होम /न्यूज /नॉलेज /बहुभाषी बेल्जियम फुटबॉल टीम आपस में कैसे बात करती है?

बहुभाषी बेल्जियम फुटबॉल टीम आपस में कैसे बात करती है?

रोमेलु लुकाकू, केविन डे ब्रुयेन और थिबॉट कर्टोइस जैसे बड़े खिलाड़ियों से सजी बेल्जियम की टीम में 12.1% अप्रवासी खिलाड़ी हैं. लेकिन मजेदार सवाल है कि अलग-अलग भाषाओं और मुल्क से आने वाले ये खिलाड़ी आपस में संवाद कैसे करते हैं?

रोमेलु लुकाकू, केविन डे ब्रुयेन और थिबॉट कर्टोइस जैसे बड़े खिलाड़ियों से सजी बेल्जियम की टीम में 12.1% अप्रवासी खिलाड़ी हैं. लेकिन मजेदार सवाल है कि अलग-अलग भाषाओं और मुल्क से आने वाले ये खिलाड़ी आपस में संवाद कैसे करते हैं?

रोमेलु लुकाकू, केविन डे ब्रुयेन और थिबॉट कर्टोइस जैसे बड़े खिलाड़ियों से सजी बेल्जियम की टीम में 12.1% अप्रवासी खिलाड़ी ...अधिक पढ़ें

    32 साल के लंबे इंतजार के बाद पहली बार बेल्जियम की टीम वर्ल्ड कप सेमीफाइनल तक पहुंची है. अब उनका मुकाबला फ्रांस से होगा जिसे हराया एक कठिन चुनौती होगा. रोमेलु लुकाकू, केविन डे ब्रुयेन और थिबॉट कर्टोइस जैसे बड़े खिलाड़ियों से सजी बेल्जियम की टीम में 12.1% अप्रवासी खिलाड़ी हैं.

    लेकिन मजेदार सवाल है कि अलग-अलग भाषाओं और मुल्क से आने वाले ये खिलाड़ी आपस में संवाद कैसे करते हैं. जबकि उनके कोच रॉबर्टो मार्टिनेज़ खुद स्पेन से ताल्लुक रखते हैं. जानिए इतनी विविधताओं से भरी बेल्जियम टीम की कहानी.

    अंग्रेजी बनी खिलाड़ियों के बीच पुल
    बीबीसी के मुताबिक सूत्रों ने बताया कि खिलाड़ी न डच और फ्रेंच बल्कि वो अंग्रेजी भाषा में एक दूसरे बात करते हैं. इससे वो भाषाओं में श्रेष्ठता के विवाद से बचते हैं. पिच पर भी खिलाड़ी अंग्रेजी भाषा का ही इस्तेमाल करते हैं.

    बेल्जियम टीम में डच भाषा बोलने वाले खिलाड़ियों की संख्या ज्यादा है. इसके बाद फ्रेंच और फिर जर्मन बोलने वाले खिलाड़ियों की संख्या काफी कम है. जो टीम की विविधता की ओर इशारा करती है.

    जिन शरणार्थियों को कोसते थे वही वर्ल्ड कप बने में शान

    कौन सा खिलाड़ी किस भाषा में बात करता है?
    मैनचेस्टर सिटी के प्रमुख खिलाड़ी केविन डे ब्रूयेन डच बोलने वाले है. वो फ्लेमिश इलाके से ताल्लुक रखते हैं. जबकि चेल्सिया की ओर से खेलने वाले अटैकर एडेन हैजार्ड वल्लून इलाके से ताल्लुक रखने वाले फ्रेंच भाषी हैं.

    बेल्जियम की टीम में भाषा का मामला साल 2014 में देखने को मिला था. जब प्रेस कॉन्फ्रेंस में डिफेंडर थॉमस वर्मेलेन और एक्सल विटसेल अलग-अलग भाषाओं में रूबरू हुए. वर्मेलेन जहां डच तो विटसेल फ्रेंच भाषा बोलते नजर आए.

    News18 Hindi

    विविधता में बंटा बेल्जियम
    बेल्जियम में हर चीज़ भाषाई विविधता के रूप में बंटी हुईं हैं. चाहें वो पॉलिटिकल पार्टी, स्कूल, मैगज़ीन या न्यूज़पेपर हों. साथ ही देश में बड़ी संख्या में ऐसे अप्रवासी मौजूद हैं जो न डच और न ही मूल भाषा के तौर पर फ्रेंच बोलते हैं. इनको जोड़ने का काम अंग्रेज़ी करती है.

    बेल्जियम के एंटवर्प में जन्म लोकाकु आसानी से छह भाषाएं बोल लेते हैं. इनमें डच, फ्रेंच, अंग्रेज़ी, स्पैनिश, पुर्तगाली और स्वाहिली शुमार है. जबकि कप्तान विंसेट कोंपनी पांच भाषाएं बोल लेते हैं. जबकि कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं जो सिर्फ फ्रेंच ही बोल पाते हैं.

    88 साल के फीफा वर्ल्ड कप में 22 बार बदली फुटबॉल

    बेल्जियम के कोच कैसे समझाते हैं?
    टीम के कोच रॉबेर्टो मार्टिनेज़ खुद स्पेन से ताल्लुक रखते हैं तो उनकी भाषा भी स्पैनिश है. हालांकि रॉर्बेटो तीन आधिकारिक भाषाओं में बात करते हैं. इनमें फ्रेंच, फ्लेमिश और जर्मन शुमार हैं. लेकिन अपने खिलाड़ियों से बात करने में वो अंग्रेज़ी भाषा का इस्तेमाल करते हैं.

    द सन की रिपोर्ट के मुताबिक हाल ही में कोच रॉबेर्टो ने कहा था कि कोचिंग में कई भाषाएं बोलने का फायदा होता है. और फुटबॉल की भाषा में ही वो अपनी टीम के खिलाड़ियों से बात करते हैं.

    News18 Hindi

    स्विट्ज़रलैंड टीम में भी भाषाई विविधता
    कई भाषी खिलाड़ियों वाली बेल्जियम की टीम अलग नहीं है. ऐसी खूबियों वाली स्विट्ज़रलैंड टीम भी फीफा वर्ल्ड कप खेल रही है. इस टीम में खिलाड़ी जर्मन, फ्रेंच, इटेलियन और रोमेंश में बात करते हैं.

    1993 से 2001 के बीच स्विस टीम के लिए फुटबॉल खेलने वाले रोमन वेगा बताते हैं कि भाषाई अंतर टीम के लिए काफी विभाजी साबित हुआ. इसके चलते एक ही टीम के खिलाड़ी लंच और डिनर के दौरान अलग-अलग टेबलों पर बैठा करते थे.

    स्विट्ज़रलैंड के पूर्व कोच रॉय हॉगसन आमतौर पर फ्रेंच में बात करते थे लेकिन सभी को समझाने के लिए दूसरी भाषाओं का इस्तेमाल करना पड़ता था.

    Tags: 2018 FIFA WORLD CUP, Fifa world cup, FIFA World Cup 2018, Football

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें