• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • इन पांच परिवारों के इर्द-गिर्द घूमती है हरियाणा की सियासत

इन पांच परिवारों के इर्द-गिर्द घूमती है हरियाणा की सियासत

हरियाणा की राजनीति के रसूखदार परिवार.

हरियाणा की राजनीति के रसूखदार परिवार.

Haryana Election Result 2019: मतगणना से मिल रहे रुझानों के बीच जानें कि हरियाणा की सियासत (Haryana Politics) में कौन से परिवार अहम रहे और अब कितने प्रासंगिक हैं.

  • Share this:
    महाराष्ट्र (Maharashtra) के साथ हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Election 2019) के नतीजों के दिन रुझान आने शुरू हो गए हैं. हरियाणा में किस पार्टी या गठबंधन की सरकार (Haryana Government) बनने वाली है, इसका जवाब बहुत जल्द स्पष्ट हो सकता है. इस बीच आपको यह जानना चाहिए कि कुल 90 विधानसभा सीटों वाले राज्य हरियाणा की राजनीति किन पांच रसूखदार परिवारों (Haryana Political Families) के इर्द-गिर्द घूमती रही है. इनमें से कुछ ही इस चुनाव में अप्रासंगिक हैं लेकिन अब भी उनकी पहचान राज्य में बनी हुई है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता.

    ये भी पढ़ें : भारतीय राजनीति में हरियाणा ने इस तरह गढ़ा 'आयाराम-गयाराम' का मुहावरा

    रोहतक का हुड्डा परिवार
    हरियाणा में 2005 से 2014 तक मुख्यमंत्री रहने वाले भूपिंदर सिंह हुड्डा (Bhupindar Singh Hooda) का परिवार राज्य की सियासत में बड़ा और अहम रहा है. भूपिंदर सिंह हुड्डा इस बार खुद चुनाव मैदान में हैं और अगर इस बार कांग्रेस (Congress) सरकार बनती है तो माना जा रहा है कि हुड्डा ही फिर मुख्यमंत्री होंगे. हुड्डा के पिता स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रणबीर सिंह हुड्डा हरियाणा के राज्य बनने से पहले ही 1952 से 1967 तक सांसद रहे थे और केंद्रीय मंत्री भी. भूपिंदर सिंह हुड्डा भी तीन बार सांसद रह चुके हैं.

    ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

    haryana election result, haryana election result 2019, हरियाणा इलेक्शन रिजल्ट, हरियाणा इलेक्शन रिजल्ट २०१९, haryana Winner, haryana chunav parinam 2019, haryana Vidhan Sabha election results, हरियाणा चुनाव परिणाम २०१९, congress, bjp, jjp
    भूपिंदर सिंह हुड्डा दो कार्यकाल पूरे करने वाले राज्य के इकलौते मुख्यमंत्री रहे.


    हुड्डा परिवार की तीसरी पीढ़ी के रूप में दीपेंदर सिंह हुड्डा का नाम भी स्थापित हो चुका है. दीपेंदर कांग्रेस के टिकट पर लगातार चार बार निर्वाचित होकर संसद पहुंचने में कामयाब रहे हैं.

    जाटलैंड का चौटाला परिवार
    70 के दशक में हरियाणा के मुख्यमंत्री बने देवीलाल का खानदान हरियाणा की सियासत का प्रमुख परिवार है. देवीलाल के बेटे ओमप्रकाश चौटाला चार बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं. ओपी चौटाला के दो बेटे अजय और अभय चौटाला राजनीतिक रूप से उतनी प्रतिष्ठा नहीं पा सके लेकिन इस परिवार की चौथी पीढ़ी में दुष्यंत चौटाला जननायक जनता पार्टी की स्थापना कर राज्य की सियासत में उभर रहे हैं.

    माना जा रहा है कि इस चुनाव में दुष्यंत किंगमेकर की भूमिका निभाने वाले सिद्ध होंगे. देवीलाल के परिवार की चौथी पीढ़ी में दुष्यंत के भाई दिग्विजय चौटाला और उनके चचेरे भाई अर्जुन चौटाला के नाम भी उल्लेखनीय हैं.

    haryana election result, haryana election result 2019, हरियाणा इलेक्शन रिजल्ट, हरियाणा इलेक्शन रिजल्ट २०१९, haryana Winner, haryana chunav parinam 2019, haryana Vidhan Sabha election results, हरियाणा चुनाव परिणाम २०१९, congress, bjp, jjp
    ओमप्रकाश चौटाला चार बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं.


    भजनलाल की विरासत
    हरियाणा की राजनीति में आयाराम गयाराम वाला मुहावरा गढ़ने के कारण चर्चित हुए भजनलाल खुद मुख्यमंत्री रहे. देवीलाल सरकार का तख्तापलट करने और अपने 40 विधायकों के साथ जनता पार्टी छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लेने वाले ऐतिहासिक दलबदल के पीछे रहे भजनलाल के बेटे कुलदीप बिश्नोई फिर इस विधानसभा चुनाव में आदमपुर सीट से मैदान में हैं. उनके बेटे भव्य बिश्नोई भी राज्य की सियासत में आ चुके हैं.

    भिवानी के बंसीलाल
    हरियाणा के राज्य बनने के दो साल बाद ही मुख्यमंत्री बने बंसीलाल को आधुनिक हरियाणा का निर्माता भी कहा जाता है. तीन बार राज्य के सीएम रहे बंसीलाल को इंदिरा गांधी का बेहद करीबी माना जाता था. हालांकि कांग्रेस से अलग होकर बाद में उन्होंने हरियाणा विकास पार्टी बनाई थी. बंसीलाल की विरासत को उनकी पोती श्रुति चौधरी संभाल रही हैं, जिन्होंने भिवानी से 2009 में चुनाव लड़कर आईएनएलडी के अजय सिंह चौटाला को हराया था.

    haryana election result, haryana election result 2019, हरियाणा इलेक्शन रिजल्ट, हरियाणा इलेक्शन रिजल्ट २०१९, haryana Winner, haryana chunav parinam 2019, haryana Vidhan Sabha election results, हरियाणा चुनाव परिणाम २०१९, congress, bjp, jjp
    भजनलाल के बेटे कुलदीप बिश्नोई इस विधानसभा चुनाव में आदमपुर सीट से मैदान में हैं.


    जाटों के मसीहा का वंश
    ब्रिटिश राज में छोटू राम अविभाजित पंजाब से जुड़े आंदोलन के कारण कांग्रेस के सामने खड़े होकर बड़े नेता बने थे. जानकारों की मानें तो किसानों के अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाले छोटू राम को जाटों का मसीहा तक कहा गया था. छोटू राम के पोते बीरेंद्र सिंह भाजपा के नेता हैं और केंद्रीय मंत्री भी. उनके बेटे बृजेंद्र सिंह पूर्व आईएएस रह चुके हैं और भाजपा के टिकट पर इसी साल हिसार से लोकसभा सांसद के रूप में चुने गए.



    यह भी पढ़ें-


    प्रत्यर्पण कानून रद्द, ​हांगकांग के नौजवानों से क्यों हार गया चीन?
    अमेरिका में लग्जरी गुफाओं में रहता है अजीब कम्यून, हर शख्स की कई बीवियां

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज