लाइव टीवी
Elec-widget

अगर कंप्यूटर पर आए ऐसा मैसेज तो कतई ना करें ये काम

News18Hindi
Updated: November 30, 2019, 3:07 PM IST
अगर कंप्यूटर पर आए ऐसा मैसेज तो कतई ना करें ये काम
कंप्युटर पर आ रहे किसी भी तरह के पॉपअप को क्यों क्लिक ना करें

अगर आपके कंप्युटर पर बार बार ये लिखा आता हो कि किसी वायरस ने आपके डिवाइस पर हमला कर दिया है तो ये एक फ्राड हो सकता है. ये किसी भी पॉपअप क्यों ना करें कभी क्लिक और क्यों इसके दिए नंबर पर नहीं करें कॉल

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 3:07 PM IST
  • Share this:
अगर आपके कंप्यूटर पर लगातार ऐसे पॉपअप आते हैं, जिनमें लिखा हो कि आपके कंप्यूटर पर वायरस का हमला हुआ है तो सावधान हो जाइए. क्योंकि यह आपके साथ एक बड़े फ्रॉड की शुरुआत भी हो सकती है. दरअसल एक पूरी इंडस्ट्री इसी तरह के फर्जीवाड़े में जुटी हुई है.

बड़ी संख्या में भारत में लोगों को इस फर्जीवाड़े से जुड़े गिरोह ने अपना शिकार बनाया है. इंटरनेट यूज करते लोगों के सामने अचानक से एक पॉपअप खुल रहा है, जिसमें लिखा होता है कि आपके कंप्यूटर पर वायरस का हमला हुआ है. या आपके कंप्यूटर में वायरस आ गया है. और अगर आप इससे बचना चाहते हैं तो एक नंबर पर कॉल करें.

यह नंबर अक्सर पॉप-अप पर दिए लिंक के अंदर दिया होता है. यह नंबर भी अक्सर एक टोल-फ्री नंबर होता है और जैसा कि लोगों की अक्सर आदत होती है, वे फ्री में मिल रही हर चीज की ओर आकर्षित होते हैं. ऐसे ही आकर्षित होकर वे इस टोल-फ्री नंबर पर कॉल भी कर देते हैं.

हर पांच में से चार लोग कर देते हैं कॉल

दरअसल ऐसे पॉपअप हम सभी ने अपनी-अपनी कंप्यूटर स्क्रीन पर कई बार देखे हैं और शायद कुछ ने फोन भी किया हो लेकिन एक स्टडी में सामने आया है कि हर पांच में से एक आदमी ऐसा जरूर होता है जो पॉप-अप में दिए टोल फ्री नंबर पर कॉल कर देता है.

इन पॉपअप के साथ अक्सर एक नंबर दिया जाता है, जिन पर कॉल करने को कहा जाता है, ऐसा कतई नहीं करें


ये कॉल फेक टेक सपोर्ट सेंटर में किए गए होते हैं. इसके बाद टेक सर्विस प्रोवाइड कराने के नाम पर उन्हें कंप्यूटर सुरक्षा के लिए अपना एंटीवायरस खरीदने के लिए प्रेरित किया जाता है, वैसे अभी तक उपलब्ध आंकड़ो के हिसाब स टोल-फ्री पर कॉल करने वाले लोगों में से 6 फीसदी लोग इस फर्जी प्रोडक्ट के लिए पैसे दे भी देते हैं.
Loading...

यह बात माइक्रोसॉफ्ट के एक कंज्यूमर सर्वे से सामने आई है. हालांकि इस तरह की ठगी का सबसे बड़ा शिकार अमेरिकी होते हैं. लेकिन माइक्रोसॉफ्ट ने भारत और चीन को मुख्य ठिकाना पाया है जहां ऐसे फेक कॉल सेंटर चलाए जा रहे हैं. माइक्रोसॉफ्ट ने अपनी स्टडी के लिए 16 देशों का अध्ययन किया था.

142 वेब डोमेन में एक जैसे ही पॉप-अप भेजकर यह धोखाधड़ी चल रही है. इससे करोड़ों की धोखाधड़ी हो जाती है


अमेरिका की स्टोनी ब्रुक यूनिवर्सिटी की एक स्टडी ने इस बारे में पिछले साल भी एक खुलासा किया था. जिसमें कहा गया था कि 142 वेब डोमेन में एक जैसे ही पॉप-अप भेजकर यह धोखाधड़ी चल रही है. और इससे मात्र दो महीनों में करीब 7 करोड़ तक की धोखाधड़ी हो जाती है.

ऑनलाइन सॉल्यूशन भारत का बड़ा और प्रमुख बिजनेस है
ऑनलाइन सॉल्यूशन एक ऐसा बिजनेस है जिसमें भारत बहुत अच्छा करता है. यह 28 बिलियन डॉलर की आउटसोर्सिंग इंडस्ट्री है. जिसमें फिलहाल करीब 12 लाख लोग काम करते हैं. पिछले साल आई हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार ऐसी ही एक फर्जीवाड़ा कंपनी का खुलासा हुआ था.

यह भी पढ़ें: इन कामों को निपटाने के मामले में इंसानों को कोसों पीछे छोड़ चुके हैं रोबोट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 3:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...