30 नौकरियों में रिजेक्ट किए गए थे अलीबाबा के मालिक जैक मा

कौन हैं जैक मा, जिन्होंने शून्य से शुरू करके 20 सालों में खड़ी कर दी एशिया की सबसे बड़ी ईकंपनी

News18Hindi
Updated: September 18, 2018, 11:34 AM IST
30 नौकरियों में रिजेक्ट किए गए थे अलीबाबा के मालिक जैक मा
कौन हैं जैक मा, जिन्होंने शून्य से शुरू करके 20 सालों में खड़ी कर दी एशिया की सबसे बड़ी ईकंपनी
News18Hindi
Updated: September 18, 2018, 11:34 AM IST
53 साल के जैक मा यानि मा यून एक साल बाद अलीबाबा कंपनी में टॉप पोजिशन छोड़ने जा रहे हैं. उनके वारिस की खोज हो चुकी है. जैक मा की कहानी भी गजब की है. वो ऐसे जीवट के शख्स थे, जिसे हर जगह नाकामी मिली थी. जिस नौकरी में वो इंटरव्यू देने जाते थे, उसमें उन्हें रिजेक्ट कर दिया जाता था.
अगले साल 10 सितंबर को जैक मा अलीबाबा से रिटायरमेंट ले लेंगे. इसके बाद वो टीचिंग करना चाहते हैं. उनकी भूमिका कंपनी में संस्थापकों के ग्रुप और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स तक सीमित हो जाएगी.

आइए जानते हैं जैक मा के बारे में खास बातें

1. जैक मा ने 30 जगह नौकरी के लिए अावेदन भेजा था. उन्हें हर जगह से खारिज कर दिया गया था.

2. चीन में केएफसी की एक ब्रांच खुलने वाली थी. उसमें 24 लोग इंटरव्यू देने गए. 23 लोगों को सलेक्ट कर लिया गया. अकेले केवल जैक माम का चयन नहीं हुआ.

3. उन्होंने एक दो बार नहीं बल्कि 10 बार हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में दाखिले के लिए अावेदन किया. वो हमेशा खारिज कर दिये गए.

4. जैक के तीन बच्चे हैं लेकिन कोई भी उनकी कंपनी में नहीं है.
Loading...

5. जैक मा हमेशा कहते हैं कि इंटैलीजेंट लोगों को एक औसत लीडर की जरूरत होती है. बस जरूरत पर्सपेक्टिव की है, अगर आप अलग पर्सपेक्टिव में चीजें देंगे तो सफलता की संभावना भी ज्यादा रहेगी.

जैक मा की फाइल फोटो- AP


6. मा उस चीन में अंग्रेजी के टीचर बने, जहां बहुत कम लोग इस भाषा को बोलते हैं और जानते हैं. उनका शुरुआती दौर बहुत संघर्ष वाला था. उनके शहर में गोंगझोऊ के होटलों में अक्सर अंग्रेज टूरिस्ट आते थे. जैक मा कोशिश करते थे कि वो उनके गाइड बन जाएं. इसके लिए वो रोज साइकल लेकर 70 मील की यात्रा करते थे. इन टूरिस्टों के संपर्क में आने से उन्हें अंग्रेजी सीखने में बहुत मदद मिली.

7. अलीबाबा का कारोबार 18 लोगों ने मिलकर एक छोटे से अपार्टमेंट से शुरू किया था. तब उनके पास ज्यादा रेवेन्यू नहीं था, लेकिन जैक मा को उम्मीद थी कि इंटरनेट आधारित सामानों को बेचने का बिजनेस जरूर चलेगा. और साहस देखिए, जिस समय उन्होंने अपना ईबिजनेस शुरू किया, तब चीन में बमुश्किल एक फीसदी लोगों के पास ही इंटरनेट की पहुंच थी. अगले 20 सालों में उनकी कंपनी चीन की सबसे बड़ी कंपनियों में ही शामिल नहीं हुई बल्कि अमेजन को भी टक्कर देने के करीब पहुंच गई.

8. शुरुआत में जापान के साफ्टबैंक ने उनके अलीबाबा में स्टार्टअप में 20 बिलियन डॉलर का निवेश किया. साफ्टबैंक के मालिक का कहना है कि जब इस बारे में उनकी जैक मा से मुलाकात हुई तो उनके पास ना तो कोई बिजनेस प्लान था और ना ही कोई रेवेन्यु. लेकिन इसके बावजूद उन्होंने इस कंपनी में पैसा केवल इसलिए लगाया, क्योंकि उन्हें मा की आंखों में गजब का आत्मविश्वास नजर आया था. वो अपनी बातें बहुत अधिकार से कर रहे थे.

Alibaba Founder Jack Ma, successful businessmen, world, 50 thousand employees, Jack Ma, modest beginnings, English, teacher, university, Ma founded Alibaba, Chinese e-commerce colossus, executive chairman, e-commerce company, e-commerce
जैक मा गरीब परिवार में पैदा हुए. उन्होंने चीन में तब इंटरनेट के जरिए ई कामर्स बिजनेस के बारे में सोचा जब वहां नेट मुश्किल से एक फीसदी लोगों के पास था


9. जैक मा जिस तरह का कारोबार चीन में शुरू किया, वो वाकई अलग किस्म का था, लेकिन जिस तरह उन्होंने इसे चलाया और फैलाया, उससे वो एशिया के सबसे धनी शख्स बन गए. वो फिलहाल 40 बिलियन डॉलर की निजी संपत्ति के मालिक हैं. नई तकनीक के सहारे बिजनेस चलाने के मामले में वो चीन में उदाहरण बन चुके हैं. चीन में कोई भी स्टार्टअप जब शुरू होता है, तो वो हमेशा मा उनके हीरो होते हैं.

10. जैक मा कम्युनिस्ट पार्टी के कट्टर समर्थक हैं. मीडिया पर नियंत्रण के पैरोकार हैं. उनका कहना है कि चीन का वन पार्टी रूल ही दरअसल इस देश की तरक्की की वजह है.

11. उनके अलीबाबा की टॉप पोजिशन छोड़ने पर ये सवाल जरूर उठाया जा रहा है कि क्या चीन नया जैक मा पैदा कर सकेगा. आप समझ सकते हैं कि चीन में वो एक किवंदति में बदल चुके हैं. अलीबाबा के प्लेटफार्म के जरिए एक नहीं सैकड़ों छोटे बिजनेस आगे बढ़े और फले फूले.

12. वर्ष 1999 में अलीबाबा शुरू करने वाले जैक ना तो टेक सेवी हैं और ना ही खुद को बहुत स्मार्ट मानते हैं लेकिन वो ऐसे शख्स जरूर हैं, जिन्होंने चीन के गांवों तक अलीबाबा का सामान बेचा. इसके बाद अपने बिजनेस का विस्तार आर्टिफिशियल इंटैलीजेंस, हेल्थकेयर और हॉलीवुड तक किया.

अलीबाबा की 18वीं वर्षगांठ के सेलिब्रेशन इवेंट के दौरान 40 हजार एम्पलाइज के सामने जैक मा ने माइकल जैक्सन की तरह एंट्री की.


13. जैक मा को करिश्माई लीडर कहा जाता है. वो आफिस की मीटिंग्स और प्रोग्राम्स में गाते और नाचते हुए भी देखे गए हैं.

कौन होगा जैक मा का उत्तराधिकारी

1. जैक मा की जगह जो शख्स इस कंपनी के सर्वेसर्वा होंगे, वो डेनियल झांग हैं. वो फिलहाल अलीबाबा के सीईओ हैं. अलीबाबा में पिछले एक दशक से जैक मा के उत्तराधिकारी को तैयार करने की तैयारी चल रही थी.

डेनियल झांग अब अलीबाबा की कमान संभालेंगे


2. झांग 46 साल के हैं. वो इस कंपनी में 11 साल पहले जुड़े थे. अलीबाबा आज जिस स्थिति में है, उसमें उनकी भूमिका पिछले कुछ सालों में खासी अहम रही है. कंपनी उन्हें ना केवल क्रिएटिव मानती है बल्कि ये भी देखती है कि उनके पास गजब का विजन है. कंपनी के एग्जीक्यूटिव वाइस चेयरमैन जो त्साई कहते हैं कि वो सक्षम हैं कि ये बड़ी जिम्मेदारी संभाल सकें.

3. 11-11 का आइडिया झांग का ही था, जब कंपनी ने पिछले साल 11 नवंबर को एक ही दिन में 25 बिलियन डॉलर का बिजनेस किया. ये एक ऐसा प्रयोग था, जिसने अलीबाबा का बहुत कुछ बदलकर रख दिया. इतने बड़े पैमाने पर दुनिया में एक दिन में बिक्री का ये नया रिकॉर्ड था. ये इतना आसान नहीं था, क्योंकि इसके लिए आपकी पूरी मशीनरी और इसके हर हिस्से को तैयार रहना था. ये पूरा अभियान लगातार 24 घंटे तक बहुत सहजता से चलता रहा.

4. वो शंघाई यूनिवर्सिटी में फाइनेंस और इकोनॉमिक्स के ग्रेजुएट हैं. झांग अलीबाबा में आने से पहले कई नामी कंपनियों में काम कर चुके हैं, जिसमें प्राइस हाउस वाटरकूपर्स शामिल है. वो एक ऐसी चाइनीज कंपनी में भी काम कर चुके हैं, वो आनलाइन गेमिंग में शामिल थी.

कई कंपनियों में काम करने के बाद झांग अलीबाबा पहुंचे और तरक्की की सीढियां चढ़ते गए


5. वर्ष 2007 में उन्होंने चीफ फाइनेंशियल अफसर के रूप में अलीबाबा ज्वाइन की. इसके बाद वो धीरे धीरे अलीबाबा में ऊपर की सीढियां चढ़ते चले गए.

6. हाल ही में झांग की रणनीति के चलते अलीबाबा को स्टारबक्श से कॉफी डिलिवर करने का आर्डर मिला है. इसके लिए उसे फूड आर्डर डिलिवरी कंपनी टेंसेंट से जबरदस्त चुनौती मिली, धीरे धीरे ये भी हो रहा है कि अलीबाबा अपने को अलग प्लेटफार्म्स में फैला रही है.

7. कहा जा सकता है कि हाल के बरसों में अलीबाबा का एंपायर जिस तरह समूचा बदल गया या सुपरचार्ज हो गया, उसमें झांग की भूमिका खासी अहम रही है.
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

काम अभी पूरा नहीं हुआ इस साल योग्य उम्मीदवार के लिए वोट करें

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

Disclaimer:

Issued in public interest by HDFC Life. HDFC Life Insurance Company Limited (Formerly HDFC Standard Life Insurance Company Limited) (“HDFC Life”). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI Reg. No. 101 . The name/letters "HDFC" in the name/logo of the company belongs to Housing Development Finance Corporation Limited ("HDFC Limited") and is used by HDFC Life under an agreement entered into with HDFC Limited. ARN EU/04/19/13618
T&C Apply. ARN EU/04/19/13626