Home /News /knowledge /

ट्रंप की कुर्सी ही ढाल थी, अब क्रिमिनल केस चले तो कैसे फंस सकते हैं ट्रंप?

ट्रंप की कुर्सी ही ढाल थी, अब क्रिमिनल केस चले तो कैसे फंस सकते हैं ट्रंप?

ट्रंप का क्रिएटिव इलस्ट्रेशन Pixabay से साभार.

ट्रंप का क्रिएटिव इलस्ट्रेशन Pixabay से साभार.

अमेरिका के कानूनी ढांचे के हिसाब से राष्ट्रपति (US President) के खिलाफ कई केस नहीं चलाए जा सकते थे, लेकिन अब यह सुरक्षा डोनाल्ड ट्रंप के पास नहीं होगी. ट्रंप के खिलाफ कुछ गंभीर केसों के बारे में जानिए जिनसे ट्रंप भी घबराए हैं.

    एक तरफ अमेरिकी मीडिया (US Media) में ये खबरें ज़ोरों पर हैं कि डेमोक्रेट नेता जो ​बाइडन (Joe Biden) अगले राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं, तो दूसरी तरफ, ये खबरें भी कम नहीं हैं कि मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी हार मानने से न केवल कतरा रहे हैं बल्कि उसे पचा भी नहीं पा रहे हैं. क्या इसके पीछे कोई डर या चिंता है? पूर्व अभियोक्ताओं और कानूनी विशेषज्ञों (Legal Experts) के हवाले से खबरों में कहा जा रहा है कि अमेरिका के राष्ट्रपति को अमेरिका का कानूनी ढांचा (US Legal System) जो कानूनी हिफाज़त देता है, उसके छिनते ही ट्रंप भारी मुसीबत में आ सकते हैं.

    जी हां, जनवरी 2017 में अमेरिकी राष्ट्रपति का पद संभालने के बाद से ही ट्रंप के खिलाफ कई सिविल केसों समेत क्रिमिनल मामलों में जांच चल रही है. और खबरों की मानें तो बाइडन के राष्ट्रपति पद संभालते ही और ट्रंप के व्हाइट हाउस छोड़ते ही ट्रंप को ये कानूनी लड़ाइयां महंगी पड़ सकती हैं. ऐसी ही कुछ प्रमुख जांचों और मामलों को आप भी जानिए.

    ये भी पढ़ें :- कौन हैं डॉ. विवेक मूर्ति और अरुण मजूमदार, जो बाइडन कैबिनेट में दिख सकते हैं

    1. एक जांच से खुले कई सिरे
    पिछले दो साल से ज़्यादा समय से ट्रंप और उनकी पारिवारिक कंपनी ट्रंप ऑर्गेनाइज़ेशन के खिलाफ क्रिमिनल जांच कर रहे मैनहैटन के ज़िला अटॉर्नी सायरस वान्स की जांच में कई सिरे खुल चुके हैं. 2016 में चुनाव से पहले दो महिलाओं ने ट्रंप के साथ सेक्सुअल संबंध होने की बात कही थी, जिससे ट्रंप ने इनकार किया था. लेकिन इन महिलाओं को क​थित तौर पर ट्रंप के पूर्व वकील माइकल कोहेन ने गुपचुप ढंग से रकम अदा की थी.

    इस मामले की जांच में हाल में कोर्ट में वान्स ने जो कागज़ात सौंपे, उसमें इस जांच का दायरा बढ़कर बैंक, टैक्स, इंश्योरेंस फ्रॉड और गलत बिज़नेस रिकॉर्ड तक पहुंच चुका था. ट्रंप ने वान्स की इस जांच को राजनीति से प्रेरित बदले की कार्यवाही करार दिया था क्योंकि वान्स डेमोक्रेट हैं. दूसरी तरफ, ट्रंप के पिछले 8 सालों के टैक्स रिटर्न्स संबंधी कागज़ात जुटाने की खबरों से वान्स चर्चा में रहे थे.

    ये भी पढ़ें :- अमेरिका की नई उप राष्ट्रपति कमला हैरिस का रिश्ता छोटी बहन के साथ कैसा है?

    donald trump news, us president election, us president election results, donald trump investigation, डोनाल्ड ट्रंप न्यूज़, अमेरिका प्रेसिडेंट चुनाव, अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव नतीजे, डोनाल्ड ट्रंप बयान
    फाइनेंशियल और टैक्स फ्रॉड मामले में बुरे फंस सकते हैं ट्रंप.


    अमेरिकी न्याय विभाग ने वान्स की जांच को यह कहकर खारिज करने की कोशिश की थी कि अमेरिकी राष्ट्रपति को इस तरह दोषी नहीं ठहराया जा सकता. अब कानूनी विशेषज्ञ कह रहे हैं कि कुर्सी छूटते ही ट्रंप के खिलाफ वान्स की यह जांच काफी महंगी पड़ सकती है क्योंकि इसमें कई गंभीर किस्म के दस्तावेज़ हाथ लग चुके हैं और यह जांच पहले ही सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुकी है.

    2. न्याय विभाग कर सकता है जांच?
    अमेरिका का न्याय मंत्रालय ही ट्रंप के खिलाफ क्रिमिनल आरोपों में जांच कर सकता है, जो एक नए अटॉर्नी जनरल को सौंपी जा सकती है. अस्ल में, कानूनी विशेषज्ञों ने कहा था कि टैक्स चोरी के आरोप में संघीय स्तर पर जांच ट्रंप के खिलाफ संभव है क्योंकि एनवायटी की खबर के हिसाब से ट्रंप ने 2016 और 2017 में सिर्फ 750 डॉलर आयकर के तौर पर अदा किए.

    ये भी पढ़ें :- दो साल में कितने राज्यों में हुए चुनाव, कितने गए बीजेपी के खाते में?

    ट्रंप ने हालांकि एनवायटी की रिपोर्ट को गलत करार देकर कहा था कि उन्होंने नियमानुसार टैक्स अदा किया और लाखों डॉलर चुकाए. दूसरी तरफ, कानूनी विशेषज्ञ कह रहे हैं कि पूरे दस्तावेज़ देखे ​बगैर कुछ समझना मुश्किल है, लेकिन इतना बड़ा टैक्स फ्रॉड अगर सच है, तो यह बड़ा क्रिमिनल केस है. वहीं, बाइडन साफ कह चुके हैं कि न्याय विभाग जो उचित समझेगा, कार्यवाही करेगा और उसमें टांग अड़ाने का सवाल ही नहीं है.

    donald trump news, us president election, us president election results, donald trump investigation, डोनाल्ड ट्रंप न्यूज़, अमेरिका प्रेसिडेंट चुनाव, अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव नतीजे, डोनाल्ड ट्रंप बयान
    रेप और अश्लील बर्ताव के आरोपों से घिरे हुए हैं ट्रंप.


    3. न्यूयॉर्क सिविल फ्रॉड जांच
    अटॉर्नी जनरल लेतिशिया जेम्स भी टैक्स फ्रॉड को लेकर ट्रंप और ट्रंप ऑर्गेनाइज़ेशन के खिलाफ जांच कर रही हैं. इस जांच का एंगल अलग है. जब ट्रंप के पूर्व वकील कोहेन ने कांग्रेस को यह बताया कि ट्रंप ने पैसा बचाने के लिए असेट वैल्यू बढ़ाकर दिखाई और रियल एस्टेट टैक्स कम करने के लिए घटाकर, तब डेमोक्रेट जेम्स ने जांच शुरू की थी.

    ये भी पढ़ें :- चुनाव हार चुका अमेरिकी प्रेसिडेंट क्यों ढाई महीने पद पर बना रहता है?

    इस केस को भी ट्रंप ऑर्गेनाइज़ेशन ने सियासी द्वेष भावना कहा. हालांकि यह सिविल जांच है इसलिए इसमें दोषी पाए जाने पर महज़ वित्तीय जुर्माने का ही प्रावधान है.

    4. कैरोल ने लगाया रेप का आरोप
    एक मशहूर पत्रिका की पूर्व लेखक ई जीन कैरोल ने ट्रंप पर आरोप लगाया था कि उन्होंने 1990 में एक डिपार्टमेंट स्टोर में कैरोल के साथ बलात्कार किया था. कैरोल ने इस मामले में 2019 में ट्रंप के खिलाफ मानहानि का दावा किया था. इस मामले में जज ने केस बढ़ाने की इजाज़त अगस्त में दी. इसका मतलब है कि कैरोल की बताई गई ड्रेस के नमूनों को मैच करने के लिए डीएनए जांच हो सकती है.

    हालांकि फेडरल जज ने इस मामले को खारिज करने की दिशा में कवायद की थी, लेकिन अब कानूनी विशेषज्ञ मान रहे हैं कि बाइडन के न्याय विभाग में इस केस में कोई रुकावट नहीं होगी और इसकी कार्रवाई चल सकेगी.

    donald trump news, us president election, us president election results, donald trump investigation, डोनाल्ड ट्रंप न्यूज़, अमेरिका प्रेसिडेंट चुनाव, अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव नतीजे, डोनाल्ड ट्रंप बयान
    ट्रंप के खिलाफ कई मामलों में जांच चल रही है.


    5. जबरन किस और छेड़छाड़ का केस
    डोनाल्ड ट्रंप के रिएलिटी टीवी शो 'द अप्रेंटिस' में 2005 में एक कंटेस्टेंट के तौर पर शामिल हुईं समर ज़ेर्वोस ने आरोप लगाया था कि ट्रंप ने 2007 की एक मीटिंग के दौरान पहले तो उन्हें जबरन किस किया था और फिर होटल में उनके साथ शारीरिक तौर पर छेड़छाड़ यानी अश्लील हरकतें की थीं. जब ट्रंप ने इसे झूठ कहा तो ज़ेर्वोस ने मानहानि का केस दायर किया.

    ये भी पढ़ें :- कमला हैरिस का अमेरिकी उपराष्ट्रपति बनना किस तरह है ऐतिहासिक

    बाद में, इस केस में भी ट्रंप ने यही कहा चूंकि वो अमेरिकी राष्ट्रपति हैं इसलिए उन पर इस तरह का केस चलाया ही नहीं जा सकता. अमेरिकी लीगल सिस्टम की यह ढाल खत्म होते ही यह केस भी ट्रंप को बुरा फंसा सकता है.undefined

    Tags: Donald Trump, President of the USA, Trump news, US presidential election 2020

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर