KBC सवाल : वो सुभाष चंद्र बोस, जो उपमुख्यमंत्री बने

पी सुभाष चंद्र बोस
पी सुभाष चंद्र बोस

कौन बनेगा करोड़पति (Kaun Banega Crorepati) में 29 सितंबर को एक सवाल पूछा गया कि पी सुभाष चंद्र बोस ( P Subhash Chandra Bose) किस राज्य के उप मुख्यमंत्री (Deputy Chief Minister) बने थे. सुभाष चंद्र बोस को तो हम सभी जानते हैं लेकिन ये सुभाष बोस कौन हैं. आइए जानते हैं,

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 10:23 PM IST
  • Share this:
कौन बनेगा करोड़पति में एक सवाल पूछा गया. ये सवाल था कौन सा राज्य है जहां पी सुभाष चंद्र बोस उप मुख्यमंत्री बने. चकरा गए ना ये सवाल सुनकर. हैरान मत होइए. ये बात उस सुभाष चंद्र बोस के बारे में नहीं हो रही है, जो देश के घर घर में महान स्वतंत्रता सेनानी के तौर पर चर्चित थे. जिन्होंने आजाद हिंद फौज बनाई थी, जिसने अंग्रेजों को छक्के छुड़ा दिए थे. लेकिन ये सुभाष चंद्र बोस ये वो नहीं है. तो ये कौन हैं. आइए जानते हैं.

दरअसल इन सुभाष चंद्र बोस का पूरा नाम पी सुभाष चंद्र बोस है यानि फिल्ली सुभाष चंद्र बोस. वो किसी अंग्रेज की नजर आते हैं.

आंध्र के उप मुख्यमंत्री बने थे
ये सुभाष इस भारतीय राजनीतिज्ञ हैं. राज्यसभा के सदस्य हैं. ये सुभाष बोस वर्ष 2019 में आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की जीत के बाद वहां के पांच उप मुख्यमंत्रियों में एक बने थे.
ये भी पढ़ें - KBC सवाल : गैलिलियो नहीं बल्कि एक चश्मा बनाने वाले की थी दूरबीन की खोज



इसके बाद वाईएसआर कांग्रेस ने उन्हें वर्ष 2020 में राज्यसभा में चुन कर भेजा, लिहाजा अब ये सुभाष चंद्र बोस संसद के उच्च सदन में हैं.

जगन रेड्डी के खास लोगों में
जब वो आंध्र प्रदेश में उप मुख्यमंत्री बनाए गए तब वो आंध्र प्रदेश की विधान परिषद के सदस्य थे. उन्हें आंध्र प्रदेश की राजनीति में जगन रेड्डी का विश्वासपात्र कहा जाता है. इससे पहले उनके संबंध वाईएस राजशेखर रेड्डी से थे.

ये भी पढ़ें - जानिए, उस हीरे के बारे में जो अंडे के बराबर है और अब नीलाम हो रहा है

पहले भी आंध्र प्रदेश में मंत्री रह चुके हैं
ये सुभाष बोस दो बार वाईएस राजशेखर रेड्डी केबिनेट में शामिल हुए यानि मंत्री बने. इससे पहले वो आंध्र प्रदेश में कोनिजेती रोसैया सरकार में भी मंत्री थे. वो एक विधायत के तौर पर आंध्र प्रदेश में रामाचंद्रपुरम को रिप्रेजेंट करते थे. लेकिन इसके बाद उन्होंने वाईएसआर कांग्रेस में चले गए.

तब राज्यसभा भेजे गए
हालांकि जगन रेड्डी ने उन्हें आंध्र प्रदेश में उपमुख्यमंत्री तो बनाया लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्य की विधान परिषद को खत्म कर दिया, तब उन्हें राज्यसभा में भेजने का फैसला किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज