• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • वो देश, जहां समुद्र के नीचे है पोस्ट ऑफिस, गोताखोर ही डाल पाते हैं चिट्ठियां

वो देश, जहां समुद्र के नीचे है पोस्ट ऑफिस, गोताखोर ही डाल पाते हैं चिट्ठियां

आज ही के दिन यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन बनाए जाने के लिए 22 देशों ने अपनी सहमति दी थी- सांकेतिक फोटो (pxfule)

आज ही के दिन यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन बनाए जाने के लिए 22 देशों ने अपनी सहमति दी थी- सांकेतिक फोटो (pxfule)

World Post Day: रिपब्लिक ऑफ वानुअतु (Republic of Vanuatu) में जमीन से 9 फीट नीचे बसे डाकखाने में मछलियों के बीच एक पोस्ट बॉक्स है. ये वॉटरपूफ्र है ताकि चिट्ठियां गीली न हों.

  • Share this:
    साल 1874 में आज ही के दिन यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन बनाए जाने के लिए 22 देशों ने अपनी सहमति दी थी. सालों बाद 1969 में जापान के टोक्यो में एक आयोजन में आज ही के दिन को विश्व डाक दिवस के तौर पर मनाने का फैसला लिया गया. इसका मकसद था- नागरिकों को डाक सर्विस से जोड़ना और उनमें इसके लिए जागरुकता लाना.

    देश में पोस्टल सेवा की डीटेल
    अब दुनिया के 142 देशों में पोस्टल कोड है जो कि यूनिवर्सल पोस्टल सेवा के तहत आता है. भारत में पिनकोड नंबर के आधार पर चिट्ठियां बांटी जाती हैं. पिनकोड तय किए जाने की शुरुआत 15 अगस्त, 1972 में हुई थी. पिन की पहली संख्या क्षेत्र, दूसरी सब डिवीजन, तीसरी संख्या से जिले का पता चलता है. आखिरी डिजिट से से ये पता लगता है कि चिट्ठी जिले के किस पोस्ट ऑफिस में जाने वाली है.

    ये भी पढ़ें: जानिए, क्यों White House को दुनिया की सबसे ख़तरनाक जगह कहा गया

    दुनिया की सबसे बड़ी पोस्टल सर्विस है यहां
    यहां डेढ़ लाख से भी ज्यादा पोस्ट ऑफिस देश के कोने -कोने में हैं. भारतीय डाक (department of posts ministry of communications) के अनुसार एक पोस्ट ऑफिस से गभग 7 हजार लोगों को सेवाएं मिलती हैं. वहीं 83% अंतरराष्ट्रीय डाक लगभग 5 दिनों के भीतर अपने गंतव्य तक पहुंचा दी जाती है. भारत में अलग-अलग मौकों पर डाक विभाग अलग तरह की सुविधाएं भी देता है, जैसे त्यौहारों पर किसी आपदा की स्थिति में डाक विभाग की खास सर्विस चलाई जाती है ताकि डाक का जल्दी पहुंचना सुनिश्चित हो सके.

    दुनिया की सबसे उजाड़ और ठंडी जगह अंटाकर्टिका में भी एक पोस्ट ऑफिस है- सांकेतिक फोटो (pxfule)


    टूरिस्ट स्पॉट भी बने डाकखाने
    पोस्ट ऑफिस केवल पुरानी इमारतों और लाल डिब्बों वाले नहीं, कई पोस्ट ऑफिस अपने अनोखेपन के चलते टूरिस्ट स्पॉट भी बन चुके हैं. जैसे कश्मीर में एक तैरने वाला यानि फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस है जो कि एक हाउसबोट में बना हुआ है. ये कश्मीर की डल झील में स्थित है और यहां पर किसी भी दूसरे पोस्ट ऑफिस की तरह ही काम होता है. इस डाकखाने का नाम पहले नेहरू पार्क पोस्ट ऑफिस था, जो साल 2011 में फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस से बदल दिया गया. साल 2014 की बाढ़ में पोस्ट ऑफिस बहने लगा था, जब सेना के जवानों ने उसे बांधकर रखा. जनजीवन सामान्य होने के बाद तैरने वाला पोस्ट ऑफिस दोबारा काम करने लगा.

    ये भी पढ़ें: क्यों चीन के लिए Indian Army का टैंक 'भीष्म' सबसे घातक साबित हो सकता है?

    दुनिया का सबसे खूबसूरत पोस्ट ऑफिस
    वियतनाम में दुनिया का सबसे खूबसूरत पोस्ट ऑफिस है, जिसे देखने के लिए दूर-दूर से सैलानी आते हैं. इसे साइगॉन सेंट्रल पोस्ट ऑफिस कहते हैं. वियतनाम के हो ची मिन्ह (Ho Chi Minh) शहर में इस डाकघर को साल 1886 में फ्रेंच आर्किटेक्ट गुस्ताव एफिल (Gustave Eiffel) ने बनाया था. ये फ्रांसीसी वास्तुविद वही हैं, जिन्होंने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी और आइफिल टावर का डिजाइन तैयार किया था. इस पोस्ट ऑफिस को बनाने में तीन साल लगे. यूरोपियन रेलवे स्टेशन की तर्ज पर इसे बनाया गया है. यहां दीवारों पर नक्काशी है और बहुत ही बड़े-बड़े झरोखे हैं. यहां जगह-जगह टेलीफोन भी लगे हुए हैं ताकि सैलानी इत्मीनान से अपने दोस्तों और घरवालों को फोन कर सकें.

    कई पोस्ट ऑफिस अपने अनोखेपन के चलते टूरिस्ट स्पॉट भी बन चुके हैं- सांकेतिक फोटो (needpix)


    पानी के भीतर बना पोस्ट ऑफिस
    रिपब्लिक ऑफ वानुअतु (Republic of Vanuatu) का पोस्ट ऑफिस सबसे बढ़कर है. ये पानी के भीतर स्थित है. ग्राउंड लेवल से 9 फीट नीचे बसे इस पोस्ट ऑफिस में मछलियों के बीच एक पोस्ट बॉक्स है जो वॉटरपूफ्र है ताकि चिट्ठियां गीली न हों और सुरक्षित अपने गंतव्य तक पहुंच सकें. इस देश में तैराकी पसंद करने वाले लोग इतने ज्यादा हैं कि हर थोड़े दिनों में बक्सा भर जाता है. यही वजह है कि देश की सरकार चिट्ठियां पोस्ट करने को एक एडवेंचर एक्टिविटी की तरह बढ़ावा दे रही है. स्कूबा डाइविंग के शौकीन यहां खासतौर पर आते और खत डालते हैं.

    ये भी पढ़ें: कंबोडिया में चीन की बढ़ती दखलंदाजी कितनी खतरनाक है?    

    अंटाकर्टिका में भी काम करती है डाक सेवा
    दुनिया की सबसे उजाड़ और ठंडी जगह अंटाकर्टिका में भी एक पोस्ट ऑफिस है, जिसे Port Lockroy के नाम से जाना जाता है. इसका एक हिस्सा म्यूजियम की तरह भी काम करता है. यहां से दुनिया के किसी भी हिस्से में एक चिट्ठी पहुंचाने की कीमत है 1 डॉलर और इसे पहुंचने में दो हफ्ते से लेकर 1 साल तक कितना भी वक्त लग सकता है. ये इसपर निर्भर करता है कि आपने किस मौसम में चिट्ठी पोस्ट की है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज