कैसे शुरू हुई शंकराचार्य परंपरा..देशभर में कितने मठ और कितने प्रमुख

कैसे शुरू हुई शंकराचार्य परंपरा..देशभर में कितने मठ और कितने प्रमुख
देश में शंकराचार्य पंरपरा बहुत पुरानी है. माना जाता है कि सनातन हिंदू धर्म को जिंदा रखने और मजबूती देने का काम इसी से हुआ

देश में शंकराचार्य पंरपरा बहुत पुरानी है. माना जाता है कि सनातन हिंदू धर्म को जिंदा रखने और मजबूती देने का काम इसी से हुआ

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2018, 4:01 PM IST
  • Share this:
शंकराचार्य हिंदू धर्म में सर्वोच्च धर्म गुरु का पद है जो बौद्ध धर्म में दलाईलामा एवं ईसाई धर्म में पोप के समकक्ष है. माना जाता है कि देश में चार मठों के चार शंकराचार्य होते हैं.

कब हुई शंकराचार्य की शुरुआत
इस पद की शुरुआत आदि शंकराचार्य से मानी जाती है. आदि शंकराचार्य एक हिंदू दार्शनिक और धर्मगुरु थे, जिन्हें हिंदुत्व के सबसे महान प्रतिनिधियों में एक के तौर पर जाना जाता है. आदि शंकराचार्य ने सनातन धर्म की प्रतिष्ठा के लिए भारत के चार क्षेत्रों में चार मठ स्थापित किये.

कैसे बने शुरुआती शंकराचार्य
चारों मठों में प्रमुख को शंकराचार्य कहा गया. इन मठों की स्थापना करके आदि शंकराचार्य ने उन पर अपने चार प्रमुख शिष्यों को आसीन किया. तबसे ही इन चारों मठों में शंकराचार्य पद की परम्परा चली आ रही है.हर मठ का अपना एक विशेष महावाक्य भी होता है.



मठ का मतलब क्या है
मठ का अर्थ ऐसे संस्थानों से है जहां इसके गुरु अपने शिष्यों को शिक्षा, उपदेश आदि देने का काम करते हैं. इन्हें पीठ भी कहा जाता है. ये गुरु प्रायः धर्म गुरु होते है. दी गई शिक्षा मुख्यतः आध्यात्मिक होती है. एक मठ में इन कार्यो के अलावा सामाजिक सेवा, साहित्य आदि से संबंधित काम होते हैं. मठ एक ऐसा शब्द है जिसके बहुधार्मिक अर्थ हैं. बौद्ध मठों को विहार कहते हैं. ईसाई धर्म में इन्हें मॉनेट्री, प्रायरी, चार्टरहाउस, एब्बे इत्यादि नामों से जाना जाता है.

Goverdhana_matha
गोवर्द्धन मठ


कौन संन्यासी किस मठ का
देश भर में संन्यासी किसी न किसी मठ से जुड़े होते हैं. संन्यास लेने के बाद दीक्षित नाम के बाद एक विशेषण लगा दिया जाता है जिससे यह संकेत मिलता है कि यह संन्यासी किस मठ से है. वेद की किस परम्परा का वाहक है. सभी मठ अलग-अलग वेद के प्रचारक होते हैं.

आदि शंकराचार्य कौन थे
आदि शंकराचार्य (जन्म नाम: शंकर, जन्म: 788 ई. - मृत्यु: 820 ई.) अद्वैत वेदांत के प्रणेता, संस्कृत के विद्वान, उपनिषद व्याख्याता और हिन्दू धर्म प्रचारक थे. हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार इनको भगवान शंकर का अवतार माना जाता है. इन्होंने लगभग पूरे भारत की यात्रा की. इनके जीवन का अधिकांश भाग उत्तर भारत में बीता.

चार पीठों की स्थापना करना इनका मुख्य रूप से उल्लेखनीय काम था. उन्होंने कई ग्रंथ लिखे. किन्तु उनका दर्शन उपनिषद, ब्रह्मसूत्र और गीता पर लिखे उनके भाष्यों में मिलता है.
आदि शंकराचार्य ने चारों मठों के अलावा पूरे देश में बारह ज्योतिर्लिंगों की भी स्थापना की थी. आदि शंकराचार्य को अद्वैत परंपरा का प्रवर्तक माना जाता है.

क्या है शंकराचार्य बनने की योग्यता
देश की चारों पीठों पर शंकराचार्य की नियुक्ति के लिए ये योग्यता जरूरी है- त्यागी ब्राम्हण हो, ब्रह्मचारी हो, डंडी सन्यासी हो, संस्कृत, चतुर्वेद, वेदांत और पुराणों का ज्ञाता हो, राजनीतिक न हो.

JyothirMutt
ज्योर्तिमठ (फोटोःविकीकॉमंस)


कहां हैं शंकराचार्यों के चार मठ
ये चारों मठ ईसा से पूर्व आठवीं शताब्दी में स्थापित किए गए थे. ये चारों मठ आज भी चार शंकराचार्यों के नेतृत्व में सनातन परंपरा का प्रचार व प्रसार कर रहे हैं. हर शंकराचार्य को अपने जीवनकाल में ही सबसे योग्य शिष्य को उत्तराधिकारी बनाना होता है. ये चार मठ देश के चार कोनों में हैं.

उत्तरामण्य मठ या उत्तर मठ, ज्योतिर्मठ जो कि जोशीमठ में स्थित है
पूर्वामण्य मठ या पूर्वी मठ, गोवर्धन मठ जो कि पुरी में स्थित है
दक्षिणामण्य मठ या दक्षिणी मठ, शृंगेरी शारदा पीठ जो कि शृंगेरी में स्थित है.
पश्चिमामण्य मठ या पश्चिमी मठ, द्वारिका पीठ जो कि द्वारिका में स्थित है.

श्रृंगेरी मठ
ये दक्षिण भारत में चिकमंगलूर में स्थित है. श्रृंगेरी मठ के अन्तर्गत दीक्षा प्राप्त करने वाले संन्यासियों के नाम के बाद सरस्वती, भारती तथा पुरी संप्रदाय नाम विशेषण लगाया जाता है जिससे उन्हें उक्त संप्रदाय का संन्यासी माना जाता है. इस मठ के प्रथम मठाधीश आचार्य सुरेश्वरजी थे, जिनका पूर्व में नाम मण्डन मिश्र था.
मठ का महावाक्य- 'अहं ब्रह्मास्मि'
मठ का वेद - 'यजुर्वेद'
मौजूदा शंकराचार्य - स्वामी भारती कृष्णतीर्थ (36वें मठाधीश)

Shringeri
श्रृंगेरी मठ (फोटोः विकीकॉमंस)


गोवर्धन मठ
ये भारत के पूर्वी भाग में ओडिशा राज्य के जगन्नाथ पुरी में स्थित है. गोवर्धन मठ के अंतर्गत दीक्षा प्राप्त करने वाले सन्यासियों के नाम के बाद 'आरण्य' सम्प्रदाय नाम विशेषण लगाया जाता है. इस मठ के प्रथम मठाधीश आदि शंकराचार्य के प्रथम शिष्य पद्मपाद हुए
मठ का महावाक्य - 'प्रज्ञानं ब्रह्म'
मठ का वेद - 'ऋग्वेद'
मौजूदा शंकराचार्य - निश्चलानंद सरस्वती (145 वें मठाधीश)

शारदा मठ
शारदा (कालिका) मठ गुजरात में द्वारकाधाम में स्थित है. शारदा मठ के अंतर्गत दीक्षा प्राप्त करने वाले सन्यासियों के नाम के बाद 'तीर्थ' और 'आश्रम' सम्प्रदाय नाम का विशेषण लगाया जाता है. शारदा मठ के प्रथम मठाधीश हस्तामलक (पृथ्वीधर) थे. वो शंकराचार्य के प्रमुख चार शिष्यों में एक थे.
मठ का महावाक्य - 'तत्त्वमसि'
मठ का वेद - 'सामवेद'
मौजूदा शंकराचार्य - स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती (79 वें मठाधीश)

Adi_Shankara_math
शारदा मठ


ज्योतिर्मठ
उत्तरांचल के बद्रीनाथ में स्थित है ज्योतिर्मठ. यहां दीक्षा लेने वाले संन्यासियों के नाम के बाद 'गिरि', 'पर्वत' एवं ‘सागर’ संप्रदाय नाम विशेषण लगाया जाता है. ज्योतिर्मठ के प्रथम मठाधीश आचार्य तोटक बनाए गए थेमठ का महावाक्य - 'अयमात्मा ब्रह्म'
मठ का वेद - अथर्ववेद
मौजूदा शंकराचार्य - स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती (44 वें मठाधीश). हालांकि यहां शंकराचार्य पद को लेकर विवाद भी हुआ.

--
इसके अला्वा कांची कामकोटि मठ
कांची मठ कांचीपुरम में स्थापित एक हिंदू मठ है. यह पांच पंचभूतस्थलों में एक है. यहां के मठाधीश्वर को शंकराचार्य कहते हैं. इसे आदि शंकराचार्य ने स्थापित किया था. आज ये दक्षिण भारत के महत्त्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में एक है. इसके शंकराचार्य अब तक श्रीजयेंद्र सरस्वती थे. अब उनके निधन के बाद विजेंद्र सरस्वती इसके 70वें शंकराचार्य होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading