• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • इंसान के दिमाग और शरीर के आकार में बदलाव के लिए जलवायु है जिम्मेदार- शोध

इंसान के दिमाग और शरीर के आकार में बदलाव के लिए जलवायु है जिम्मेदार- शोध

मानव विकास (Human Evolution) में जलवायु की भूमिका के लिहाज से विस्तृत अध्ययन पहले कभी नहीं किया गया. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

मानव विकास (Human Evolution) में जलवायु की भूमिका के लिहाज से विस्तृत अध्ययन पहले कभी नहीं किया गया. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

Human Evolution: शोधकर्ताओं ने पाया है कि मानव विकासक्रम में इंसानी शरीर (Body) में हो रहे बदलावों में जलवायु (Climate) की भी भूमिका है.

  • Share this:
    समय के साथ हर प्राणी में बदलाव होता है और इंसान (Humans) इसका अपवाद नहीं हैं. अपने उद्भवकाल में इंसान में बहुत से बदालव आए हैं. आधुनिक मानव जिसे होमो सेपियन्स (Homo sapiens) कहा जाता है उसमें भी बदलाव हो रहे हैं. यह अलग बात है कि हाल में हुए बदलावों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता है. लेकिन फिर भी हमारे वैज्ञानकों की इस पर पूरी नजर रहती है कि हममें क्या बदलाव आ रहे हैं और किस वजह से आ रहे हैं. इन बदलावों में प्रमुख है हमारे शरीर आकार आकार और मस्तिष्क. नए अध्ययन के अनुसार शोधकर्ताओं का कहना है कि इनकी वजह हमारी जलवायु (Climate) है.

    मानव विकास के पीछे कारक
    कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी और जर्मनी की ट्यूबिनजेन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने होमो वंश के 300 जीवाश्म का अध्ययन किया और उस आंकड़ों के साथ क्लाइमेट मॉडल्स के साथ जोड़कर मानव विकास में उसकी भूमिका की पहचान की. यह अध्ययन नेचर जर्नल में प्रकाशित हुआ है. इसमें कहा गया है कि बहुत से मत बताते हैं कि मानव विकास के पीछे पर्यावरण, जनसांख्यकीय, सामाजिक, खुराक औक तकनीक कारकों की भूमिका है.

    तापमान की भूमिका
    शोधकर्ताओं ने पाया है कि होमोसेपियन्स में पिछले दस लाख सालों में उनके शरीर के आकार के निर्धारण के पीछे तापमान के प्रमुख भूमिका रही है. उन्होंने यह जानने का प्रयास किया कि जीवाश्म को अपने काल में किसी तरह के तापमान, वर्षण और जलवायु संबंधी हालात का समाना करना पड़ा जब वे जीवित थे.

    Environment, Human Evolution, Human Brain, Human body Size, Climate, Evolution, Homo sapiens
    मानव विकास (Human Evolution) के अध्ययन में मानव शरीर पर पर्यावरण के रोचक प्रभाव देखने के मिले हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


    दो प्रमुख लक्षण
    इस अध्ययन के बाद शोधकर्ताओं का कहना ह कि शरीर और मस्तिष्क का आकार किसी प्रजाति की अनुकूलन रणनीति के दो प्रमुख जैविक लक्षण हैं. हाल के अध्ययनों ने शरीर और मस्तिष्क के आकार में विविधता के आंकलन को बेहतर और विस्तृत किया है. शोधकर्ताओं का कहना है कि पिछले 40 लाख सालों में मानव विकास मोटे तौर पर लगातार अपने भार और संरचना में वृद्धि का चलन दिखा रहा है.

    तीन दिन में गायब हो गई थी अंटार्कटिका की झील, NASA सैटेलाइट ने बताया कैसे

    जलवायु के प्रभाव की भूमिका
    पाया गया है कि मानव मस्तिष्क का आकार बढ़ने के साथ बर्ताव से जुड़े बदालव, खुराक और जनसांख्यिकीय विस्तार भी हो रहे हैं. लेकिन पिछले बीस लाख सालों में होमोसेपियन्स के आकार के औसत में 50 से 70 किलोग्राम तक की वृद्धि हो चुकी है. इस पर जलवायु के प्रभाव को जानने के लिए शोधकर्तां ने लंबे समय के ग्लेशियर और अंतरग्लेशिर जलवायु विविधताओं का अपने अध्ययन में शामिल किया जो पृथ्वी की सूर्य का चक्कर लगाने वाली कक्षा  एवं ग्रीन हाउस गैसों जैसे कारकों को शामिल किया.

    Environment, Human Evolution, Human Brain, Human body Size, Climate, Evolution, Homo sapiens
    लाखों साल पुराने जीवाश्मों (Fossils) के अध्ययन से यह भी पता चला है कि मानव मस्तिष्क पर भी जलवायु का असर हुआ है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


    ये विशेष प्रभाव
    मानवशरीर का भार ठंडे वातावरण में ज्यादा पाया गया जबकि गर्म वातारवरण में कम भार होता है. ऐसा ही अवलोकन ध्रुवीय भालू अन्य जानवरों में भी पाया गया. अपने अवलोकनों के आधार पर शोधकर्ता दिमाग के आकार का जलवायु के हालात से संबंध स्थापित करने में सफल रहे. उन्होंने कहा कि वे लंबी अवधि तक वर्षा में विविधता के साथ संबंध का पता लगा सके जिसमें उन्होंने पाया कि मस्तिष्क का आकार लंबी वर्षा अवधि के स्तर बढ़ने से छोटा होता गया.

    चींटियां खाने के लिए अपना आकार छोटा करते गए थे ये डायनासोर- चीनी शोध

    विश्लेषण में यह भी पाया गया कि तापमान का मस्तिष्क के आकार से कोई संबंध नहीं हैं. जिससे पता चला कि पिछले दस लाख सालों में पर्यावरण के कारकों का होमोसेपियन्स के मस्तिष्क पर शरीर के आकार की तुलना में कम असर हुआ. खुले वातावरण में शिकार की रणनीति के बर्ताव में बदलाव भी देखने को मिले हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज