शुरू हो रही हैं घरेलू उड़ानें, हवाई सफर से पहले ये बातें जानना आपके लिए जरूरी है

पटना में कल से फिर शुरू होगी विमान सेवा
(न्यूज़18 क्रिएटिव)
पटना में कल से फिर शुरू होगी विमान सेवा (न्यूज़18 क्रिएटिव)

Covid 19 के कारण लॉकडाउन (Lockdown) में ढील बरतते हुए कुछ घरेलू उड़ान फिर शुरू की जा रही हैं. लेकिन ज़ाहिर है कि हवाई सफर (Air Travel) पहले जैसा नहीं होगा. इस हवाई सफर पर जाने से पहले अगर आप कुछ ज़रूरी बातें जान लें तो आपको न केवल सुविधा होगी बल्कि आप जागरूक नागरिक भी कहलाएंगे.

  • Share this:
आगामी 25 मार्च यानी सोमवार से घरेलू उड़ानें (Domestic) फिर शुरू होने जा रही हैं. Corona Virus के प्रकोप के चलते हुए लॉकडाउन के दौरान शुरू हो रहीं घरेलू उड़ानों के ज़रिये अगर आप सोमवार को या उसके बाद के किसी दिन हवाई यात्रा करने वाले हैं तो आपके लिए कुछ बातें जान लेना बेहद ज़रूरी है. जैसे Airport और Flights में क्या बदलाव होंगे? आपको किस तरह का बर्ताव करना होगा? आपके सामान (Luggage) पर टैगिंग कैसे होगी? भूख लगने पर फ्लाइट में आप क्या कर सकेंगे? क्या लैपटॉप बैग ले जा सकते हैं?

इन बातों के साथ ही, ये भी जानें कि भारतीय एयरलाइनें मिडिल सीट के सवाल पर क्या नज़रिया रखती हैं. यह सवाल इसलिए खड़ा हुआ है क्योंकि कई देशों में एयरलाइनों ने मिडिल सीट को लेकर बदलाव किए हैं. लेकिन, भारत में अब तक इसे लेकर एक उदासीनता सी दिखी है. यह पूरा मामला भी जानेंगे.

1. आपके लगेज पर टैगिंग कौन करेगा?
कोविड 19 संक्रमण से बचाव के मद्देनज़र हवाई अड्डों व फ्लाइट में बहुत सी बातों का खयाल रखा जा रहा है जैसे यात्रियों और उनके सामान के थर्मल स्कैन, सैनिटाइज़ेशन आदि की व्यवस्था होगी. इस बारे में इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक अपने लगेज पर आपको खुद टैगिंग करना होगी. पीएनआर और टिकट के प्रिंट लेकर आप लगेज पर चस्पा करें. यदि प्रिंट नहीं है तो टिकट नंबर और डिटेल्स एक कागज़ पर लिखकर चिपकाएं.
corona virus update, covid 19 update, lockdown update, flight schedule, changes in flights, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, लॉकडाउन अपडेट, फ्लाइट शेड्यूल, फ्लाइट में बदलाव
न्यूज़18 क्रिएटिव




2. कितना सामान और लैपटॉप बैग का झमेला क्या है?
केवल एक कैबिन बैग और एक चेक इन बैग को ही मंज़ूरी दी गई है. एक से ज़्यादा चेक इन बैग अगर आप ले जाएंगे तो खुद को मुश्किल में डालेंगे. रही बात, लैपटॉप बैग की, तो यह और महिलाओं का हैंड बैग आप फ्लाइट में कैबिन बैग के अलावा भी ले जा सकेंगे.

3. फ्लाइट में भोजन नहीं है, तो भूख लगी तो?
आप अपने साथ सूखे फूड आइटम ले जा सकते हैं. लेकिन ​सख़्त हिदायत यह है ​कि फ्लाइट के भीतर आप कुछ न खाएं. इसकी वजह यह है कि खाने के लिए आपको अपने चेहरे से मास्क हटाना होगा और इससे आप खुद को और दूसरों को संक्रमण के खतरे में डालेंगे.

4. कनेक्टिंग फ्लाइट के बीच का वक्त और बुज़ुर्गों का मूवमेंट कैसे?
अगर आपकी कोई कनेक्टिंग फ्लाइट है तो उसके बीच का समय आप किसी होटल में नहीं गुज़ार सकेंगे क्योंकि लॉकडाउन के कारण होटल्स बंद हैं. आपको यह ​वक्त ट्रांज़िट एरिया में बिताना होगा और सरकारी निर्देशों के मुताबिक आप इस ट्रांज़िट एरिया से बाहर नहीं जा सकेंगे. हालांकि रिफ्रेशमेंट की सहूलियतें होंगी. जिन्हें चलने में मुश्किल है, ऐसे बुज़ुर्गों या व्यक्तियों के लिए कुछ हवाई अड्डों पर व्हीलचेयरों तो कुछ जगह गोल्फ कार्ट की व्यवस्था होगी.

5. क्या है मिडिल सीट पर बवाल?
मिडिल सीट को लेकर दुनिया भर की एयरलाइन्स में अलग अलग ट्रेंड्स देखे गए हैं. डेल्टा एयरलाइन ने मिडिल सीट हटा ही दी है, तो अमेरिकन एयरलाइन में ज़्यादा जगह के लिए सीटों की व्यवस्था बदली गई है. इसी तरह और भी एयरलाइनों ने सीटों को लेकर कुछ बदलाव किए हैं ताकि फ्लाइट के भीतर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके. लेकिन भारत में इसे लेकर अलग नज़रिया दिख रहा है.

corona virus update, covid 19 update, lockdown update, flight schedule, changes in flights, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, लॉकडाउन अपडेट, फ्लाइट शेड्यूल, फ्लाइट में बदलाव
न्यूज़18 क्रिएटिव


6. क्या मिडिल सीट हटाने का कोई फायदा नहीं?
मिडिल सीट हटाने से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन संभव नहीं है. कई अध्ययनों में कहा गया है कि व्यक्तियों के बीच छह फीट की दूरी संक्रमण से बचने के लिहाज़ से सुरक्षित है तो कुछ अध्ययनों का दावा है कि 14 फीट तक वायरस फैल सकता है. अब भारत में एयरलाइनों का कहना है कि मिडिल सीट ह​टाने से दो यात्रियों के बीच छह फीट की दूरी पैदा नहीं होती. यहां तक कि फुल सर्विस एयरलाइनों में सीटों की दो कतारों के बीच भी छह फीट की गुंजाइश नहीं है.

7. हवाई यात्रा में कितनी साफ है हवा?
वैश्विक महामारी के दौर में हवाई यात्रा करने पर आप किस क्वालिटी की हवा में सांस ले रहे होंगे? चूंकि फ्लाइट्स में हाई क्वालिटी फिल्टर सिस्टम होता है इसलिए उड़ानों में आपके घर से बेहतर क्वालिटी की हवा होती है. यात्री अपने साथ सैनिटाइज़र के साथ ही कीटाणुनाशक वाइप्स रख सकते हैं.

8. सुपर सीनियर सिटीज़न पर प्रतिबंध क्यों नहीं?
माना जा सकता है कि 75 साल से ज़्यादा उम्र के कुछ लोग बेशक स्वस्थ होंगे लेकिन दुनिया भर के आंकड़े और विज्ञान का मानना है कि वृद्ध कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में जल्दी आने वाला समूह है. इस लिहाज़ से एचटी की रिपोर्ट सवाल उठाती है कि सरकार ने इस उम्र से ज़्यादा के लोगों के फिलहाल हवाई यात्रा करने पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगाया है.

ये भी पढ़ें :-

क्या अब हमेशा के लिए वर्क फ्रॉम होम अपनाएंगी ट्विटर, फेसबुक, गूगल जैसी वेबसाइटें?

लॉकडाउन में घर बैठे-बैठे कैसे और कितने मोटे हो रहे हैं लोग?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज