लाइव टीवी

जब सोनिया गांधी के साथ चाय पीने के बाद जयललिता ने गिरा दी थी वाजपेयी सरकार

News18Hindi
Updated: December 5, 2019, 10:23 AM IST
जब सोनिया गांधी के साथ चाय पीने के बाद जयललिता ने गिरा दी थी वाजपेयी सरकार
जयललिता ने सिनेमा से लेकर सियासत तक में अपनी धाक जमाई

जयलिलता (Jayalalitha) ने पहले दक्षिण के सिनेमा (cinema) में बुलंदिया छुईं. उसके बाद वो द्रविड़ राजनीति (politics) में छा गईं. दक्षिण की राजनीति में उन्होंने सर्वोच्च मुकाम पाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2019, 10:23 AM IST
  • Share this:
आज तमिलनाडु (Tamilnadu) की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (Jayalalitha) की पुण्यतिथि है. आज ही के दिन 2016 में उन्होंने अपोलो अस्पताल में आखिरी सांस ली थी. सांस में तकलीफ की शिकायत के बाद जयललिता को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. वो 2 महीने से भी ज्यादा वक्त तक अस्पताल में भर्ती रहीं. इस दौरान उनके गलत इलाज के आरोप भी लगे. 2 दिसंबर 2016 को सिनेमा से लेकर सियासत तक में दमदार मौजूदगी दर्ज करवाने वाली जयललिता दुनिया को छोड़कर चली गईं.

एक फिल्मी कलाकार के तौर पर करियर शुरू करने वाली जयललिता की जिंदगी की कहानी भी फिल्मी सरीखी है. कहा जाता है कि जयललिता पर किस्मत मेहरबान थी. ऐसा लगता है कि उनके पैदा होने से लेकर उनके मौत तक सबकुछ भाग्य ने तय कर रखा था.

जयलिलता ने पहले दक्षिण के सिनेमा में बुलंदिया छुईं. उसके बाद वो द्रविड़ राजनीति में छा गईं. दक्षिण की राजनीति में उन्होंने सर्वोच्च मुकाम पाया. पुरुषों के वर्चस्व वाली राजनीति में एक महिला शिखर तक पहुंची. उन्होंने राजनीति पर अपनी पकड़ ढीली नहीं होने दी. अपने आखिरी चुनाव में उन्होंने सत्ता विरोधी लहर को मात देकर जीत हासिल की. ये उनके राजनीतिक कौशल का सबसे बड़ा सबूत है.

पढ़ाई छोड़कर फिल्मों में आईं

जयललिता की जिंदगी में पहले से कुछ तय नहीं था. जैसी परिस्थितियां बनीं वो आगे बढ़ती गईं. उनकी सबसे बड़ी खासियत हालात को लेकर सही फैसला लेने की काबिलियत ही थी.

बचपन में जयललिता पढ़ने-लिखने में काफी तेज थीं. इंग्लिश लिटरेचर से उनका खासा लगाव था. इसके अलावा वो दुनिया में हो रही हलचल पर भी बारीक नजर रखती थीं. हालांकि किस्मत से वो पढ़ाई छोड़कर फिल्मों में आ गईं. जयललिता की मां उन्हें फिल्मों में लेकर आ गईं. उन्हें लगता था कि उनकी बेटी का भविष्य सिनेमा में ज्यादा सुरक्षित है. जयललिता के पिता के बारे में कोई ज्यादा जानकारी नहीं है. कहा जाता है कि जब वो सिर्फ 2 साल की थीं उनके पिता की मौत हो गई. जयललिता की परवरिश उनकी मां ने ही की.

दक्षिण के सिनेमा में जयललिता काफी सफल रहीं. फिल्मों में अपने शुरुआती दिनों में उन्होंने काफी उदार और ग्लैमरस किरदार निभाए. दक्षिण भारत की फिल्मों में पर्दे पर स्कर्ट पहनने वाली जयललिता पहली एक्ट्रेस थीं.
jayalalitha death anniversary know her film to political career details
जयललिता


दक्षिण की सबसे कामयाब एक्ट्रेस बनीं जयललिता

जयललिता ने करीब 300 फिल्मों में काम किया. इनमें से 140 में वो लीड हीरोइन की भूमिका में थीं. करीब 125 फिल्में हिट रहीं. 70 के दशक में जयललिता भारत की सबसे महंगी हीरोइनों में से एक थीं. उन्होंने अपने पूरे करियर में 85 सिल्वर जुबली हिट फिल्में दीं. उनके खाते में 2 फिल्मफेयर और 5 तमिलनाडु स्टेट अवॉर्ड आए. ऐसा फिल्मी करियर कम ही हिरोइनों का रहा है.

1965 में उन्होंने पहली बार दक्षिण के सुपरस्टार एमजी रामचंद्रन के साथ काम किया. एमजीआर के साथ जयललिता की जोड़ी हिट रही. 1973 में 28 फिल्मों के बाद ये जोड़ी अलग हो गई. सिनेमा के बाद अब सियासत में धमाके की बारी थी.

एमजीआर के साथ दक्षिण की सियासत में रखा कदम

दक्षिण की राजनीति में कदम रख चुके एमजीआर 1977 में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने. इसके बाद 1980 में जयललिता ने भी फिल्मों को अलविदा कह दिया. 1982 में वो सक्रिय राजनीति में आ गई. 1984 में एमजीआर ने उन्हें राज्यसभा भेज दिया. इसके बाद दक्षिण की सबसे मशहूर अभिनेत्री फिल्में छोड़कर पूरी तरह से सियासत में आ गईं.

एमजीआर के सहयोग से जयललिता ने राजनीति में भी बड़ी जल्दी कामयाबी पा ली. जिसकी वजह से उन्हें नापसंद करने वालों की भी कमी नहीं थी. इस बीच एमजीआर बीमार पड़े और उनकी गैरमौजूदगी में जयललिता ने पूरी पार्टी पर अपनी दावेदारी जता दी. वो एमजीआर के राजनीतिक वारिस बन बैठी. 1987 में एमजीआर की मौत हो गई. इसके बाद जयललिता को बिलकुल किनारे कर दिया गया था. लेकिन जयललिता ने दमदार वापसी की.

1991 में तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनीं

1991 के चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन करके उन्होंने राज्य की 234 सीटों की विधानसभा में 225 सीटें झटक लीं. जयललिता तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनीं.

मुख्यमंत्री बने रहने के दौरान उनपर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे. जयललिता की अपने गोद लिए बेटे सुधाकरण की शादी की खूब चर्चा हुई. इस शादी को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया. बताया जाता है कि इस शादी में करीब डेढ़ लाख मेहमान बुलाए गए थे. उस वक्त शादी पर तकरीबन 10 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे. इन सबने जयललिता के खिलाफ माहौल बनाया. जयललिता की छवि एक तुनकमिजाज और अहंकारी नेता की बन गई.

jayalalitha death anniversary know her film to political career details
जयललिता


अगले चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा. जयललिता के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज हुआ और उनकी गिरफ्तारी भी हुई. 90 के दशक के आखिर में जयललिता का दखल केंद्र की राजनीति में बढ़ गया. केंद्रीय मंत्रिमंडल में अन्नाद्रमुक शामिल हुई. 1999 में उनकी सोनिया गांधी से साथ चाय पार्टी भी काफी चर्चित रही थी. इसी के बाद जयललिता ने वाजपेयी सरकार ने अपना समर्थन वापस ले लिया था. समर्थन वापस लेने की वजह से 13 महीने की एनडीए सरकार गिर गई थी.

अपनी दूसरी राजनीतिक पारी में बदल गईं जयललिता

2001 में एक बार फिर राज्य की राजनीति में जयललिता की वापसी हुई. वो मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठीं. मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी दूसरी पारी भी विवादों में रही. उन्होंने आधी रात को करुणानिधि को गिरफ्तार करवा दिया. सरकारी कर्मचारियों से सख्ती और पत्रकारों के साथ ज्यादती की घटनाएं भी चर्चा में रहीं.

हालांकि 2001 से 2006 के दौरान उन्होंन राज्य में प्रशासनिक स्तर पर सकारात्मक बदलाव किए. उस दौरान अपराध पर अंकुश लगा और उनकी छवि एक सख्त मुख्यमंत्री की बनी. हालांकि इसके बावजूद वो 2006 का चुनाव हार गईं.

2011 के चुनाव में एक बार फिर उन्होंने वापसी की. इसके बाद वो तमिलनाडु में अम्मा के नाम से मशहूर हुईं. उन्होंने राज्य की गरीब जनता के लिए सस्ता खाना देने वाले अम्मा कैंटीन जैसे भलाई वाले कई काम करवाए. 2016 के चुनाव में उन्होंने लगातार दूसरी बार जीत हासिल की. जयललिता ने अपने आखिरी कार्यकाल में अपनी छवि को लेकर काम किया. वो भ्रष्टाचार से दूर रहीं और जनता के लिए लोकलुभावन फैसले लिए. 2016 में ढाई महीने तक अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझने के बाद उन्होंने 5 दिसंबर को आखिरी सांस ली.

ये भी पढ़ें: जानिए पुनर्जन्म पर क्या बोले सुप्रीम कोर्ट के जाने-माने जज
रेप करते वक्त अपराधी के दिमाग में क्या चल रहा होता है?
नौसेना दिवस: जब इंदिरा गांधी ने कहा था- इफ देअर इज वॉर, देअर इज वॉर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2019, 10:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर