किसी भी मौसम में दागी जा सकती है ये इज़राइली मिसाइल, जिसे खरीदने के मूड में है भारत

खबरों की मानें तो भारत अपनी रक्षा क्षमता को और मज़बूत करने के लिए अपने बेड़ागार में रूसी मिसाइलों की जगह इज़राइली मिसाइलें लाने की कवायद कर सकता है. इन इज़राइली मिसाइलों की खूबियां और खासियतें जानें.

News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 3:49 PM IST
किसी भी मौसम में दागी जा सकती है ये इज़राइली मिसाइल, जिसे खरीदने के मूड में है भारत
हवा से हवा में मार करने वाली डर्बी मिसाइल.
News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 3:49 PM IST
मेड इन अमेरिका मिसाइलों से लैस पाकिस्तानी जेट्स के साथ मुठभेड़ के बाद भारत अपने पास रूसी मेड मिसाइलों से संतुष्ट नहीं है इसलिए अब बेहतर मिसाइलें चाहता है. मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक इस कारण से भारत जल्द ही इज़राइल के साथ हथियारों के सौदे की तरफ बढ़ रहा है और हवा से हवा में मार करने करने वाली रूसी मिसाइलों को बदलने के मूड में है. इज़राइल दुनिया में बड़े शस्त्र निर्माता की हैसियत रखता है और कई तरह के हथियारों का सौदा करता है. भारत जो मिसाइलें इज़राइल से खरीदने का मन बना रहा है, वो मिसाइलें कैसी और कितनी बेहतर हैं, आइए ये भी जानें कि इनकी खरीदी से भारत की ताकत में कैसे इज़ाफ़ा होगा.

पढ़ें : क्यों कई लोगों के लिए 80 के दशक में मर चुके थे नेल्सन मंडेला?

ये हवा से हवा में मार करने वाली डर्बी मिसाइलें हैं, जिनका सौदा भारत जल्द इज़राइल के साथ कर सकता है. F-5, F-16 और ​ग्रिपन ई व मिराज जैसे लड़ाकू विमानों के ज़रिए इन विमानों को दागा जा सकता है. ये मिसाइलें कम रेंज से तकरीबन मध्यम रेंज तक निशाना बांध सकती हैं. इन मिसाइलों की खूबियां इतनी ही नहीं हैं.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

खास सॉफ्टवेयर लगा है इन मिसाइलों में
डर्बी मिसाइलें कई वैरिएंट्स में हैं जैसे वन-डर्बी और वन-डर्बी ईआर यानी एक्सटेंडेड रेंज. हवा से हवा में मार करने वाली अपग्रेडेड वन-डर्बी में एक्टिव रडार का एक खास सॉफ्टवेयर लगा है, जिसका प्रदर्शन बेंगलूरु में हुई एयरो इंडिया 2015 प्रदर्शनी में किया गया था. इसके अलावा, एडवांस्ड एक्टिव रडार मिसाइल वन-डर्बी ईआर का प्रदर्शन पेरिस के एयर शो 2015 में हुआ था. इसमें एक्टिव रडार के साथ डुअल पल्स रॉकेट मोटर भी है, जिससे इसकी रेंज 100 किमी तक बढ़ सकती है.

वन-डर्बी ईआर भारत पहले भी चयनित कर चुका है. हल्के लड़ाकू एयरक्राफ्ट तेजस के लिए भारत ने 2016 में इस मिसाइल के टेस्ट की खबरें भी सुर्खियों में रही थीं.
Loading...

powerful missile, russia made missile, israel made arms, indian defense deal, indian defense power, शक्तिशाली मिसाइल, रूसी मिसाइल, इज़राइली हथियार, भारतीय रक्षा सौदे, भारतीय सैन्य क्षमता
मिसाइल फायरिंग यूनिट.


इन मिसाइलों का डिज़ाइन है बेहतर
डर्बी मिसाइलों का डिज़ाइन इस तरह तैयार किया गया है कि ये तुलनात्मक रूप से कम वज़नी हों. इसमें चार मुख्य विंग्स हैं और पीछे की तरफ चार परंपरागत फिन्स हैं. इसके डिज़ाइन से इसमें लचीलापन और कई शॉट की क्षमता विकसित हुई है. 362 सेमी ऊंची इस मिसाल के विंग स्पैन 64 सेमी के हैं. 118​ किग्रा की ये मिसाइल 23 किग्रा के स्फोटक से लैस है.

रॉकेट मोटर से लैस ये मिसाइल 4 मैक की स्पीड से 50 किमी तक की रेंज में आसानी से मार कर सकती है. साथ ही, इस मिसाइल से हमले के लिए मौसम का असर नहीं पड़ता यानी दिन और रात किसी भी वक्त ये मार कर सकती है.

ऐसे विकसित हुईं ये मिसाइलें
शुरूआती 1980 दशक में डर्बी मिसाइलों का विकास कार्यक्रम शुरू हुआ था और 1998 में ये छह देशों के बेड़ागार में शामिल हो चुकी थी. फरवरी 2005 में भारतीय नौसेना के एयरक्राफ्ट पर इंटिग्रेशन के लिए छह प्रैक्टिस मिसाइलों और 20 डर्बी बीवीआर मिसाइलों के लिए रफाएल आर्मामेंट डेवलपमेंट अथॉरिटी को 25 मिलियन डॉलर का कॉंट्रैक्ट मिला था.

ये भी पढ़ें:
बैन के बावजूद इतने देशों से होकर किम के पास पहुंचती हैं लग्ज़री कारें
आज़ादी के इस अधिनियम के साथ भारत के बंटवारे पर लगी थी मुहर
First published: July 18, 2019, 3:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...