लाइव टीवी

आज़ाद हिंद फ़ौज के झंडे में चरखे की जगह बाघ क्यों था?

News18India
Updated: March 19, 2020, 7:09 PM IST
आज़ाद हिंद फ़ौज के झंडे में चरखे की जगह बाघ क्यों था?
आज़ाद हिंद फ़ौज का झंडा

पहली बार आईएनए ने जब उत्तर पूर्व भारत में जीत दर्ज की तो कर्नल शौकत मलिक ने एक झंडा फहराया था. इस झंडे का रंग संयोजन कैसा था, इसमें चरखे और बाघ की तस्वीरों को लेकर क्या इतिहास था? इतिहास के पन्नों से रोचक जानकारी.

  • News18India
  • Last Updated: March 19, 2020, 7:09 PM IST
  • Share this:
नेताजी सुभाषचंद्र बोस के नेतृत्व में बनी आज़ाद हिंद फ़ौज से जुड़ी एक दिलचस्प कहानी उस झंडे की भी है, जो 19 मार्च 1944 को पहली बार उत्तर पूर्वी भारत के मणिपुर राज्य में लहराया गया था. यह देश की आज़ादी के संघर्ष में पहली जीत भी करार दी जाती रही. तो कैसा था वह झंडा और क्या थी उसकी कहानी?

जैसा कि आप तस्वीर में देख रहे हैं, आज़ाद हिंद फ़ौज के इस झंडे में नारंगी, सफेद और हरे रंग की तीन पट्टियां थीं, लेकिन बीच की सफेद पट्टी बाकी दोनों से दोगुनी मोटी थी. और बीच की सफेद पट्टी पर एक उछलता बाघ दर्शाया गया. इसके अलावा पहली नारंगी पट्टी पर आज़ाद लिखा था और निचली हरी पट्टी पर हिन्द.

क्या पहले इस झंडे में चरखा था?
मणिपुर के मोइरांग में जीतने के बाद कर्नल शौकत अली मलिक या शौकत हयात मलिक ने पहली बार आज़ाद हिंद फ़ौज का झंडा फहराया था. विकिपीडिया के एक लेख में सिंगापुर के नेशनल आर्काइव में रखे एक ब्लैक एंड व्हाइट फोटो का उल्लेख है, जिसमें झंडे के बीच में चरखा नज़र आता है.



दूसरी तरफ, सीआरडब्ल्यू फ्लैग्स नाम के पोर्टल पर दर्ज एक लेख में आईएनए के झंडे के इतिहास पर इवान सैश के लेख में कुछ भारतीय अखबारों के तत्कालीन चित्रों के हवाले से कहा गया है कि आईएनए का अपना झंडा था. इस लेख के हिसाब से मणिपुर में जो झंडा फहराया गया था, वह उखरुल ज़िले में वायए शंगशाक के पास सुरक्षित रहा. शंगशाक इंडो-जापान युद्ध के साक्षी रहे. शंगशाक के हवाले से इवान के लेख में है कि यह वही झंडा था, जो आईएनए ने पहली बार मणिपुर में फहराया था.



तो बाघ क्यों था झंडे में?
इवान के लेख में कहा गया है कि यह झंडा खादी का बना हुआ था और इसमें उछलते हुए बाघ की तस्वीर आज़ाद हिंद फ़ौज के वीरों के साहस का प्रतीक थी. इसके साथ ही, उस समय के कुछ डाक टिकट भी मिलते हैं, जिनमें आईएनए और जर्मनी के संबंधों के प्रतीक हैं. इनमें भी इसी तरह का रंग संयोजन और आकृतियां का मेल है.

ये भी पढ़ें:

हमारी तैयारी विनाश की तो है, लेकिन बचाव की नहीं!

10 प्‍वाइंट्स में समझें कैसे चीन ने कोरोना वायरस पर पाया काबू

इजरायल फोन ट्रैक कर तो कोरिया सख्‍त फैसले लेकर कोरोना को कर रहा काबू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 19, 2020, 7:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading