क्या संतरे के आकार का Black Hole है Planet 9? कैसे मिलेगा इस सवाल का जवाब

क्या संतरे के आकार का Black Hole है Planet 9? कैसे मिलेगा इस सवाल का जवाब
सौरमंडल की सीमा पर हुई अजीब गतिविधियों को देख कर कई वैज्ञानिक यह अनुमान लगा रहे हैं वह एक ग्रह होने के साथ ब्लैकहोल भी हो सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कई वैज्ञानिकों को लगता है कि हमारे सौरमंडल (Solar System) के ठीक बाहर नौंवा ग्रह (Planet Nine) होना चाहिए जो एक ब्लैकहोल (Black Hole) भी हो सकता है.

  • Share this:
क्या हमारे सौरमंडल (Solar System) के ठीक बाहर संतरे के आकार (Grapefruit size) का कोई ब्लैकहोल (Black Hole) घूम रहा जो अब तक पकड़ में नहीं आ सका है. इस समय अंतरिक्ष विज्ञान में इस प्रकार की बहस चल रही है कि क्या इस तरह के ब्लैकहोल का अस्तित्व हो सकता है और क्या वह प्लैनेट 9 (Planet9) की योग्यता रखता है जो हमारे सूर्य का चक्कर लगा रहा है. इस सवाल के सही जवाब के लिए कुछ वैज्ञानिक उन्नत किस्म के टेलीस्कोप (Telescope) के आने का इंतजार रहे हैं. इस तरह के एक टेलीस्कोप के लिए इस शोध की योजना भी बन रही है.

क्या हो रही है बहस
पिछले कुछ सालों से वैज्ञानिकों यह पाया है कि नेप्च्यून ग्रह के आगे बहुत से छोटे पिंड मौजूद हैं.  इनमें से कई पिंड बहुत अजीब बर्ताव कर रहे हैं वे एक कक्षा का चक्कर लगाते दिख रहे हैं. वैज्ञानिकों का मत है कि नेप्च्यून से आगे के पिंडों (Trans Neptune Objects, TNO) के रास्तों का एक बड़ा पिंड अपने गुरुत्व की शक्ति से बदल रहा है. यह पिंड पृथ्वी के वजन से दस गुना ज्यादा वजन का होना चाहिए. वहीं कुछ वैज्ञानिकों को लगता है कि TNO आपस में एक दूसरे को ही खींच रहे हैं.

यह हो सकता है एक ग्रह
अगर इस तरह का कोई पिंड मौजूद है तो यह एक ग्रह हो सकता है, जिसे प्लैनेट 9, या प्लैनेट X, भी कह सकते हैं. गौरतलब है कि कई लोग अब भी प्लूटो को हमारे सौरमंडल के नौवां ग्रह मानते हैं, लेकिन अब आधिकारिक तौर पर अब प्लूटो हमारे सौरमंडल का ग्रह नहीं माना जाता है. उसे अब ड्वार्फ ग्रह की श्रेणी में रखा गया है.



Blckhole
आमतौर पर ब्लैकहोल बहुत बड़े आकार के माने जाते हैं लेकिन वे एक गेंद के आकार के भी हो सकते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)(प्रतीकात्मक तस्वीर)


एक ब्लैकहोल भी हो सकता है यह
लेकिन इस पिंड के बारे में एक और संभावना जताई जा रही है. वह यह कि ये पिंड एक ब्लैकहोल भी हो सकता है जिसने अपना पूरा का भार एक संतरे के आकार में समेट रखा हो. नए शोध के मुताबिक वैज्ञानिक पहले से ही एक नौवे ग्रह यानि प्लैनेट नाइन की खोज कर रहे हैं और उन्हें जल्द ही इस तरह का कोई ब्लैकहोल भी मिल सकता है.

ब्रह्माण्ड के विशालकाय Black Hole की तलाश में वैज्ञानिकों ने खोजा यह खास Point

यह टेलीस्कोप कर सकेगा मदद
एस्ट्रोफिजिकल जर्नल लैटर्स में प्रकाशन के लिए चुने एक शोधपत्र  में चिली में बन रहे विशाल टेलीस्कोप की मदद से इसबात की पुष्टि हो सकेगी कि क्या यह प्लैनेट9 ब्लैकहोल या फिर यह धारणा खारिज हो जाएगी. चिली के एंडीज पर्वत पर वेरा सी रूबिन ऑबजर्वेटरी का निर्माण हो रहा है जो साल 2022 के अंत तक काम करना शुरू कर देगी. यह विशाल टेलीस्कोप एक दक्षिणी गोलार्द्ध के अंतरिक्ष का एक दशक अध्ययन करेगा जिसे लेगेसी सर्वे ऑफ स्पेस ऑफ टाइम (LSST) कहा जाएगा.

Black hole
बड़े ब्लैग होल के बारे में जानकारी तो है, लेकिन छोटे ब्लैकहोल की बारे में नहीं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


कितना दम है ब्लैकहोल वाले विचार में
आमतौर पर जब ब्लैकहोल की बात होती है हम एक विशालकाय पिंड के बारे में सोचने लगते हैं जो तारे के आकार होगा जिसके आसपास धूल और गैस का विशाल समूह चक्कर लगा रहा होगा.  या फिर किसी गैलेक्सी के केंद्र में अतिविशालकाय ब्लैकहोल जिसका भार हमारे सूर्य के भार से सैंकड़ों या फिर हजारों गुना ज्यादा होगा. लेकिन कई वैज्ञानिकों का कहना है कि एक गेंद के आकार के ब्लैक होल भी हो सकते हैं जिनका भारत 5 से 10 पृथ्वी के बराबर हो सकता है. इन्हें प्रिमॉर्डियल ब्लैकहोल (Primordial Black Hole, PBH) कहते हैं. इनके बारे में कहा जाता है कि ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति की शुरुआत से ही बनना शुरू हो गए थे.

आइंस्टीन की भविष्यवाणी के 100 साल बाद, गुरुत्व तरंगें कैसे ‘सुन’ पाए खगोलविद

बहरहाल अभी तक इस तरह के किसी भी PBH की पुष्टि नहीं हो सकी है. और मजेदार बात यह है कि प्लैनेट 9 का अस्तित्व भी अभी तक देखा नहीं जा सका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading