Everyday Science : पूरे मानव शरीर में कुल कितने ऑर्गन होते हैं?

मानव शरीर की संरचना के बारे में वैज्ञानिक लगातार शोध कर रहे हैं. (चित्र Pixabay से साभार.)
मानव शरीर की संरचना के बारे में वैज्ञानिक लगातार शोध कर रहे हैं. (चित्र Pixabay से साभार.)

सरसरी तौर पर सुनने में लगता है कि यह सवाल (Quiz) या तो बोरिंग है, या आसान है या फिर सिर्फ विज्ञान का विषय (Science Class) है, लेकिन थोड़ा सोचें और थोड़ा समझें तो यह बेहद दिलचस्प है और एक रोचक खेल (Fun Activity) भी है.

  • News18India
  • Last Updated: October 15, 2020, 3:07 PM IST
  • Share this:
हमारे शरीर (Human Body) में कितनी हड्डियां होती हैं? या दांत कितने होते हैं? इन सवालों के जवाब तो सामान्य ज्ञान (General Knowledge), शुरूआती कक्षाओं (Basic Education) या कुछ फिल्मों वगैरह में आपको मिल चुके हैं, लेकिन हमारे शरीर में अंगों (Human Organs) की संख्या कुल कितनी हैं? इस सवाल के बारे में क्या आपने कभी सोचा है? नहीं, तो अब जानिए कि इसका जवाब क्या है और किस हिसाब से गिनने में किस तरह से संख्या अलग-अलग हो जाती है.

यह सवाल जितना आप अंदाज़ा लगा रहे हैं, उतना आसान नहीं है. प्राचीन काल से मनुष्य इस सवाल का जवाब तलाशने की कोशिश करता रहा है. मिस्र (Egypt) में प्राचीन काल में शवों पर लेप के चलते मानव अंगों के बारे में जानने की कोशिश की गई थी. दूसरी तरफ, चीन (China) में मानव शरीर के बारे में सबसे शुरूआती अध्ययन मिलता है. अब हज़ारों साल बाद विज्ञान इस सवाल का जवाब कितना खोज पाया है?

ये भी पढ़ें :- गाय को गले लगाना क्यों दुनिया में बन रहा है ट्रेंड, क्या ये कोई थेरेपी है?



अंग किसे माना जाता है?
सबसे पहले तो यही समझने की बात है कि विज्ञान की नज़र में अंग का क्या मतलब है? ऊतकों यानी टिशूज़ के एक समूह का मतलब अंग होता है. यह परिभाषा आपको प्राइमरी स्कूल के बाद की विज्ञान की किताबों में मिल जाएगी. विज्ञान के ही मुताबिक हर अंग आपके शरीर की क्षमता को बढ़ाने और अस्तित्व को बचाने के लिए काम करता है.

human body, human body science, organ transplant, human organs and their functions, मानव शरीर, मानव शरीर विज्ञान, अंग प्रत्यारोपण, मानव शरीर के अंगों के नाम
विभिन्न मानव अंगों के चित्र Pixabay से साभार.


मस्तिष्क, हृदय, लिवर, कम से कम एक किडनी और एक फेफड़ा अनिवार्य अंग हैं यानी इनमें से किसी भी एक के बगैर ज़िंदा नहीं रहा जा सकता. बाकी कई अंग ऐसे भी हैं, जिनके बगैर ज़िंदा रहा जा सकता है या फिर आधुनिक विज्ञान की मदद से उन्हें बदला जा सकता है. अब जानिए कि अंगों की संख्या कैसे तय होती है.

आप कैसे गिनते हैं, इससे तय होती है संख्या
विशेषज्ञ मानते हैं कि मानव शरीर में कुल अंगों की संख्या इस बात पर निर्भर करती है कि आप किससे पूछते हैं या कैसे गिनते हैं. देखिए मानव शरीर में 206 हड्डियां हैं, अब अगर आप एक हड्डी को एक अंग मानेंगे तो संख्या बहुत ज़्यादा हो जाएगी लेकिन लाइव साइन्स की एक रिपोर्ट में वैज्ञानिकों के हवाले से कहा गया है कि आम तौर पर मानव शरीर में अंगों की संख्या 78 मानी जाती है.

हालांकि यह संख्या कहां से आई, किसने बताई इस बारे में खास जानकारी नहीं है लेकिन इस संख्या में जीभ, पेट, थाइरॉइड, पेंक्रियास जैसे तमाम महत्वपूर्ण अंग शामिल हैं और हां, हड्डियों और दांतों को एक एक अंग ही गिना गया है.

क्यों अलग राय रखते हैं विशेषज्ञ?
अगर आप किसी ऊतक विज्ञानी से बात करेंगे तो अंगों की संख्या बहुत ज़्यादा हो जाएगी क्योंकि ऊतक के समूह का मतलब अंग है. एक उदाहरण यह भी है कि 2017 में वैज्ञानिकों ने आंतेपशी मेसण्टेरी को एक नया अंग माना, जो कि पहले नहीं माना जाता था क्योंकि यह आंत के साथ चिपका हुआ होता है. लेकिन इस स्टडी में जो तर्क दिए गए उससे वैज्ञानिक सहमत हुए और फिर अंगों की कुल संख्या को लेकर विचार शुरू हुआ.

ये भी पढ़ें :-

कोविड-19 से जुड़ी 7 भ्रांतियां क्या हैं, जिन्हें अब भी सच समझा जा रहा है

क्या है इंडिया का BR प्लान, जिससे घबरा रहे हैं चीन और पाकिस्तान?

चलिए फिर एक बार गिनते हैं
अब देखिए 78 की संख्या में आप ​हड्डियों को एक अंग के तौर पर गिन चुके हैं. अगर हड्डियों को अलग अलग गिना जाए तो इसमें 205 और जोड़कर आप कह सकते हैं कि कुल अंग 284 हैं. इसी तरह दांत भी अलग अलग गिनें तो कुल अंग 315 हो जाएंगे. इसी तरह, 78 की संख्या में और भी अंग हैं, जिन्हें एक ही बार गिना गया है, लेकिन वो एक से ज़्यादा होते हैं जैसे नाड़ियां, स्नायु आदि. इन्हें भी आप अलग अलग गिनें तो बस आपको जोड़ करते जाना है.

कुल मिलाकर यह खेल बहुत लंबा चल सकता है. बहुत छोटे छोटे ऊतक समूहों तक की गणना कर सकें तो आपको खरबों की संख्या तक मिल सकती है, लेकिन इस खेल को ज़्यादा न उलझाते हुए और ज़रूरी अंगों को समझें तो 78 की संख्या से संतोष कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज