कोरोना संक्रमण से कितने सुरक्षित हैं स्विमिंग पूल, क्या कहते हैं विशेषज्ञ

कोरोना संक्रमण से कितने सुरक्षित हैं स्विमिंग पूल, क्या कहते हैं विशेषज्ञ
भारत में अभी स्विमिंग पूल खोलने की अनुमति नहीं दी गई है

लॉकडाउन (Lock down) खुलने की तैयारी के बीच एक सवाल यह भी उठता है कि क्या स्विमिंग पूल (Swimming Pool) कोरोना वायरस से सुरक्षित है.

  • Share this:
नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona Virus) के कारण देश में लॉकडाउन (Lock down) का चौथा चरण शुरू हो चुका है. कई गतिविधियों को शर्तों के साथ छूट मिली है, लेकिन इसमें इस बात का ध्यान रखा गया है कि सोशल डिस्टेंसिंग बदस्तूर जारी रहे. खेलों को भी शुरू करने की इजाजत मिल गई है, लेकिन अभी दर्शकों के बीच खेल आयोजित नहीं किया जा सकता. लेकिन क्या स्विमिंग पूल (Swimming Pool) शुरू हो सकते हैं और उससे भी बड़ा सवाल स्विमिंग पूल कोरोना वायरस से कितने सुरक्षित हैं.

पानी से कितना है खतरा
इस मामले में सबसे पहला सवाल यही है कि क्या कोरोना वायरस पानी में जिंदा रह सकता है. अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (CDC) का कहना है कि अभी तक इस बात के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि सार्स कोव 2 लोगों में स्विमिंग पूल, हॉट टब, स्पा, यह पानी के खेल वाले पूल के पानी के जरिए फैल सकता है.

स्विमिंग पूल में क्यों नहीं टिक सकते वायरस



इसकी वजह यह है कि स्विमिंग पूलों में क्लोरीन और कीटाणुनाशकों का प्रयोग सार्स कोव 2 को भी खत्म कर सकता है. क्लोरीन पानी में से सार्स कोव 2 सहित इन कीटाणुओं की आधे घंटे के अंतर खत्म कर सकता है.  इसके अलावा अन्य कीटाणुनाशक जैसे ब्रोमीन, अल्ट्रावॉलेट किरणें भी इस वायरस के खात्मे में उसी तरह से सक्षम हैं.



Coronavirus
कोरोना वायरस के स्विमिंग पूल में पनपने की संभावना नहीं है.(सांकेतिक चित्र)


और कौन से कारक है स्विमिंग पूल के लिए
इसके अलावा सूर्य की किरणें भी वायरस को खत्म करने में मददगार होती है. इसलिए आउटडोर पूल इंडोर पूर के मुकाबले बेहतर स्थिति में होंगे. वहीं मौसम भी एक भूमिका निभा सकता है. तेज धूप वाले मौसम की तुलना में बादलों और नमी वाला मौसम ज्यादा बेहतर होगा. लेकिन डिसइंफेक्टेंट का सही और नियमित प्रयोग से ये दो कारक मायने नहीं रखेंगे.

लेकिन एक समस्या यह भी तो हो सकती है
विशेषज्ञों का मानना है कि समस्या पानी नहीं स्विमिंग पूल का उपयोग करने वाले लोग हो सकते हैं. अगर संक्रमित व्यक्ति स्विमिंग पूल का उपयोग करता है, तो संक्रमण फैलने के अन्य कारगर और आसान तरीके हैं जिन पर ध्यान देने की जरूरत है. सोशल डिस्टेंसिंग यहां भी मायने रखेगी.

खतरा पानी से नहीं हवा से है
फिर भी सबसे बड़ा कारक हवा है जिससे संक्रमण फैलता है पानी नहीं. स्विमिंग पूल में संक्रमण की संभावना शून्य इसलिए नहीं है क्योंकि हम पूरे समय पानी में नहीं रहते हैं. किसी के छींकने, खांसने से, संक्रमित सतहों (जैसे चेंजिंग रूम या शावर रूम) को छूने से संक्रमण फैलने की संभावना अधिक होगी. शोध से पता चला है कि कोरोना वायरस स्टील और प्लास्टिक की सतहों पर 72 घंटों तक रह सकता है जिसमें स्विमिंग पूल की सीढ़ियां, डेक चेयर, दरवाजों के हैंडल आदि शामिल है.

Coronavirus
कोरना वायरस पानीै में नहीं हवा में घातक होता है.


तो फिर स्विमिंग पूल कितना सेफ है
यह ऐसे तय किया जाना चाहिए कि स्विमिंग पूल एक पब्लिक प्लेस है, सार्वजनिक स्थल है. वहां जाने में उन्हीं सावधानियों को बरता जाना जाहिए जो हमें एक सार्वजनिक स्थानों पर बरतने की जरूरत होती हैं. बेशक ऐसे में निजी स्विमिंग पूल उतने ही सुरक्षित है जितना हमारा घर. बाकी नियमों का भी वैसे ही पालन करें जैसा की दूसरी जगहों पर करते हैं.

यह भी पढ़ें:

ठीक हो चुके Covid-19 मरीजों की बढ़ सकती है मुसीबत, चीन में जारी हुई खास सूची

कोरोना वायरस से कैसे लड़ेगा आपका शरीर, Genes करते हैं इसका फैसला

हवा में कैसे फैलता है कोरोना वायरस, Fluid Dynamics से इसे समझिए

तेजी से हो सके कोरोना वैक्सीन ट्रायल, इसके लिए रूस में खास चूहे होंगे तैयार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading