Home /News /knowledge /

खुलासा: वैक्सीन लेने के बाद भी बना रहेगा कोरोना का खतरा

खुलासा: वैक्सीन लेने के बाद भी बना रहेगा कोरोना का खतरा

इसकी शुरुआती वैक्सीन वायरस पर कारगर नहीं भी हो सकती है (Photo-pixabay)

इसकी शुरुआती वैक्सीन वायरस पर कारगर नहीं भी हो सकती है (Photo-pixabay)

कोरोना की वैक्सीन (coronavirus vaccine) बनाने के लिए दुनिया में होड़ लगी हुई है, लेकिन हाल ही में वैज्ञानिकों ने एक नई ही बात सामने रखी, जो डराने वाली है. कहा जा रहा है कि शुरुआती वैक्सीन वायरस पर कारगर नहीं भी हो सकती (initial corona vaccine may not prevent from infection) है.

अधिक पढ़ें ...
    कोविड-19 (Covid-19) का आंकड़ा ग्लोबली 81 लाख से ऊपर जा चुका है. बहुत से देशों ने हाल ही में लॉकडाउन खत्म किया है, जबकि कई देश अब नए हॉटस्पॉट के तौर पर (new global hotspot of coronavirus) उभर रहे हैं. इसी बीच वैक्सीन बनाने की तैयारी भी जोरों पर है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) समेत कई लैब्स ने वैक्सीन का ट्रायल (corona vaccine trial) भी शुरू कर दिया है. माना जा रहा है कि जितनी जल्दी वैक्सीन बनेगी, लोग उतनी जल्द पुराने कामकाज लौट सकेंगे. हालांकि वैज्ञानिकों की नई बात डरा रही है. उन्होंने साफ किया है कि जल्दबाजी में लाई जाने वाली नई वैक्सीन की कई लिमिटेशन होंगी. जैसे हो सकता है कि वे मरीज को मौत से बचा लें या गंभीर हालत से बचा सकें लेकिन बीमार होने से नहीं बचा सकेंगी.

    क्या कहते हैं वैज्ञानिक
    इस बारे में इंपीरियल कॉलेज के प्रोफेसर रॉबिन शैटॉक कहते हैं कि ये टीका इंफेक्शन के लिए आपको सुरक्षित शायद न करे लेकिन ये बीमारी को गंभीर अवस्था तक ले जाने से बचा सकेगा. ये बात तब सामने आई है, जब दुनिया के बहुतेरे देश वैक्सीन बनाने या बनाई जा रही पोटेंशियल वैक्सीन के डोज की खरीदी पर करोड़ों-अरबों लगा दिए हैं. वैक्सीन की जरूरत इतनी ज्यादा है कि बड़ी से लेकर छोटी फार्मा रिसर्च कंपनियों जैसे चीन की CanSino Biologics Inc को भी भारी फंडिंग दी गई है.

    कोविड-19 का आंकड़ा ग्लोबली 81 लाख से ऊपर जा चुका है (Photo-pixabay)


    फिलहाल कई कंपनियां अगले 2 से 3 महीने में वैक्सीन उतारने का दावा कर रही हैं. ये वे कंपनियां हैं, जिनका पशुओं पर ट्रायल सफल रहा है और अब ये ह्यूमन ट्रायल के स्तर पर हैं. माना जा रहा है कि ट्रायल सफल होने पर दवा सिर्फ इंफेक्शन के गंभीर होने को रोक सके तो भी उसे मार्केट में उतार दिया जाएगा. इस बीच प्रयोग चलता रहेगा, जब तक कि दूसरी असरदार वैक्सीन न आ जाए जो बीमारी से ही बचा सके.

    हो सकता है ये खतरा
    हालांकि वैक्सीन अगर केवल सीवियरटी रोक सके और इंफेक्शन न रोक पाए तो लोगों में अफरातफरी मच सकती है. जैसे वैक्सीन लेने के बाद लोग मान सकते हैं कि वे सेफ हैं और रुटीन में लौट सकते हैं. लेकिन भीड़ या संक्रमित लोगों के संपर्क में आने पर वे बीमार हो जाएंगे. इससे भ्रम और डर के हालात पैदा हो सकते हैं.

    बिना लक्षणों के लोग फैलाएंगे इंफेक्शन
    सेंट लुइस में वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक माइकल किंच के मुताबिक ऐसे हालात पैदा होने की काफी संभावना है. कोरोना के मामले में ये और भी खतरनाक इसलिए है क्योंकि पहले ही बिना लक्षणों के मरीजों के कारण संक्रमण लगातार फैल रहा है. ऐसे में अगर वैक्सीन ले चुके लोग कोरोना पॉजिटिव हुए और उनके लक्षण इतने माइल्ड रहे कि खुद उन्हें बीमारी का पता न चले तो ऐसे में वे बीमारी के वाहक का काम कर सकते हैं. यानी संक्रमण की दर और बढ़ सकती है.

    प्रयोग चलता रहेगा, जब तक कि दूसरी असरदार वैक्सीन न आ जाए जो बीमारी से ही बचा सके (Photo-pixabay)


    वैक्सीन एक खास तरह से काम करती है. इसके तहत शरीर में असक्रिय वायरस डाले जाते हैं. इससे शरीर में इनके खिलाफ एंटीबॉडी तैयार हो जाती है. बाद में अगर असल वायरस का हमला हो, तब ये एंटीबॉडी या इम्यून प्रोटीन शरीर में उसकी एंट्री रोक देता है. इस तरह से हम बीमारी से सुरक्षित रहते हैं.

    बता दें कि फिलहाल दुनिया के अलग-अलग 130 हिस्सों में कोरोना के टीके पर काम चल रहा है. इनमें से कई को WHO का अप्रूवल भी मिल चुका है. इनमें से चीन की फार्मा कंपनी Sinovac Biotech Ltd. और यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड सबसे आगे हैं. यहां तक कि कई देश वैक्सीन के सफल होने के बाद उसकी खरीदी की डील तक कर चुके हैं. हालांकि ये किस तरह से और कितने कारगर होने वाले हैं, फिलहाल इस बारे में वैज्ञानिक कुछ बता नहीं पा रहे.

    National Institute of Allergy and Infectious Diseases के डायरेक्टर एंटनी फॉसी के मुताबिक बंदरों पर हुए प्रयोग में उनके सांस लेने में तकलीफ और दिल की धड़कन तेज होना जैसे गंभीर लक्षणों में कमी आई. इससे माना जा सकता है कि वैक्सीन असर करेगी. वैसे एंटनी खुद मान रहे हैं कि शुरुआती वैक्सीन से खास उम्मीद नहीं की जा सकती, सिवाय इसके के ये बीमारी को गंभीर होने से रोक दे. न्यूज वेबसाइट Stat को दिए इंटरव्यू में एंटनी ने कहा कि ये टीका वायरस के संक्रमण से नहीं रोकेगा.

    ये भी पढ़ें:

    क्या है वो न्यूक्लिक टेस्ट जो अब चीन में हो रहा है

    ब्रिटेन की वो लाइब्रेरी, जहां 6000 से ज्यादा जानलेवा बैक्टीरिया जिंदा रखे हुए हैं

    जानिए, ताकत की दवा के लिए चीन किस बेरहमी से मार रहा है गधों को

    कौन थे सफेद मास्क पहने वे लोग, जो रात में घूमकर अश्वेतों का रेप और कत्ल करते?

    किस खुफिया जगह पर खुलती है वाइट हाउस की सीक्रेट सुरंग 

    क्या है डार्क नेट, जहां लाखों भारतीयों के ID चुराकर बेचे जा रहे हैं

    क्या ऑटिज्म का शिकार हैं ट्रंप के सबसे छोटे बेटे बैरन ट्रंप?

    अश्वेत लोगों के साथ रहने पर आदतें बिगड़ने का डर था गांधी जी कोundefined

    Tags: Corona free State, Coronavirus, Coronavirus in India, Coronavirus Update, Coronavirus vaccine, Novel coronavirus

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर