गुब्बारे के सफर के जरिए आप छू सकेंगे अंतरिक्ष का छोर, जानिए कैसी होगी यात्रा

गुब्बारे के सफर के जरिए आप छू सकेंगे अंतरिक्ष का छोर, जानिए कैसी होगी यात्रा
एक अमेरिकी निजी कंपनी लोगों को गुब्बारे अंतरिक्ष के छोर तक की सैर कराएगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

एक निजी कम्पनी लोगों को गुब्बारे (Space Balloon) के जरिए अंतरिक्ष के छोर (Edge of Space) की यात्रा कराने की तैयारी कर रही है.

  • Share this:
अंतरिक्ष (Space) जल्द ही पर्यटन (Tourism) का क्षेत्र बनने वाला है. लोगों ने चांद पर प्लॉट तक खरीद लिए हैं और उन्हें मंगल के लिए अच्छी खबर का इंतजार है जिसके लिए नासा (NASA) जी तोड़ मेहनत कर रहा है. लेकिन अगर आप अंतरिक्ष की यात्रा जल्दी करना चाहते हैं तो अमेरिका की एक कंपनी ने आपके लिए एक रास्ता निकाल लिया है. इसके लिए आपको रॉकेट की सवारी नहीं बल्कि एक गुब्बारे में सफर करना होगा है और आप अंतरिक्ष को छू सकते हैं.

अमेरिकी स्टार्टअप कंपनी की है योजना
अमेरिका के फ्लोरिडा की एक स्टार्टअप कंपनी स्पेस पर्सपेक्टिव साल 2021 में लोगों को गुब्बारे की सैर के जरिए अंतरिक्ष के किनारे तक लेजाने का ऑफर दे रही है. कंपनी एक स्पेसशिप नाम के गुब्बारे के जरिए लोगों को छह घंटे की यात्रा कराते हुए. उन्हें अंतरिक्ष के किनारे तक ले जाएगी.

कैसा होगा यह गुब्बारा
गुब्बार एक फुटबॉल स्टेडियम के आकार का होगा जिसमें हाइड्रोडन भरी होगी और इसमें 8 यात्री सफर कर सकेंगे. कंपनी ने फिलहाल टिकट की कीमत तय नहीं की है, लकिन उनकी योजना के मुताबिक टिकट की शुरुआती कीमत 1.25  लाख डॉलर यानि कि 93 लाख रुपये हो सकती है. यह गुब्बारा आम व्यवसायिक हवाई जहाजों की ऊंचाई की तुलना में तीन गुना ज्यादा ऊंचाई तक जाएगा जो कि पृथ्वी से एक लाख फुट तक की ऊंचाई होगी.



अब तक केवल 20 लोग जा पाए हैं वहां
कंपनी की वेबसाइट के मुताबकि स्पेसशिप नेप्च्यून को एक पायलट उड़ाएगा और एक बारे में 8 लोगों को वहां ले जाएगा जहां अब तक केवल 20 लोग जा सके हैं. इस गुब्बारे में एक रिफ्रेशमेंट बार और एक लैवेटॉरी भी होगी.



एक अनोखा अनुभव
वेबसाइट का कहना है कि वहां से ब्रहाम्ण्ड का सबसे अच्छा दृश्य दिखाई देगा. अंतरिक्ष के इस किनारे पर यात्री दो घंटे तक रहेंगे जहां से वे सोशल मीडिया के जरिए अपना अनुभव भी शेयर कर सकेंगे. अगले साल की शुरुआत में इस बड़े गुब्बारे की टेस्ट फ्लाइट की जाएगी. इस फ्लाइट को कंपनी अलास्का के पैसिफिक स्पेसपोर्ट कॉम्पलेक्स से शुरू करने की तैयारी में हैं.

जानिए कैसे बनी वह खास Perfume, जो आपको बताएगी अंतरिक्ष की Smell  

क्या है कंपनी का विजन
कंपनी की संस्थापक जेन पोन्टर ने कहा, “हम लोगों के अंतरिक्ष में जाने नजरिए को बदलने को प्रतिबद्ध है. इसके जरिए हम पृथ्वी पर जीवन की भलाई के लिए जरूरी शोध और लोगों को हमारे ग्रह के प्रति बर्ताव और नजरिए में बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं.  आज पहले से कहीं ज्यादा हमें अपने ग्रह को पूरी मानवता और हमारे जैवमंडल की स्पेसशिप की तरह देखने की जरूरत है.

Balloon Hot air
अब तक केवल 20 लोग ही इस तरह की यात्रा कर सके हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


अलास्का से शुरू होगी यात्रा
अलास्का एरोस्पेस कॉर्प के सीईओ मार्क लेस्टर इसको लेकर काफी उत्साहित हैं उन्हें उम्मीद है कि इससे अलास्का में पर्यटन को बहुत बढ़ावा मिलेगा.  लेस्टर ने कहा,”इससे यहां दुनिया भर से लोग अलास्का आना चाहेंगे और अंतरिक्ष के किनारे से उत्तरी गोलार्द्ध की लाइट्स को देखेंगे. इस यात्रा में अंतरिक्ष तक ऊपर पहुंचने में दो घंटे लगेंगे जिसमें पृथ्वी के ऊपर 31 किलोमीटर का सफर होगा.

छोटे सैटेलाइट से निकलेगा फोम का जाल और साफ होगा अंतरिक्ष का कचरा, जानिए कैसे

कैसे होगी वापसी
वहीं नेप्च्यून के लौटने की यात्रा का समय भी दो ही घंटे का होगा जिसके बाद गुब्बारा और कैप्सूल कोडिएक द्वीप और एल्यूटियन द्वीप समूब के आसपास पानी में उतरेंगे जहां से एक जहाज यात्रियों को ले लेगा. इस गुब्बारे को नासा की दशकों पुरानी तकनीक के आधार पर डिजाइन किया गया है जिसका नासा ने टेलीस्कोप को उड़ाने के लिए उपयोग किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading