लोकसभा चुनाव 2018: वो उम्मीदवार जो 170 बार चुनाव हारे फिर भी लड़ रहे हैं चुनाव

लोकसभा चुनाव 2018: वो उम्मीदवार जो 170 बार चुनाव हारे फिर भी लड़ रहे हैं चुनाव
डॉ के पद्मराजन

इन्होंने न सिर्फ क्षेत्रीय और संसदीय चुनाव लड़े बल्कि राष्ट्रपति के चुनाव में भी भाग लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 29, 2019, 2:56 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
कुछ लोग कोशिश करने से कभी नहीं थकते. ऐसे ही लोगों में से हैं डॉ के. पद्मराजन. 1988 से अब तक वे 170 चुनाव लड़ चुके हैं और सारे ही चुनाव हारे हैं लेकिन फिर भी वे लगातार चुनाव लड़ रहे हैं. अब उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में 'भारत के सबसे असफल उम्मीदवार' के तौर पर दर्ज हो चुका है.

डॉ के. पद्मराजन तमिलनाडु के सलेम से आते है. ये वही सलेम है जहां इलाज के लिए जाते हुए वीरप्पन का एनकाउंटर हुआ था. डॉ पद्मराजन की मूंछें भी तमिलनाडु से आने वाले मशहूर क्रांतिकारी कट्टाबोमन जैसी हैं. खुद भी पद्मराजन किसी क्रांतिकारी से कम नहीं हैं तभी तो साठ साल की उम्र में भी उनका उत्साह खत्म नहीं हुआ है.

डॉ पद्मराजन, एक होमियोपैथिक डॉक्टर थे लेकिन बाद में उन्होंने खुद का बिजनेस शुरू कर दिया था. अब उन्होंने खुद को ऑल इंडिया इलेक्शन किंग कहना शुरू कर दिया है. इतने दिनों में डॉ पद्मराजन ने न सिर्फ क्षेत्रीय और संसदीय चुनाव लड़े बल्कि राष्ट्रपति के चुनाव में भी भाग लिया. चाहे जितनी बार भी डॉ पद्मराजन की जमानत जब्त हो जाए, उन्हें इससे कोई खास फर्क नहीं पड़ता है.



अभी तक डॉ पद्मराजन अटल बिहारी वाजपेयी, मनमोहन सिंह, प्रणब मुखर्जी, एपीजे अब्दुल कलाम, जयललिता और करुणानिधि जैसे कद्दावर नेताओं के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं.



यह भी पढ़ें: भारत की इस अकेली सीट पर EVM नहीं बैलेट पेपर से पड़ेंगे वोट, ये है कारण
First published: March 29, 2019, 2:04 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading