Home /News /knowledge /

आर्टिमस से जुड़ा इजराइल, अभियान के पहले चरण में होगा खास इजराइली प्रयोग

आर्टिमस से जुड़ा इजराइल, अभियान के पहले चरण में होगा खास इजराइली प्रयोग

इजराइल (Israel) आर्टिमिस समझौते से जुड़ने वाला 15वां देश है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay/ NASA)

इजराइल (Israel) आर्टिमिस समझौते से जुड़ने वाला 15वां देश है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay/ NASA)

इजराइल (Israel) अमेरिका की अगुआई वाले आर्टिमिस समझौते (Artemis Accords) से जुड़ने वाला 15वां देश बन गया है. इजराइल की स्पेस एजेंसी के प्रमुख उरी ओरोन ने अपने देश की ओर से इस समझौते पर हस्ताक्षर किया. इस समझौते के साथ अब इजराइल नासा (NASA) के आर्टिमिस अभियान से जुड़ेगा, जिसके पहले चरण में वह एक खास प्रयोग में भी शामिल होगा.

अधिक पढ़ें ...

    यह बात अब गलत नहीं रह गई है कि अंतरिक्ष अनुसंधान (Space Research) अब अंतरराष्ट्रीय कूटनीति का हिस्सा बन चुका है. इसी सप्ताह इजराइल (Israel) अमेरिका की अगुआई वाले आर्टिमिस समझौते (Artemis Accord) से जुड़ गया है.इस तरह से इजराइल आर्टिमिस से जुड़ने वाला 15वां देश हो गया है. इस समझौते से इजराइल और अमेरिका अब अंतरिक्ष शोध, विज्ञान और नवाचार में  सहयोग करेंगे. आर्टिमिस समझौता अंतरिक्ष मामलों मे सहयोग के साथ ही अंतरिक्ष उत्खनन के क्षेत्र में भी आपसी सहयोग और साझेदारी के नियम शामिल हैं. यह समझौता अमेरिका का अंतरिक्ष मामलों में अपने लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग की दिशा में एक और कदम है.

    आर्टिमिस कार्यक्रम में भी शामिल
    इजराइल स्पेस एजेंसी के डायरेक्टर जनरल उरी ओरोन ने हस्ताक्षर समारोह में कहा कि उन्हें गर्व है कि वे आर्टिमिस समझौते पर हस्ताक्षर कर रहे हैं. इजराइल आधिकारिक रूप से इस बड़ी परियोजना से जुड़ गया है जिसमें आने वाले सालों में मानवीय अभियान को चंद्रमा पर भेजा जाएगा.

    ये देश पहले से हैं इस शामिल
    ओरोन ने कहा कि इजराइली स्पेस एजेंसी शोध, विज्ञान, नवाचार और आर्थिकमामलों में आर्टिमिस समझौते, इजराइली संगठन और अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ सहयोग जारी रखेगी. इस समझौते से इजराइल से पहले ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा,इटली, जापान, लक्जमबर्ग, न्यूजीलैंड, पोलैंड, दक्षिण कोरिया, यूक्रेन, संयुक्त अरब अमीरात, यूके और अमेरिका शामिल हैं.

    पहले से ही मित्र देश और करीब
    इजराइल में इस समझौते से जुड़ने को दोनों मित्र देशों को एक दूसरे के और ज्यादा नजदीक लाने वाला कदम बताया जा रहा है. इजराइल के विज्ञान मंत्री  ने अपने बयान में कहा कि चंद्रमा एक रुकने वाली जगह से कहीं ज्यादा होगा जहां कुछ लंबे समय पर रुकने से ऐसे शोध और विकास कार्य किए जा सकेंगे जिन्हें कहीं और नहीं किया जा सकता है.

    Space, NASA, Moon, Israel, USA, US, Artemis Accords, Artemis Mission,

    आर्टिमिस (Artemis) के पहले अभियान में मानवरहित यान और रॉकेट का परीक्षण किया जाएगा. (तस्वीर: NASA)

    आर्टिमिस अभियान
    आर्टिमिस समझौते में शामिल होने वाले देश अमेरिकी स्पेस एजेंस नासा के आर्टिमिस अभियान से जुड़ेंगे जिसमें तीन चरणों केकार्यक्रम के अंतिम चरण में चंद्रमा पर एक पुरुष और एक महिला को लंबे समय के लिए भेजा जाएगा. इस अभियान के पहला चरण नासा का एसएलएस रॉकेट ओरियोन यान को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित कर उसका पहले परीक्षण करेगा.

    यह भी पढ़ें: क्या चंद्रमा का था कभी अपना मैग्नेटिक फील्ड, 50 साल पुरानी गुत्थी सुलझी

    दो डॉल को भेजा जाएगा
    आर्टिमिस के पहले चरण में मार्च में प्रक्षेपण होने की उम्मीद की जा रही है जो पहले ही कोविड-19 महामारी की वजह से देरी से चल रहा है. इस चरण में किसी मानव की जगह जौहर और हेल्गा नाम के दो मानवीय धड़ के आकार की डॉल को बैठाकर चंद्रमा पर भेजा जाएगा. इसमें जौहर इजारइली स्पेस सूट पहले होगा जिसे इजराइली कंपनी ने विकसित किया है.

    Space, NASA, Moon, Israel, USA, US, Artemis Accords, Artemis Mission,

    नासा (NASA) का उद्देश्य इस अभियान में अपने सहयोगी देशों को भागीदार बनाने का है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

    यह है प्रयोग
    इस यान में दूसरी डॉल हेल्गा को बिना किसी सुरक्षा के ही चंद्रमा पर भेजा जाएगा. दोनों का पृथ्वी पर लौटने पर परीक्षण किया जाएगा कि उन पर विकिरण का क्या प्रभाव रहा और स्पेस सूट की प्रभावोत्पादकता क्या रही. आर्टिमिस के पहले अभियान में यान और रॉकेट का परीक्षण प्रमुख है जिससे यह सुनिश्चित होगा कि उनके जरिए चंद्रमा पर पहुंचा जा सकता है.

    यह भी पढ़ें: मंगल-चंद्र अभियानों के लिए नासा का फूड चैलेंज, 10 लाख डॉलर कमा सकते हैं आप

    आर्टिमिस समझौते का मुख्य उद्देश्य अमेरिका के लिए भविष्य के लिए अंतरिक्ष  प्रतिस्पर्धा के लिए साझेदार बनाना है जिससे अंतरिक्ष उत्खनन में उसका उसके सहयगियों का किसी तरह का टकराव नहीं हो. चीन पहले से ही अमेरिका का प्रतिस्पर्धी ही नहीं बल्कि प्रतिद्वंदी भी है. वहीं रूस पहले ही इस समझौते पर आपत्ति जता चुका है.  ऐसे में अंतरिक्ष प्रतिस्पर्धा को अंतरराष्ट्रीय कूटनिती के चश्मे से भी देखा जा रहा है.

    Tags: Israel, Moon, Nasa, Space, USA

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर