गोतस्करी के लिए बदनाम मेवात की देशभक्ति के बारे में कितना जानते हैं आप?

मेवात: रूपडाका गांव के 425 लोगों को अंग्रेजों ने गोली मार दी थी, जबकि अलग-अलग घटनाओं में 470 मेवातियों को उनके अपने गांवों में फांसी दे दी गई थी

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: August 15, 2018, 2:43 PM IST
गोतस्करी के लिए बदनाम मेवात की देशभक्ति के बारे में कितना जानते हैं आप?
गोतस्करी के लिए बदनाम मेवात में वतनपरस्ती की सच्ची कहानियां
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: August 15, 2018, 2:43 PM IST
जिस मेवात को गोतस्करी के लिए बदनाम किया गया है उसके डेढ़ हजार से अधिक लोग प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में देश की रक्षा के लिए वीरगति को प्राप्त हो गए थे. मतलब ये है कि 'जलियांवाला बाग' जैसे तीन नरसंहार. इतिहास के इन पन्नों को पलटिए तो यहां के ज्यादातर गांवों में वतनपरस्ती की एक से बढ़कर एक मिसाल मिलेंगी. रूपडाका गांव के 425 लोगों को तो अंग्रेजों ने गोली मार दी थी. जबकि अलग-अलग घटनाओं में विद्रोह की वजह से 470 मेवातियों को उनके अपने गावों में फांसी पर लटका दिया गया. दस गांवों को अंग्रेजों ने जला दिया था. उन शहीदों की याद में यहां के गई गांवों में मीनारें बनवाई गई हैं, जो आज भी यहां के लोगों की देशभक्ति की गौरवगाथा बयां कर रही हैं.

मेवात में रणबांकुरों की देशभक्ति और कुर्बानियों की गाथाएं भरी पड़ी हैं. 1857 की प्रथम आजादी की लड़ाई से लेकर आजादी मिलने तक के संघर्ष में यहां के लोगों ने अपना बलिदान देते हुए अदम्य साहस का परिचय दिया है. लेकिन इस वक्त यहां के लोगों को सिर्फ खास चश्मे से देखा जा रहा है. इस क्षेत्र के रहने वाले पहलू खान, उमर मोहम्मद, तालिम और अकबर उर्फ रकबर को गोरक्षा के नाम पर पीट-पीटकर मार डाला गया.

 स्वतंत्रता दिवस, independence day, मेवात के स्वतंत्रता सेनानी, freedom fighter of mewat, mewat, मेवात, haryana, हरियाणा, cow politics, गाय की राजनीति, muslim freedom fighter, मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानी, Cow smuggling, गोतस्करी, freedom struggle of 1857, 1857 का स्वतंत्रता संग्राम, रूपडाका        रूपडाका गांव: शहीदों की याद में बनी मीनार

गुड़गांव गजेटियर के मुताबिक में मेव मुसलमानों ने साल 1800  के शुरुआत से ही अंग्रेजों की नाक में दम कर रखा था. 1803 में अंग्रेज-मराठों के बीच हुए लसवाड़ी के युद्ध में मेव छापामारों ने दोनों ही सेनाओं को नुकसान पहुंचाया और लूटपाट की थी. अंग्रेज इससे काफी नाराज थे. तभी से मेवातियों को सबक सिखाने के लिए मौके का इंतजार कर रहे थे.

साल 1806  में नगीना के नौटकी गांव के रहने वाले मेवातियों ने मौलवी ऐवज खां के नेतृत्व में अंग्रेज सेना को काफी नुकसान पहुंचाया. इस हार से अंग्रेज घबरा गए और दिल्ली के रेजीडेंट मिस्टर सेक्टन को सन 1807 में अपने अधिकारियों को एक पत्र के जरिए समझाया कि मेवातियों के साथ समझौता कर लेना  चाहिए. हालांकि ये अंग्रेजों की चाल थी और वो सही समय का इंतजार कर रहे थे, जो मौका उन्हें नवंबर 1857 में मिल गया. बताया जाता है कि 10 मई 1857 को चांद खान नामक मेवाती सैनिक ने अंग्रेजों पर गोलियां बरसा दी थीं. बाद में विरोध की यह आग पूरे देश में फैल गई. दरअसल, 1806 की  लड़ाई के बाद से ही मेवात के किसानों पर अंग्रेजों के जुल्म बढ़ने लगे थे.

संविधान निर्मात्री सभा के सदस्य रहे स्वतंत्रता सेनानी रणवीर सिंह हुड्डा के पुत्र एवं हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह ने अपनी पुस्तक ‘विकास की उड़ान अभी बाकी है’ में मेवातियों की वीरता का विस्तार से जिक्र किया है.

हुड्डा लिखते हैं “मई 1857 की जो क्रांति बैरकपुर से शुरू हुई थी वो 12 मई को मेवात पहुंच चुकी थी. तावडू, घासेड़ा, नूंह, पिनगवां और पुन्हाना में अंग्रेजों के खिलाफ बगावत का आगाज हुआ. मेवात के आसपास के दर्जनों गांवों के लोगों ने अंग्रजों के खिलाफ मोर्चा संभाल लिया. इस बात की भनक जब अंग्रजी हुकूमत को लगी तो वायसराय ने कैप्टन डूमंड नायक की अगुवाई में रूपडाका गांव को घेरने के लिए फौज भेज दी. 19 नवंबर 1857 को फौज ने गांव पर धावा बोल दिया. लेकिन यहां के जांबाजों ने डटकर मुकाबला किया. इस गांव के चार सौ से अधिक शहीद हो गए.”
 स्वतंत्रता दिवस, independence day, मेवात के स्वतंत्रता सेनानी, freedom fighter of mewat, mewat, मेवात, haryana, हरियाणा, cow politics, गाय की राजनीति, muslim freedom fighter, मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानी, Cow smuggling, गोतस्करी, freedom struggle of 1857, 1857 का स्वतंत्रता संग्राम, रूपडाका        मेवात के शहीद


“बहादुर मेवातियों ने अपने क्षेत्र को फिरंगियों के पंजे से छुड़ा लिया. गुड़गांव का तत्कालीन डिप्टी कमिश्नर विलियम फोर्ड भौंडसी के रास्ते मथुरा भाग गया... गांव-गांव में मेवातियों को पेड़ों पर फांसी के फंदे डालकर लटका दिया गया. कई गांवों को लूटा और जलाया गया. लेकिन मेवातियों में देशभक्ति का जोश कम नहीं हुआ.”

महर्षि दयानन्द यूनिवर्सिटी में इतिहास की शोध छात्रा रहीं शर्मिला यादव ने '1857 के विद्रोह के पश्चात दमन चक्र: मेवात का एक अध्ययन' नाम से अपनी एक रिसर्च में लिखा है कि ‘20 सितंबर 1857 को अंग्रेजों ने दिल्ली पर कब्ज़ा कर लिया था और उन्हें हरियाणा में मौजूद मेव विद्रोही खटक रहे थे. दिल्ली पर कब्जे के बाद पूरे एक साल तक अंग्रेजी सेना ने  हरियाणा में दमन किया. 8 नवंबर 1857 को अंग्रेजों ने मेवात के सोहना, तावडू, घासेडा, रायसीना और नूंह सहित सैकड़ों गांवों में कहर बरसाया था.

‘अंग्रेजों की कुमाऊं बटालियन का नेतृत्व लेफ्टिनेंट एच ग्रांट कर रहे थे. यह दस्ता कई गांवों को तबाह करता हुआ गांव घासेड़ा पहुंचा.  जहां 8 नवंबर को गांव के खेतों में अंग्रेज और मेवातियों के बीच जबरदस्त लड़ाई  हुई. इसमें घासेड़ा के 157 लोग शहीद हुए लेकिन जवाबी कार्रवाई में उन्होंने  अंग्रेज अफसर मेकफर्सन का कत्ल कर दिया.

19 नवंबर 1857 को मेवात के बहादुरों को कुचलने के लिये बिग्रेडियर जनरल स्वराज, गुडग़ांव रेंज के डिप्टी कमिश्नर विलियम फोर्ड और कैप्टन डूमंड के नेतृत्व में टोहाना, जींद प्लाटूनों के अलावा भारी तोपखाना सैनिकों के साथ मेवात के रूपडाका, कोट, चिल्ली, मालपुरी पर जबरदस्त हमला बोल दिया. इस दिन अकेले गांव रूपडाका के 425 मेवाती बहादुरों को बेरहमी से कत्ल कर दिया गया.

इतिहासकार बताते हैं कि इस दौरान अंग्रेजों ने मेवात के सैकड़ों गांवों में आग भी लगा दी. लेकिन सरकार मानती है कि 10 गांवों को आग के हवाले किया गया था. इनकी सूची मेवात के जिला मुख्यालय नूंह में लगाई गई है.

शर्मिला यादव के मुताबिक ‘इतिहासकारों ने 1857 के दौरान मेवातियों के कुर्बानियों को इतिहास के पन्नों में जगह देने में कंजूसी की है. मेवातियों को अपने देश की स्वाधीनता के बदले भारी जुल्मों को सहना पड़ा. विद्रोह इतना जबरदस्त था कि उसे दबाने के लिए अंग्रेजों को कई बार हार का सामना करना पड़ा और उनके सेनाधिकारी भाग खड़े हुए.”

 स्वतंत्रता दिवस, independence day, मेवात के स्वतंत्रता सेनानी, freedom fighter of mewat, mewat, मेवात, haryana, हरियाणा, cow politics, गाय की राजनीति, muslim freedom fighter, मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानी, Cow smuggling, गोतस्करी, freedom struggle of 1857, 1857 का स्वतंत्रता संग्राम, रूपडाका       जला दिए गए थे ये गांव

यादव के मुताबिक अंग्रजों ने मेवात में क्रांति की ज्वाला को मिटाने के लिए बड़ी क्रूरता का परिचय दिया. उन्होंने कई गांवों को तबाह कर दिया और न जाने कितने व्यक्ति लड़ते-लड़ते शहीद हो गए. मेवात में अंग्रजों के दमनचक्र के दौरान 20 सितंबर 1857 से सितंबर 1858 तक लगभग 1,522 मेवाती मारे गए. जबकि पूरे हरियाणा से 3,467 व्यक्ति मारे गए थे. दिसंबर 1857 से लेकर सितंबर 1858 के बीच 470 मेवातियों को उनके अपने गावों में फांसी दी गई. विद्रोह को दबाने के लिए गुड़गांव का डिप्टी कलेक्टर विलियम फोर्ड आया परन्तु लोगों ने उनके साथ कड़ी लड़ाई लड़ी और भाग जाने पर मजबूर कर दिया.

मेवात के पत्रकार राजुद्दीन कहते हैं “यह दुर्भाग्य ही है जिस मेवात के लोग देश की रक्षा के लिए अंग्रेजों की गोली खाई, फांसी पर झूल गए उसे आज लोग सिर्फ गोस्तरों के अड्डे के रूप में जानते हैं. सौ-दो सौ गोतस्करों की वजह से यहां के नायकों का बलिदान धूमिल कर दिया गया.”
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...