.

solar system
बहुत कम ग्रह ऐसे हैं जहां इंसान कुछ समय के लिए टिक सकता है (प्रतीकात्मक तस्वीर)


पृथ्वी उपयुक्त तो है पर...
हमारे सौरमंडल का तीसरा ग्रह हमारी पृथ्वी है जो इस समय हमारे रहने के लिहाज से सबसे उपयुक्त है. डॉ ब्राउन का कहना है कि वैसे तो हमारा पर्वयावरण बहुत नाजुक है, फिर भी यह काफी उपयुक्त है. हम यहां 80 साल तक तो जी सकते हैं, लेकिन पर्यावरण और जलवायु से छेड़छाड़ हमें महंगी पड़ सकती है वैसे इससे पृथ्वी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

Jupiter के चांद यूरोपा का महासागर है जीवन के अनुकूल, शोधकर्ताओं को मिले प्रमाण

खून उबल जाएगा में ठंडे मंगल ग्रह पर
पृथ्वी के बाद यही वह ग्रह है जिस पर वैज्ञानिकों की नजर है. यह हमें बहुत सी ऑक्सीजन और कुछ खास उपकरणों और साजोसामान की जरूरत होगी. लेकिन बिना सुरक्षा के इंसान बहुत लंबे समय तक नहीं रह सकता. उम्मीद के विपरीत मंगल ग्रह बहुत ठंडा है. यहां की गर्मी में अंटार्कटिका के जैसे हालात होते हैं. यहां का वायुमंडल काफी पतला है. इस वजह से हमारा खून वहां उबलने लगेगा. डॉ ब्राउन का कहना है कि अगर आप खुशकिस्मत रहे तो वहां दो मिनट तक जिंदा रहा पाएंगे.

सतह नहीं है गुरू ग्रह पर
बृहस्पति ग्रह हमारे सौरमंडल का पांचवा ग्रह है. यह एक गैस का बहुत विशाल गोले के तौर पर पहचाना जाता है. यानि यहां इंसान के लिए कोई सतह नहीं है. डॉ ब्राउन कहते हैं कि सूर्य से दूर होने के कारण यह बहुत ठंडा है लेकिन यहां की समस्या वायुमंडल है जो आपको ग्रह की केंद्र की ओर खींच लेगा. लेकिन इस दौरान आप भाप बन कर उड़ जाएंगे. लेकिन उससे पहले आप बहुत सारा दबाव नहीं झेल पाएंगे और एक ही सेकंड में टूट कर बिखर सकते हैं.

अचानक गायब हो गया बहुत बड़ा तारा, वैज्ञानिक हुए परेशान, कैसे हुआ ये 

शनि यूरेनस और नेप्च्यून
ये तीनों ग्रह भी गैस के बड़े लेकिन अगल-अलग आकार के गोले हैं. डॉ ब्राउन के अनुसार इससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि आप इसके वायुमंडल में गिरते हुए ही टुकड़े होकर भाप बन जाएंगे. ये सारी परिकल्पनाएं इन ग्रहों के बारे में उपलब्ध जानकारियों के आधार पर बनी हैं. सुदूर ग्रहों पर पहुंचना भी एक टेढ़ी खीर है. इससे पहले ये परिकल्पनाएं संभव हो पाएं हमें वहां पहले सुरक्षित पहुंचना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading