दुनिया के अलग-अलग कोनों में कैसे मनाया जाता है नया साल?

हैप्पी न्यू इयर 2021. (तस्वीर pixabay से साभार)

Happy New Year 2021 : कोई कार्निवाल, मेला, होटल, मॉल, क्लब या किसी ग्रुप में जाकर पार्टी करना, नाच-गाकर नया साल मनाने का आइडिया नयी बात नहीं है. रोचक फैक्ट्स (New Year Facts) ये हैं कि नये साल के जश्न के साथ कौन सी मान्यताएं या अंधविश्वास या परंपराएं जुड़ गई हैं.

  • Share this:
    आपको पता है कि कई देश अलग-अलग समय पर नववर्ष मनाते हैं क्योंकि उनका कैलेंडर अंग्रेज़ी या रोमन कैलेंडर (Roman Calendar) से मेल नहीं खाता. फिर भी रोमन कैलेंडर के अनुसार नये साल के स्वागत का जश्न दुनिया भर में सबसे बड़े पैमाने पर मनाया जाता है. इसके साथ कई विश्वास और परंपराएं भी जुड़ चुकी हैं. हालांकि इस साल Covid-19 के चलते जश्न कुछ जगहों पर काफी सीमित रह सकता है, फिर भी मान्यताओं पर फर्क पड़ने की उम्मीद कम ही है. आइए आपको बताते हैं कि दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में नये साल के स्वागत से किस तरह की दिलचस्प बातें (Unknown Facts of New Year Celebrations) जुड़ी हुई हैं.

    प्लेटें तोड़कर स्वागत की परंपरा
    अगर आपको दरवाज़े पर कई सारी थालियां टूर्टी हुई मिलें, तो आप कन्फ्यूज़ हो सकते हैं. लेकिन, डेनमार्क में इस बात से हैरानी नहीं होती. यहां मान्यता है कि आने वाला साल खुशकिस्मती लेकर आएगा इसलिए डेनमार्क में लोग अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के घर जाकर उनके दरवाज़े पर प्लेटें तोड़कर फेंक देते हैं. यह शुभकामना संदेश की तरह होता है.

    ये भी पढ़ें :- Bye-Bye 2020 : कोरोना समेत कितनी प्राकृतिक आपदाओं ने कितना कहर ढाया?

    आतिशबाज़ी के नज़ारे
    नये साल के स्वागत में पटाखे फोड़ना शायद सबसे आम तरीका है. 31 दिसंबर और 1 जनवरी की मध्यरात्रि में कई देशों में इस तरह जश्न मनाया जाता है. इस बार संभव है कि कोरोना के कारण भीड़ न जुटने के निर्देश कई जगह हों, फिर भी पटाखों पर बैन लगने संबंधी खबरें नहीं हैं. नये साल के स्वागत में आतिशबाज़ी के नज़ारों के लिए न्यूज़ीलैंड का ऑकलैंड स्काय टावर काफी मशहूर है. इसी तरह, ऑस्ट्रेलिया में सिडनी हार्बर पर भी आतिशबाज़ी दर्शनीय होती है. इनके अलावा, कनाडा के टोरंटो, ब्राज़ील के रियो में भी आसमान रंग बिरंगे पटाखों से नहाता है.

    happy new year, new year message, new year greetings, new year celebrations, हैप्पी न्यू इयर, नववर्ष की खबर, नववर्ष की शुभकामनाएं, नववर्ष की बधाई
    सिडनी हार्बर पर आतिशबाज़ी के नज़ारे. (Image Pixabay)


    दाल खाने का रिवाज
    ब्राज़ील में नये साल के स्वागत के लिए अनोखी परंपरा है. नये साल के मौके पर यहां लोग खास तौर पर दाल पकाकर खाते हैं. दाल को धन दौलत का प्रतीक माना जाता है इसलिए यहां मान्यता है कि दाल खाई जाए तो नये साल में समृद्धि हासिल होती है.

    ये भी पढ़ें :- 'जाना है तो जाओ..' 2014 से कितनी पार्टियां छोड़ चुकीं एनडीए का साथ?

    12 बजते ही अंगूर खाना
    स्पेन में प्रचलित परंपरा को सुनकर आप हैरान भी हो सकते हैं और यह आपको बहुत दिलचस्प भी लग सकता है. स्पेन में जैसे ही घड़ी में 12 बजते हैं तो लोग अंगूरों की तरफ टूट पड़ते हैं. मान्यता है कि घड़ी में मध्यरात्रि का समय होते ही हर बार अंगूर खाने से आने वाले 12 महीने आपके लिए भाग्य और खुशहाली लाते हैं.

    ये भी पढ़ें :- 140 सालों में सबसे बड़े भूकंप से क्रोएशिया में कैसे बना हिरोशिमा जैसा संकट?

    घंटियां बजाना
    नये साल के स्वागत से जुड़ी परंपराओं को लेकर अगर एशियाई देशों की बात की जाए तो जापान और ​दक्षिण कोरिया में घंटी बजाने सबसे कॉमन बात है. जगह जगह पूर्व संध्या पर लोग घंटी बजाते हुए दिखते हैं. जापान में तो मान्यता के हिसाब से 108 बार घंटी बजाना शुभ माना जाता है इसलिए वहां शोर काफी होता है.

    happy new year, new year message, new year greetings, new year celebrations, हैप्पी न्यू इयर, नववर्ष की खबर, नववर्ष की शुभकामनाएं, नववर्ष की बधाई
    जापान और कोरिया में घंटी बजाकर किया जाता है नये साल का स्वागत. (Image Pixabay)


    भालू बनकर डांस
    क्रिसमस पर बच्चों या बड़ों के सैंटा की पोशाक पहनने के बारे में आपने सुना होगा लेकिन रोमानिया में नववर्ष का स्वागत करने के लिए लोग भालू जैसी पोशाक पहनकर डांस करते हैं. इसके पीछे मान्यता है कि नये साल में बुरी आत्माओं से छुटकारा मिले. अस्ल में, पुरानी रोमनियाई कहानियों में भालू काफी स्पेशल रहे हैं और लोगों की रक्षा व इलाज करने तक के लिए मददगार माने जाते हैं.

    ये भी पढ़ें :- कौन है यह सऊदी एक्टिविस्ट, जिसे सालों प्रताड़ित कर अब आतंकी कहा गया

    चीज़ें फेंक देना
    अमेरिका में टाइम्स स्क्वायर पर नये साल का सबसे अहम जश्न होता है और सबकी निगाहें झंडे के लंबे खंभे से नीचे उतरती एक रंगीन चमकती गेंद पर होती है. अस्ल में यह नये साल के लिए काउंटडाउन का प्रतीक है. इसके बाद कई अमेरिकी शहरों में देखा जाता है कि लोग नववर्ष की पूर्व संध्या पर पारंपरिक तौर पर कुछ चीज़ें ऊंचाई से फेंकते हैं. मिसाल के तौर पर इंडियाना में लोग ऊंचाई से तरबूज़ फेंकते हैं.

    ये भी पढ़ें :- खेलों में 'पिछड़ी जाति' तब भी अभिशाप थी, अब भी कलंक है..!

    अफ्रीका में भी अनोखी मान्यता
    दक्षिण अफ्रीका के जोहानिसबर्ग में मान्यता है कि नये साल के स्वागत में घर का गैर ज़रूरी सामान बाहर कर दिया जाता है. लेकिन इसे कबाड़ी को बेचना या फिर रीसेल करने जैसा सिस्टम नहीं है बल्कि अपनी खिड़कियों से लोग खास तौर से पुराना फर्नीचर बाहर फेंकते हैं. इसके पीछे मान्यता यही है कि नये साल में नया सौभाग्य उन्हें हासिल हो.

    happy new year, new year message, new year greetings, new year celebrations, हैप्पी न्यू इयर, नववर्ष की खबर, नववर्ष की शुभकामनाएं, नववर्ष की बधाई
    न्यू इयर पर साउथ अमेरिका में सूटकेस वॉक प्रचलित है. (Image Pixabay)


    खाली सूटकेस के साथ घूमना
    दक्षिण अमेरिका के कुछ देशों में नये साल की पूर्व संध्या के मौके पर आप लोगों को सामान्य जगहों पर सूटकेस लिये हुए घूमते देख सकते हैं. इसके पीछे लोग मानते हैं कि खाली सूटकेस लेकर वॉक करने का मतलब यह है कि आने वाला साल रोमांचों से भरा रहेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.