लाइव टीवी

मध्य प्रदेश: ये थे इनकम टैक्स के सबसे बड़े छापे, जब रेड मारने पहुंचे थे 90 अधिकारी और 200 पुलिसवाले

News18Hindi
Updated: April 9, 2019, 11:02 AM IST
मध्य प्रदेश: ये थे इनकम टैक्स के सबसे बड़े छापे, जब रेड मारने पहुंचे थे 90 अधिकारी और 200 पुलिसवाले
कानपुर में व्यापारी सरदार इंदर सिंह के घर रेड मारने वाले अधिकारी

कानपुर में हुई इनकम टैक्स की यह कार्रवाई करीब 18 घंटे तक चली थी. जिसमें करोड़ों रुपये नकद बरामद हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 9, 2019, 11:02 AM IST
  • Share this:
दिल्ली की आयकर टीम की ओर से सोमवार को मध्यप्रदेश में करीब 50 ठिकानों पर बड़ी रेड को अंजाम दिया गया. कहा जा रहा है जिनके ठिकानों पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने रेड की वे मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी हैं. इस दौरान करीब 281 करोड़ रुपए के कैश रैकेट का पर्दाफाश हुआ. लेकिन यह आयकर विभाग की सबसे बड़ी कार्रवाई नहीं थी. आयकर का सबसे बड़ा छापा आज से करीब चार दशक पहले पड़ा था. यह कार्रवाई इतनी बड़ी थी कि इसे अंजाम देने के लिए 90 आयकर अधिकारी और करीब 200 पुलिसकर्मी आए थे.

38 साल पहले कानपुर में पड़ी थी यह रेड
आयकर विभाग ने की सुबह कानपुर में कांग्रेस के विधायक और बड़े व्यापारी सरदार इंदर सिंह के घर पर छापेमारी की कार्रवाई की थी. 90 आयकर अधिकारियों ने एक साथ तत्कालीन आयकर अधीक्षक लखनऊ के नेतृत्व में यह कार्रवाई की थी. इस दौरान आयकर अधिकारियों की सुरक्षा के लिए करीब 200 पुलिसकर्मी मौजूद थे. यह कार्रवाई करीब 18 घंटे तक चली. इस दौरान करीब 1.6 करोड़ रुपए नकद, इसके साथ ही सोना व अन्य दस्तावेज भी बरामद किए गए.

जब ग्रामीणों के हत्थे चढ़ी थी आयकर टीम

आयकर विभाग की एक कार्रवाई इतनी चर्चित हुई कि उस पर 'रेड' फिल्म बनी. यह कार्रवाई 14 सितंबर को उत्तर प्रदेश के मुजफफरनगर के दो कारोबारियों की फैक्ट्रियों और घरों पर की गई. आरोपियों में पेपर मिल का मालिक हरीश छाबड़ा और ज्वैलर चितरंजन स्वरूप शामिल थे. इस दौरान आयकर विभाग के करीब 88 अधिकारियों ने 2 करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति को पकड़ा था. यह कार्रवाई आराम से चल रही थी, तभी कुछ ग्रामीणों को छाबड़ा पर हो रही कार्रवाई का पता चल गया. बात बिगड़ने लगी और बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने आयकर विभाग की टीम पर पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में ही हमला कर दिया. इस दौरान कई आयकर अधिकारी घायल हुए. जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. उनमें से कुछ हमेशा के लिए अपाहिज भी हो गए. छाबड़ा पर की गई इस कार्रवाई के दौरान भीड़ ने कुछ आयकर अधिकारियों को नग्न करके भी पीटा.

तीन दिन तक चलती रही रेड
आयकर विभाग की एक रेड करीब तीन दिन तक चली. इसे देश में IT की सबसे बड़ी रेड माना जाता है. यह कार्रवाई नामी व्यापारिक समूह छजलानी ग्रुप पर की गई थी. इस दौरान करीब 230 करोड़ की अघोषित संपत्ति का खुलासा हुआ था. 2012 में इंदौर में हुई इस कार्रवाई के कुछ समय बाद ही समूह ने आरोप स्वीकार कर अघोषित संपत्ति सरेंडर कर दी थी.यह भी पढ़ें: भारत की वो जेल जिसमें बंद है सिर्फ एक कैदी, कई अधिकारी करते हैं रखवाली

नॉलेज की खबरों को सोशल मीडिया पर भी पाने के लिए 'फेसबुक' पेज को लाइक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 9, 2019, 10:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर