जयललिता के भतीजे-भतीजी के बारे में जानिए, जो उनकी संपत्ति के वारिस माने गए

जयललिता के भतीजे-भतीजी के बारे में जानिए, जो उनकी संपत्ति के वारिस माने गए
जयललिता के भतीजे व भतीजी को मिले संपत्ति अधिकार.

अम्मा (Amma) के नाम से मशहूर रहीं तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (Jayalalithaa) के इकलौते भाई के बेटे और बेटी को मद्रास उच्च न्यायालय (Madras High Court) ने जयललिता की ​कथित 900 करोड़ रुपए से ज़्यादा की संपत्ति का वारिस माना. आपको जानना चाहिए कि इन भाई बहन के बीच कैसे रिश्ते रहे हैं और 'शशिकला आंटी' को लेकर किस तरह के मतभेद.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
जस्टिस एन किरुबाकरन और जस्टिस अब्दुल कुडहोज़ की उपस्थिति वाली मद्रास हाई कोर्ट (High Court) की बेंच ने बीते बुधवार को तमिलनाडु (Tamil Nadu) की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (Jayalalitha) की तमाम संपत्ति (Property) का वारिस उनके भतीजे जे दीपक (J Deepak) और भतीजी जे दीपा (J Deepa) को माना. कथित तौर पर 900 करोड़ रुपए से ज़्यादा की संपत्ति के वारिस बने जयललिता के भतीजे और भतीजी के बारे में आप क्या जानते हैं?

अस्ल में, एआईएडीएमके के पदाधिकारियों एन पुगझेंडी और पी जानकीरमन ने तमिलनाडु के लोक प्रशासक द्वारा जारी पत्र के आधार पर कोर्ट में दावा करते हुए कहा था कि जयललिता की प्रॉपर्टी का प्रशासन उन्हें मिलना चाहिए. हालांकि कोर्ट ने यह आवेदन खारिज करते हुए दीपक और दीपा को वारिस माना. अब आपको जानना चाहिए कि जयललिता के वारिस बने दीपक और दीपा के बारे में क्या जानने लायक है.

तो राजनीतिक वारिस बन सकती थीं दीपा!
छह बार तमिलनाडु की सीएम रहीं जयललिता के निधन के बाद उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी को लेकर जब चर्चाएं गर्म थीं, तब संभावितों में एक नाम दीपा का तेज़ी से उभरा था. जयललिता के कई समर्थक उनकी भतीजी के समर्थन में थे. दीपा के घर के बाहर जमा होकर उनसे एआईएडीएमके पार्टी में मुख्य भूमिका लेने की अपील कर चुके थे. इस समर्थन के चलते दीपा ने एआईएडीएमके जे दीपा विंग बनाई थी, जिसमें दीपा के पति के माधवन जनरल सेक्रेट्री थे.



चुनाव लड़ने की भी कोशिश


अप्रैल 2017 में दीपा ने आरके नगर का उपचुनाव लड़ने के लिए स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा था. लेकिन यह उपचुनाव टल गया और करीब 8 महीने बाद जब फिर दीपा ने पर्चा भरा तो उनका आवेदन ठीक से नॉमिनेशन फॉर्म न भरने के कारण निरस्त कर दिया गया. यहां तक कि फॉर्म में सपंत्ति का ब्योरा तक नहीं भरा गया था.

दीपक और दीपा के बारे में और जानें

jayalalitha total property, jayalalitha property issue, jayalalitha total assets, jayalalitha jewellery, jayalalitha corruption case, jayalalitha property heirs, madras high court, jayalalitha court case, जयललिता कुल संपत्ति, जयललिता प्रॉपर्टी
जयललिता की भतीजी जे दीपा. फाइल फोटो.


खोती चली गई दीपा के समर्थन की ज़मीन
इसके बाद दीपा की राजनीतिक सक्रियता बेहद कम होती चली गई. मार्च 2019 में दीपा ने कहा कि उनकी पार्टी तमिलनाडु में 40 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. बाद में, दीपा ने एआईएडीएमके के साथ समझौता होने की बात कही और यह भी कहा कि उनके समर्थक यही चाहते थे. लेकिन, उन्होंने किसी नेता के साथ मुलाकात की, इसे लेकर संदेह जताया जाता रहा और धीरे धीरे उनके समर्थक दूर हो गए और अन्य पार्टियों में चले गए.

मेरे ढाई साल बर्बाद हुए, कहकर छोड़ दी सियासत
दीपा ने 30 जुलाई 2019 को अपनी पार्टी भंग करते हुए राजनीति छोड़ने की बात कही. इस मौके पर दीपा बेहद दुखी नज़र आईं और उन्होंने कहा कि बुरे बर्ताव, धमकियों के चलते एक पारंपरिक परिवार की महिला के लिए यह माहौल ठीक नहीं है. जीवन के ढाई साल बर्बाद करने के बाद वह अपने परिवार और पति के साथ चैन से जीना चाहती थीं. हालांकि कहा जाता है कि दीपा ने एआईएडीएमके पार्टी जॉइन करने की कोशिशें की थीं, लेकिन पार्टी ने उनके साथ को फायदे का सौदा नहीं समझा.

इंग्लैंड की डिग्री के साथ ही बेहद शिक्षित हैं दीपा
जयललिता के इकलौते भाई जयकुमार की बेटी दीपा मद्रास यूनिवर्सिटी से अंग्रेज़ी में बैचलर करने के बाद मदुरई यूनिवर्सिटी से मास कॉम में मास्टर्स की डिग्री ली. इसके बाद दीपा ने न्यू इंडियन एक्सप्रेस के साथ संपादकीय सहयोगी के तौर पर काम करने के बाद वेल्स की कार्डिफ यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल जर्नलिज़्म में एमए की डिग्री हासिल की. जयललिता की मर्ज़ी से ही दीपा ने 2012 में माधवन से शादी की थी.

jayalalitha total property, jayalalitha property issue, jayalalitha total assets, jayalalitha jewellery, jayalalitha corruption case, jayalalitha property heirs, madras high court, jayalalitha court case, जयललिता कुल संपत्ति, जयललिता प्रॉपर्टी
जयललिता के पोस्टर के सामने से गुज़रता व्यक्ति. फाइल फोटो.


शशिकला के साथ दीपा की ठनी रही
जयललिता की सहयोगी रहीं शशिकला ने जब राजनीतिक उत्तराधिकार हासिल करने की जद्दोज​हद की थी, तब दीपा के साथ उनके कड़वे रिश्ते उजागर हुए. दीपा ने दौलत के लिए जयललिता को मरवाने की साज़िश रचने तक के आरोप शशिकला पर लगाए थे. साथ ही, शशिकला के खिलाफ दीपा ने जय​ललिता की प्रॉपर्टी पर दावा पेश किया था और दो तीन साल पहले तक कई बार कहा था​ कि उन्हें और उनके पति माधवन को जान से मारे जाने की धमकियां मिल रही थीं.

लेकिन दीपक के रिश्ते 'अथाई' के साथ मधुर रहे
साल 2016 में दीपक तब सबकी नज़र में आए थे, जब शशिकला के साथ मिलकर उन्होंने अपनी बुआ जयललिता के अंतिम संस्कार में भाग लिया. शशिकला के प्रति पूरी निष्ठा जताने के बावजूद ज़्यादा सुर्खियों में न रहने वाले दीपक ने साफ कहा था कि वह शशिकला अथाई यानी आंटी के लिए हमेशा वफादार हैं. उनका यह स्टैंड उनकी सगी बहन दीपा के स्टैंड से एकदम उल्टा था.

दीपा के साथ कई बार रहे मतभेद
अम्मा के नाम से मशहूर जयललिता के औपचारिक निवास रहे पोस गार्डन स्थिति वेदा निलयम को जब अम्मा का स्मारक बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया था, तब दीपक ने इसका समर्थन किया था, लेकिन दीपा ने इस बारे में खामोशी बनाए रखी थी. इससे पहले, दीपा ने यह आरोप लगाया था कि पोस गार्डन के अंदर उनके राजनीतिक विरोधी संदिग्ध गतिविधियां कर रहे थे, लेकिन दीपक ने इससे उलट बयान दिए थे.

वहीं, जब जयललिता अस्पताल में भर्ती थीं, तब दीपा ने कहा था कि उन्हें अस्पताल में इजाज़त नहीं दी गई, जबकि दीपक ने ऐसी कोई शिकायत नहीं की थी. एचटी की विस्तृत रिपोर्ट के मुताबिक दोनों भाई बहनों के बीच कभी मधुर संबंध नहीं रहे.

jayalalitha total property, jayalalitha property issue, jayalalitha total assets, jayalalitha jewellery, jayalalitha corruption case, jayalalitha property heirs, madras high court, jayalalitha court case, जयललिता कुल संपत्ति, जयललिता प्रॉपर्टी
जयललिता के भतीजे जे दीपक ने लाइमलाइट से दूर रहना चुना. तस्वीर सूर्या.कॉम से साभार.


पोस गार्डन में दोनों का बचपन
साल 1990 में नहीं रहे जयकुमार के दोनों बच्चों दीपा और दीपक का बचपन पोस गार्डन में गुज़रा था. 1978 तक दोनों इसी बंगले में रहे थे लेकिन उसके बाद जयकुमार टी नगर रहने चले गए थे. दीपा ने हमेशा यही कहा कि जयललिता अथाई के साथ उनके परिवार के रिश्ते इसलिए बिगड़े क्योंकि पोस गार्डन में 'कई तरह के अजनबी' आया जाया करते थे.

दूसरी तरफ, संपत्ति को लेकर दीपक ने कहा था कि जयललिता के कानूनी वारिस वह और दीपा ही हैं इसलिए सारे रिश्तेदारों और अन्य व्यक्तियों ने जयललिता की जिन संपत्तियों पर कब्ज़ा किया हुआ था, उन सब पर उन्हें हक मिलना चाहिए.

लोक कल्याण के लिए ट्रस्ट बनाएंगे भाई बहन
जयललिता के वारिस माने गए दीपा और दीपक को संपत्ति का अधिकार देने के साथ ही कोर्ट ने कहा कि दोनों भाई बहन अपनी आंटी जयललिता के नाम पर एक ट्रस्ट बनाना चाहते हैं, जो सबके कल्याण के लिए समर्पित होगा. कोर्ट ने यह भी कहा कि राज्य सरकार हर समय दीपा और दीपक को पूरी सुरक्षा प्रदान करे.

ये भी पढ़ें :-

कितनी है जयललिता की कुल संपत्ति? जिसका हक भतीजे-भतीजी को मिला

कैसे पाकिस्तान में पनप रहे हैं भारत आने वाले टिड्डियों के दल?
First published: May 28, 2020, 6:20 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading