मुंबई की जान है 'ह्यूमंस ऑफ बॉम्बे', जिसे PM मोदी तक दे चुके हैं इंटरव्यू

वर्ष 2014 में फेसबुक पर एक पेज शुरू हुआ "ह्यूमंस ऑफ बाम्बे", देखते ही देखते हजारों लाखों लोग इसके दीवाने हो गए. ये फेसबुक का पहला पेज है, जिसे प्रधानमंत्री मोदी ने इंटरव्यू दिया

News18Hindi
Updated: May 13, 2019, 2:04 PM IST
मुंबई की जान है 'ह्यूमंस ऑफ बॉम्बे', जिसे PM मोदी तक दे चुके हैं इंटरव्यू
वर्ष 2014 में फेसबुक पर एक पेज शुरू हुआ "ह्यूमंस ऑफ बाम्बे", देखते ही देखते हजारों लाखों लोग इसके दीवाने हो गए. ये फेसबुक का पहला पेज है, जिसे प्रधानमंत्री मोदी ने इंटरव्यू दिया
News18Hindi
Updated: May 13, 2019, 2:04 PM IST
फेसबुक का एक पेज है- "ह्यूमंस ऑफ बाम्बे". बाम्बे यानी मुंबई.सच कहें तो ये पेज अब मुंबई की जान बन चुका है. इस पेज में मुंबई ना केवल धड़कती है बल्कि ऐसे लोगों और ऐसी कहानियों को सामने लाती है, जो आम होते हुए खास होती हैं. हैरानी हो सकती है कि फेसबुक पर भारत में किसी ऐसे पेज की दस लाख के आसपास फॉलोइंग हो. ये पेज पांच साल पहले शुरू हुआ था. अब ये ऐसा फेसबुक पेज भी है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इंटरव्यू के लिए चुना था.

'ह्यूमंस ऑफ बॉम्बे' को पांच साल पहले उस लड़की ने शुरू किया था, जो ह्यूमंस ऑफ न्यूयॉर्क पेज की दीवानी थी. उसमें पब्लिश होने वाली दुख-सुख और आम लोगों की बड़ी कहानियां पढ़कर मुग्ध रह जाती थी. ये लड़की बॉम्बे की ही थी. लंदन में पढ़ रही थी, लेकिन उसके दिमाग में वो सपना बड़ा होता जा रहा था, जो बॉम्बे के आम लोगों के जीवन से जुड़ा हो.



इन सात तरीकों से हो सकता है पृथ्वी का सर्वनाश, आंधी-तूफान हैं इशारे?

उस लड़की का नाम है...

उस लड़की का नाम है करिश्मा मेहता. उम्र 26 साल. सोशल मीडिया से वाकिफ हर युवा उनके बारे में जानता है. आप कह सकते हैं कि वो सोशल मीडिया की स्टार हैं. वो अपने पेज पर फोटो के साथ जो भी डालती हैं, वो हजारों पाठकों के नजरों से गुजरता है. उस पर चर्चा शुरू हो जाती है. मसलन उनके "ह्यूमंस ऑफ बाम्बे" ने पिछले दिनों ये स्टोरी डाली, जिसे हर कोई पढ़ रहा है और फिर उस पर चर्चा कर रहा है.

ये कहानी चर्चा में है
ये स्टोरी दिल्ली के एक दंपती कविता और हिमांशु से ताल्लुक रखती है, जिन्होंने डाउन सिंड्रोम से ग्रस्त बच्चे को गोद लिया है. इससे पहले एक मां और सात साल की बेटी के संघर्ष की कहानी को ना केवल सराहा बल्कि जमकर प्रतिक्रियाएं भी दीं. इस पेज पर आने वाली कुछ कहानियों के बाद बड़े पैमाने पर लोगों ने दिल खोलकर मदद भी की.
Loading...

ह्यूमंस ऑफ बाम्बे को शुरू करने वाली करिश्मा मेहता


कहानियां टूटने-बिखरने और जुड़ने की
पांच साल में सैकड़ों सफलता, नाकामी, उम्मीदों, सपनों की कहानियां ह्यूमंस ऑफ बाम्बे में जगह पा चुकी हैं. इन कहानियों में शादी का टूटना, रिश्तों का दरकना, ड्ग्स की लत, हिम्मत की गाथा की ऐसी कहानियां भी होती हैं, जो हर पढ़ने वाले से कुछ कहती हैं, रुलाती हैं, हंसाती हैं और मदद के लिए हाथ आगे बढाने को प्रेरित करती हैं.

हम सबके पास होती है एक कहानी
दरअसल हममे से हर किसी के पास अपनी एक कहानी है. ह्यूमंस ऑफ बाम्बे लोगों के पास जाती है, आमतौर पर वो लोग, जो कहीं भी मिल सकते हैं, समुद्र तट पर, सड़क पर, पार्क में. बहुत से लोग अपनी कहानी कहने के इच्छुक होते हैं, बहुत बिल्कुल नहीं. ये चुनौती भी होती है कि इन कहानियों को कैसे दिया जाए कि लोग उन्हें पढ़ने और जुड़ने पर मजबूर हो जाएं.

इस जज ने प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को कोर्ट में बुलाकर छह घंटे तक कटघरे में बिठाया था

जब ये पेज शुरू किया
करिश्मा मेहता ने जब फेसबकु पर अपना ये पेज शुरू किया, तो उनके पेरेंट्स को लगा कि उनकी बेटी क्या कर रही है, वो रोज कैमरा लेकर ना जाने कहां निकल जाती है. लेकिन धीरे धीरे जब "ह्यूमंस ऑफ बाम्बे" को चर्चा मिलनी शुरू हो गई, उन्हें लगता है कि उनकी बेटी एक बढिया काम कर रही है.

ह्यूमंस ऑफ बाम्बे अपनी स्टोरीज पर एक किताब निकाल चुकी है. अब दूसरी की तैयारी है


करिश्मा अब भी रोज पांच से दस लोगों से मिलती हैं. उनसे उनकी कहानियां पूछती हैं. अब तो बहुत सी कहानियां खुद चलकर आती हैं. ये संभव नहीं कि हर कहानी को जगह मिल पाए, लेकिन जिन्हें वो जगह देती हैं, उससे जुड़े सारे पहलुओं पर खासा रिसर्च भी करती हैं.
अब दूसरी किताब निकलने वाली है

"ह्यूमंस ऑफ बाम्बे" में आई कहानियों की इस कदर मांग रही है कि उस पर एक किताब निकल चुकी है और दूसरी किताब लगता है कि जल्दी ही भविष्य में प्रकाशित हो जाएगी.

मोदी के इंटरव्यू पर
प्रधानमंत्री मोदी के इंटरव्यू के बारे में करिश्मा ने एक अखबार से कहा कि हमारा उद्देश्य सिर्फ इतना था कि देश के बड़े पद पर बैठे इंसान की कहानी के बारे में लोगों को पता चले.
"ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे" अब पूरे देश में लोकप्रिय हो रहा. उसकी एक बड़ी टीम बनती जा रही है. दिल्ली, पुणे, बेंगलुरू, चेन्नई और अहमदाबाद जैसे शहरों से लोग इसके लिए स्टोरीज कर रहे हैं.

यूपी की इस चुनाव अधिकारी के सामने फेल हैं हीरोइनें, TikTok पर हैं बेहद मशहूर
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...