सूर्यकिरण से पहले भी खतरनाक हादसों का शिकार हुए है वायुसेना के विमान, देखें Videos

News18Hindi
Updated: February 19, 2019, 3:54 PM IST

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 19, 2019, 3:54 PM IST
  • Share this:
बेंगलुरु में एयर शो के दौरान वायुसेना के दो सूर्यकिरण विमान बीच आसमान में एक दूसरे से टकरा गए. विमान में सवार एक पायलट की मौत हो गई, वहीं एक अन्य पायलट और दो आम लोग घायल हो गए हैं. बता दें सूर्यकिरण टू सीटर विमान होते हैं. सूर्यकिरण विमान एयरफोर्स की एक्रोबेटिक टीम का हिस्सा हैं. इन विमानों का इस्तेमाल खास तौर पर ट्रेनिंग और एयर शो में करतब दिखाने के लिए होता है.

सूर्यकिरण में हॉक विमानों का इस्तेमाल होता है. पुराने किरण विमान की तुलना में हॉक काफी एडवांस है. ये बेहद तेज है. पहले सूर्यकिरण टीम इंटरमीडिएट जेट ट्रेनर किरण का इस्तेमाल करती थी. ये नौ विमानों के फॉर्मेशन में उड़ान भरते थे.


27 मई 1996 को बीदर में सूर्यकिरण टीम का गठन किया गया और फिर 1998 में बेंगलुरू में हुए एयरशो के दौरान इसने अपना जलवा दिखाया. श्रीलंका से लेकर सिंगापुर तक इसके 450 से ज्यादा शो हुए. एयरो इंडिया 2011 में सूर्यकिरण को बंद कर दिया गया, लेकिन इसके बाद 2015 में नए कलेवर के साथ सूर्य किरण की वापसी हुई.
Loading...

ये भी पढ़ें- राफेल आने के बाद कितनी मजबूत होगी वायु सेना?

सूर्यकिरण विमान में करतब जहां 450 से 500 किलोमीटर की रफ्तार पर दिखाते थे वहीं हॉक में ये करतब 750 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से करने पड़ते है.

ये ज्यादा देर तक हवा में उड़ सकते हैं, इसके एवियोनिक्स काफी अच्छे हैं. किरण विमान में कंट्रोल मैनुअल था तो इसमें हाइड्रोलिक. हालांकि किरण विमान धीमी गति का विमान होने की वजह से इसके कारनामे आसानी से देखे जा सकते थे लेकिन हॉक में ये मुमकिन नहीं है.

इससे पहले भी कई ऐसे विमान हादसे हुए हैं जिनमें वायुसेना के विमान क्रैश हुए हैं पिछले साल जून में ही गुजरात में आईएएफ जैगुआर जेट क्रैश हुआ था. इसमें विमान के पाइलेट को चोटें आईं थीं.



जुलाई 2018 में हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में हुए एक और हादसे में भारतीय वायुसेना का मिग 21 फाइटर एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया था. इस हादसे में विमान के पायलट की मौत हो गई थी.



सितंबर 2018 में ही हुए एक अन्य हादसे में राजस्थान के जोधपुर में भारतीय वायुसेना का मिग 27 विमान क्रैश हो गया था. विमान में आग लगने की वजह से वह पूरी तरह से जल कर राख हो गया था. हादसे में पायलटों की जान बच गई थी.



वहीं साल 2015 में ओडिशा के मयूरभंज में भारतीय वायुसेना का फाइटर ट्रेनर एयरक्राफ क्रैश हुआ था. इस हादसे में विमान के दोनों पायलट बाल-बाल बचे थे.



ये भी पढ़ें- 'एक बार फिर से एक शहीद मारा गया', मिराज 2000 प्‍लेन क्रैश में मारे गए पायलट पर लिखी कविता वायरल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Bangalore से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 19, 2019, 3:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...