अपना शहर चुनें

States

कौन है 'गूगल बॉय' कौटिल्य पंडित, जो 13 साल की उम्र में बना केबीसी में एक्सपर्ट

एक इंटरव्यू के दौरान कौटिल्य पंडित. (Image : Youtube)
एक इंटरव्यू के दौरान कौटिल्य पंडित. (Image : Youtube)

सात साल पहले केबीसी (Kaun Banega Crorepati) में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुका यह बच्चा अब इसी पॉपुलर टीवी गेम शो (TV Game Show) में स्कूली छात्रों के लिए लाइफलाइन बन चुका है, जिसे देश भर में गूगल बॉय (Google Boy of India) के नाम से जाना जाता है.

  • News18India
  • Last Updated: December 16, 2020, 2:46 PM IST
  • Share this:
हरियाणा प्रान्त के करनाल जिले के कोहंड़ गाँव में जन्मे असाधारण प्रतिभासम्पन्न बच्चे कौटिल्य पंडित ने महज़ 6 साल से भी कम उम्र में कई विषयों से जुड़े सवालों के जवाब चुटकी में देकर दुनिया को हैरान कर दिया था. इस उम्र में जब बच्चे वर्णमाला और नर्सरी कविताएं पढ़ते हैं, तब कौटिल्य ने कम्प्यूटर को मात दी, तो यह बहस शुरू हो गई कि आखिर इस दिमाग में क्या खास है? कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी (Kurukshetra University) के विशेषज्ञ मनोवैज्ञानिक कौटिल्य की स्मृति क्षमता पर स्टडी कर रहे हैं.

4 अक्टूबर 2013 को हरियाणा के मुख्यमन्त्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने विलक्षण प्रतिभावान कौटिल्य को 10 लाख रुपये का चेक व प्रशस्ति पत्र दिया था. कौटिल्य की ख्याति इतनी बढ़ी कि उसे कई टीवी कार्यक्रमों में बुलाया गया था. टीवी चैनलों पर उसके कार्यक्रम देखकर देश विदेश में उसे गूगल बॉय (गूगल बच्चा) कहा जाने लगा. अपने दादा जयकृष्ण शर्मा को सर्वश्रेष्ठ मित्र व गुरु मानने वाले कौटिल्य के पिता सतीश शर्मा चाहते हैं कि कौटिल्य अपनी रुचि के विषय में दक्षता के साथ शिक्षा पूरी करे.

ये भी पढ़ें :- केबीसी सवाल : जब पुर्तगाल ने ब्रिटेन को दहेज में दे दिया था बॉम्बे...



केबीसी में गेस्ट से एक्सपर्ट तक
14 अक्टूबर 2013 को कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी) जैसे लोकप्रिय टीवी कार्यक्रम में अमिताभ बच्चन के सामने हॉटसीट पर पहुंचकर कौटिल्य ने अपनी तेज़ बुद्धि और हाज़िरजवाबी का परिचय दिया था. उस समय मशहूर अभिनेत्री काजोल और इंडियन आइडल के फाइनलिस्टों के साथ कौटिल्य को केबीसी में बतौर मेहमान बुलाया गया था. करीब सात साल बाद अब कौटिल्य केबीसी के स्टूडेंट स्पेशल वीक के दौरान बतौर एक्सपर्ट मौजूद है.

ये भी पढ़ें :- क्या है रेवेन्यू पुलिस, 160 साल पुराने ब्रिटिश सिस्टम से क्यों मुश्किल है निजात?

कौटिल्य की प्रतिभा और शुरूआत
फोटोग्राफिक याददाश्त रखने वाले कौटिल्य के बारे में कहा जाता है कि वह जो चीज़ एक बार देख ले या पढ़ ले, वो उसे याद रह जाती है. उसका आईक्यू 130 के करीब माना जाता है, जो उसकी उम्र के बच्चों की तुलना में बहुत ज़्यादा है. कौटिल्य की इस प्रतिभा का पता तब चला था जब उसकी टीचर ने एटलस समझने और सीखने को दिया था. टीचर हैरान हो गई थीं, जब कौटिल्य ने हर एक डेटा फटाफट याद कर लिया था.

kbc live, kbc game, kbc 2020, kbc registration, केबीसी रजिस्ट्रेशन 2020, केबीसी चार्ट, गूगल बॉय कौन है, गूगल बॉय कौटिल्य
चाणक्य की तरह का लुक अपना चुके हैं कौटिल्य.


इसके बाद भूगोल ही नहीं बल्कि जीडीपी, विज्ञान, प्रति​ व्यक्ति आय, स्पेस, राजनीति, इतिहास आदि कई विषयों में कौटिल्य ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया. कौटिल्य कई बार मीडिया में बता चुका है कि वो पहले अपनी शिक्षा पूरी करना चाहता है और​ निर्णायक वक्त पर तय करेगा कि उसे डॉक्टर, एस्ट्रोनॉट या वैज्ञानिक या किस रूप में अपना भविष्य देखना है. कौटिल्य अंतरिक्ष वैज्ञानिक के तौर पर करियर के लिए उत्सुक रहा है.

कौटिल्य की प्रेरणा और एक्सप्रेशन
'जीनियस बच्चा' कहलाने वाला कौटिल्य चाणक्य को अपना आदर्श मानता है और उन्हीं की तरह तेज़ बुद्धि वाला व्यक्ति बनने की तमन्ना रखता है. नाम ही नहीं, बल्कि चाणक्य के स्टाइल को भी कौटिल्य ने अपनाया. उसने अपने शेव्ड सिर पर चाणक्य की तरह चोटी रखने का मन बनाया. उसका यह लुक काफी पॉपुलर भी रहा. वहीं, चाणक्य को डांस, कविता और लेख लिखकर अपने उत्साह और भावों को व्यक्त करना पसंद है.

ये भी पढ़ें :- उस भयानक गैंग रेप केस की कहानी, जिसकी तकदीर निर्भया केस से बदली

कौटिल्य के एक से बढ़कर एक कीर्तिमान
इसी साल कौटिल्य को एक बड़ी उपलब्धि हासिल हुई, जब गूगल बॉय का चयन ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवार्ड 2020-21 के लिए हुआ. अमेरिका, यूके, जर्मनी, ईरान, एशिया, जापान, साउथ कोरिया आदि 30 देशों के 100 जीनियस बच्चों को यह अवार्ड दिया गया, जिनमें कौटिल्य का नाम भी शुमार था. इससे पहले कई उपलब्धियां कौटिल्य के नाम रह चुकी हैं.

- 15 अगस्त 2015 को इंग्लैंड की संसद के हाउस आफ कॉमन्स में भारत गौरव अवार्ड मिला.
- 2016 में संयुक्त अरब अमीरात की सरकार द्वारा सम्मानित किया गया.
- 2017 में नेपाल में भारतीय दूतावास ने सम्मानित किया.
- 2019 में दुबई के चैंबर आफ कामर्स में हजारों बच्चों को जीनियस बनने के टिप्स दिए.
- जनवरी 2014 में हरियाणा विधानसभा में सम्मानित हुए.
- पूर्व राष्ट्रपति डा. एपीजे अब्दुल कलाम और डा. प्रणब मुखर्जी से भी सम्मानित हुए.

कौटिल्य इस समय हरियाणा के गुड़गांव स्थित जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल में नौवीं कक्षा का स्टूडेंट है, लेकिन इन दिनों कोविड 19 के खतरे के चलते घर से ही पढ़ाई कर रहा है. अपनी पढ़ाई के साथ ही 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों को भी उसने पढ़ाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज