लाइव टीवी

लॉकडाउन के दौरान फेक न्यूज या अफवाहें वायरल करने से कैसे बचें

Vikas Sharma | News18Hindi
Updated: March 28, 2020, 11:20 PM IST
लॉकडाउन के दौरान फेक न्यूज या अफवाहें वायरल करने से कैसे बचें
लॉकडाउन के बीच सोशल मीडिया पर अफवाहें भी फैल रही हैं. ऐसे में लोगों को बहुत सावधान होने की जरूरत है.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के असर के चलते देश भर में लॉकडाउन है. ऐसे में सोशल मीडिया पर गलत जानकारी वायरल होने की आशंका ज्यादा है. लोगों को इससे सावधान होने की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2020, 11:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: देश भर में कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते लाकडाउन (Lock Down) की स्थिति बनी हुई है. जहां सरकार तरह-तरह से लोगों को लॉकडाउन के दौरान कोरोना से बचने के उपायों की जानकारी दे रही है. वहीं सोशल मीडिया पर अफवाहों की आशंका भी जोरों पर हैं. फेसबुक (Facebook), वाट्सऐप (Whatsapp) जैसे प्लेटफॉर्म भी बता रहे हैं कि कौन सी बातें अफवाहों की तरह वायरल हो रही हैं. अनजाने में किसी फेक न्यूज या अफवाह को वायरल करने से बचने के लिए कुछ खास बातें ध्यान रखें.

लॉकडाउन में है और सावधानी की जरूरत
इस समय लॉकडाउन के कारण लोग घर में फुर्सत का समय बिता रहे हैं. ऐसे में वे सोशल मीडिया पर ज्यादा समय बिता रहे हैं. इस दौरान लोग एकदूसरे को अपने पास आने वाली खबरें और वीडियो भी शेयर कर रहे हैं. ऐसे में इस बात पर ध्यान देने की ज्यादा जरूरत है कि कहीं अनजाने में वे कोई फेक न्यूज या अफवाह तो नहीं फैला रहे हैं या उसका जरिया तो नहीं बन रहे हैं. इसलिए बीबीसी ने अपने एक लेख में विशेषज्ञों की मदद से लोगों के लिए सलाह दी है. विशेषज्ञों का कहना है कि जहां इस समय लोगों को अपनी हेल्थ के मामले में पर्सनल हाइजीन को ध्यान रखना है, तो वहीं उन्हें ‘इंफॉर्मेशन हाइजीन’ (Information Hygiene) पर भी खास ध्यान देने की जरूरत है.

कोरोना वायरस इस समय दुनिया में तेजी से फैल रहा है. Corona Virus is spreading very fast all over the world
कोरोना वायरस इस समय दुनिया में तेजी से फैल रहा है.




पहले रुकें और सोचें


सबसे पहले लोगों को रुकने की आदत डालनी होगी. आम तौर पर सोशल मीडिया में जैसे ही हमारे पास कोई मैसेज आता है, हम उसे तुरंत शेयर करने के बारे में सोचने लगते हैं. जब भी सोशल मीडिया पर कोई मजेदार खबर या जरूरी सलाह के नाम पर मैसेज आता है तो उसे तुरंत शेयर नहीं करें. थोड़ा रुकेंं और सोचें कि क्या यह खबर सच है या क्या यह आगे बढ़ाना जरूरी है. विशेषज्ञों का कहना है कि केवल इतना ही करने से बहुत सी फेक न्यूज और अफवाहें वायरल होने से बच सकती हैं.

अपने स्रोत को जाचें
आप कोई भी मैसेज, वीडियो या खबर आगे शेयर करने से पहले कुछ सवालों की मदद से खबर की जांच कर लें. किसी ‘फ्रेंड के फ्रेंड’ या ‘मेरे अंकल के सहकर्मी के पड़ोसी’ से आए मैसेज के गलत होने की संभावना ज्यादा रहती है. ऐसे में आपको सावधान होना होगा. इस तरह के कुछ मामले पकड़े भी गए हैं. कई मैसेज में आधी अधूरी जानकारी होती है, जिसके आधार पर हम गलत को भी सही मान लेते हैं. जैसे कुछ संदेशों में कोरोना वायरस से बचने के लिए हाथ धोने की सलाह के साथ बीमारी की जांच करने की गलत जानकारी दी गई थी.

Coronavirus, lockdown
कोरोना वायरस के प्रकोप को कम करने के लिए देश को 21 दिन के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है.


ब्रिटेन की एक तथ्य जांचने वाली संस्था फुल फैक्ट के डिप्टी एडिटर क्लैयर मलने का कहना है कि विश्वसनीय सूत्रों पर ही भरोसा करें. उन्होंने उदाहरण दिया कि अमेरिका में लोक स्वास्थ्य संस्थाएं जैसे एनएचएस, विश्व स्वास्थ्य संगठन, सीडीसी की जानकारियों पर ही भरोसा करें. विशेषज्ञ हमेशा सही नहीं हो सकते, लेकिन वे उन लोगों से ज्यादा विश्वसनीय होते हैं जो वहाट्सएप के अजनबी दोस्तों के रिश्तेदार हैं.

कितनी फेक है जानकारी
जो दिखाई दे रहा है वह एक धोखा हो सकता है. कई बार बड़े अधिकारियों, वेबसाइटों, न्यूज चैनल्स तक के नकली अकाउंट बनाकर असली की तरह पेश किए जाते हं. इंटरनेट की दुनिया में इसे फिशिंग तकनीक कहते हैं. सोशल मीडिया पर स्क्रीन शॉट्स लेकर भी उन अकाउंट्स का आभास दे दिया जाता है जिसके झांसे में कई लोग आ जाते हैं. इसीलिए वैरिफाइड अकाउंट्स और बेवसाइट से जानकारी जांचने की आदत डालें. यदि आपको आसानी से वह जानकारी नहीं मिल रही है तो हो सकता है आपके पास आई जानकारी फेक हो, गलत हो, अफवाह हो. कैपिटल लैटर्स, असंगत फोंट्स वाली भाषा ये संकेत देती है कि आपकी पोस्ट गलत या भ्रामक जानकारी देने वाली हो सकती हैं.

सोशल मीडिया पर कुछ बातों को ध्यान रख कर लोग अफवाहों को वायरल होने से रोक सकते हैं. People can stop fake news from being viral by little attentiveness
सोशल मीडिया पर कुछ बातों को ध्यान रख कर लोग अफवाहों को वायरल होने से रोक सकते हैं.


जब तक सुनिश्चित न हों, शेयर न करें
कोई भी ऐसा मैसेज वीडियो या जानकारी शेयर न करें जो आपको सही नहीं लगता है भले ही उसके सही होने की संभावना हो तो भी. आप इससे किसी का भला नहीं तो नुकसान भी तो नहीं करेंगे. हम ऐसी पोस्ट शेयर कर देते हैं जिसमें हम जानते हैं उसमें डॉक्टर्स या अन्य विशेषज्ञ हैं तब ठीक है, लेकिन अपने संदेहों के बारे में पहले सुनिश्चित कर लें और यह भी ध्यान रखें  कि लोग मशहूर विशेषज्ञों की तस्वीर लगाकर भी गलत जानकारी फैला सकते हैं.  साथ ही यह भी याद रखें कि आप जो जानकारी आगे दे रहे हैं उस पोस्ट में से उन विशेषज्ञों की तस्वीर हटाई भी जा सकती है.

हर तथ्य को जाचें
कई इस तरह के मैसेज भी शेयर किए जा रहे हैं मेरा एक दोस्त चीन में रहता है उसने मुझे यह जानकरी भेजी है, तो सावधान हो जाएं. इस तरह के वीडियो और वॉइस मैसेज वाट्स एप पर बहुत शेयर हो रहे हैं. इनमें मिली जुली जानकारी भी हो सकती है. ऐसे में एक बात के सच होने के कारण हम बाकी पर भी यकीन करने लगते हैं. इस तरह के संदेशों के हर तथ्य की जांच करें.  कई बार आपात काल जैसी स्थिति बताकर आपको कुछ करने को भी कहा जा सकता है. इसे भी जांचें.

किस भावना से शेयर कर रहे हैं संदेश
पहले से ही धारणा बनाने से बचें. क्या आप कोई पोस्ट इसलिए शेयर कर रहे हैं कि वह सही है या सिर्फ इसलिए कि आप उससे सहमत हैं. कई बार हम केवल गुस्से में प्रतिक्रिया करके कोई मेसेज फॉरवर्ड कर देते हैं. जैसे टीम इंडिया के हारने पर कई फैंस टीम के खिलाड़ियों पर अपना गुस्सा उतारते हैं मीम्स बना कर अपने मैसेज वायरल करने की कोशिश करते हैं. लेकिन इसे ट्रोलिंग कहा जाता है. कई आप अंजाने में तो ट्रोलिंग नहीं कर रहे हैं. कई बार ट्रोल मैसेज अफवाह की शक्ल भी ले लेते हैं.

यह भी पढ़ें:
कोरोना वायरस : कैसे चपेट में आया यूरोप? सिंगापुर से कैसे ले सकता था सबक?


कोरोना से बेखौफ एक देश, जहां ना बंद ना रोक-टोक, फुटबाल लीग भी जारी

कोरोना वायरस में नहीं हो रहा म्‍यूटेशन, लंबे समय तक कारगर होगी बनने वाली दवा

अमेरिका में हुए कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज, ट्रम्प को बताया जा रहा जिम्मेदार

कोरोना वायरस के संक्रमण से अपने घर और परिवार को कैसे बचाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 9:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading