चांद पर उतरने के बाद आर्मस्ट्रॉंग और ऑल्ड्रिन ने वहां क्या किया था?

चांद पर उतरने के बाद आर्मस्ट्रॉंग और ऑल्ड्रिन ने वहां क्या किया था?
चांद पर एडविन ऑल्ड्रिन के वाइज़र में तस्वीर लेते आर्मस्ट्रॉंग नज़र आते हैं. तस्वीर विकिकॉमन्स से साभार.

अंतरिक्ष विज्ञान (Space Science) के क्षेत्र में मनुष्य की सबसे बड़ी कामयाबियों में शुमार है चांद पर मनुष्य की लैंडिंग. इस ऐतिहासिक घटना को 51 साल पूरे हो गए हैं. 20 और 21 जुलाई के दरमियान चांद की मिट्टी पर मनुष्य अपने पैरों के निशान छोड़ रहा था. फुटप्रिंट छोड़ने के अलावा दो अंतरिक्ष यात्री चांद पर और क्या कर रहे थे?

  • News18India
  • Last Updated: July 21, 2020, 12:38 PM IST
  • Share this:
मनुष्य ने जब चांद की सतह पर पहली बार अपने कदम (Man on Moon) रखे थे, उस ऐतिहासिक घटना को 51 साल पूरे हो रहे हैं. 20 और 21 जुलाई 1969 को चांद पर मनुष्य अपने कदमों से पहली बार चला था. नील आर्मस्ट्रॉंग (Neil Armstrong) और एडविन ऑल्ड्रिन (Advin Buzz Aldrin) जब चांद की सतह पर चहलकदमी कर रहे थे, माइकल कॉलिन्स (Michael Collins) चांद की कक्षा में कमांड मॉड्यूल 'कोलंबिया' (Columbia) की उड़ान भर रहे थे. जानिए चांद पर इंसान के उतरने और उसके बाद के दृश्य कैसे थे.

1 अरब से ज़्यादा लोगों ने देखा इतिहास
साल 1969 में 16 जुलाई को नासा का अपोलो 11 मिशन कैनेडी स्पेस सेंटर से रवाना हुआ. मिशन के कमांडर आर्मस्ट्रॉंग थे, लूनर मॉड्यूल ईगल के पायलट ऑल्ड्रिन और कोलंबिया के पायलट कॉलिन्स. 2,40,000 मील की दूरी 76 घंटों में तय करते हुए 19 जुलाई को मून मिशन चांद की कक्षा में पहुंचा था.

अगले दिन ईगल अपने कमांड कोलंबिया से अलग हुआ. कोलंबिया में कॉलिन्स छूट गए और बाकी दोनों ईगल के साथ चांद की सतह की तरफ बढ़े. 4:18p.m. पर चांद की सतह पर ईगल लैंड हुआ. जहां लैंडिंग हुई, उस जगह को Sea of Tranquility नाम दिया गया. टैक्सस में मिशन कंट्रोल को तत्काल आर्मस्ट्रॉंग ने सूचित किया 'ईगल लैंड हो गया'.
ये भी पढ़ें :- क्या आर्मस्ट्रॉन्ग ने सच में चांद पर सुनी थी अज़ान? कबूला था इस्लाम?



apollo moon mission, neil armstrong life, landing on moon, advin aldrin life, man on moon, अपोलो मून मिशन, नील आर्मस्ट्रॉंग जीवनी, चांद पर लैंडिंग, एडविन ऑल्ड्रिन जीवनी, चांद पर मनुष्य
अपोलो 11 मून मिशन के कमांडर थे नील आर्मस्ट्रॉंग.


करीब पांच घंटे बाद 10:39 p.m. पर आर्मस्ट्रॉंग ने ईगल का दरवाज़ा खोला और एक सीढ़ी के सहारे चांद की सतह पर उतरना शुरू किया. एक टीवी कैमरे ने इस पूरे दृश्य को रिकॉर्ड किया था, जिसे पृथ्वी पर 1 करोड़ से ज़्यादा लोगों ने देखा. 10:56 p.m. पर आर्मस्ट्रॉंग ने वो शब्द कहे, जो इतिहास बन गए :

एक इंसान का यह छोटा सा कदम, इंसानियत के लिए एक बड़ी छलांग है.


चांद की सतह पर सोए थे दो इंसान
11:11 p.m. पर चांद की सतह पर ऑल्ड्रिन भी उतरे और दोनों ने मिलकर चांद पर कई तस्वीरें खींचीं, अमेरिकी झंडा वहां गाड़ा, कुछ आसान वैज्ञानिक टेस्ट किए और तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति निक्सन से बातचीत भी की. दोनों 21 जुलाई को 1:11 a.m. पर वापस ईगल के भीतर थे और दरवाज़े बंद कर ईगल चांद की सतह पर था. दोनों ने पूरी नींद ली और 1:54 p.m. पर ईगल ने कमांड मॉड्यूल कोलंबिया से जुड़ने के लिए वापसी की.

चांद की कक्षा में घूम रहे कोलंबिया से ईगल 5:35 p.m. पर जुड़ गया और 22 जुलाई को 12:56 a.m. पर अपोलो 11 मिशन ने पृथ्वी की तरफ वापसी की यात्रा शुरू की. 24 जुलाई को 12:51 p.m. पर प्रशांत महासागर में अपोलो 11 मिशन कामयाबी के साथ लौटा. इसके बाद इंसान के चांद पर उतरने के पांच और मिशन हुए. 1972 में यूजीन सर्नेन और हैरिसन शिमिट आखिरी इंसान थे, जिन्होंने चांद पर कदम रखे थे. अपोलो के तमाम मिशन पर आज के हिसाब से 100 अरब डॉलर से ज़्यादा का खर्च हुआ.

apollo moon mission, neil armstrong life, landing on moon, advin aldrin life, man on moon, अपोलो मून मिशन, नील आर्मस्ट्रॉंग जीवनी, चांद पर लैंडिंग, एडविन ऑल्ड्रिन जीवनी, चांद पर मनुष्य
नील आर्मस्ट्रॉंग, बज़ ऑल्ड्रिन और माइक कॉलिन्स.


चांद पर क्या छोड़कर आए पहले इंसान?
आर्मस्ट्रॉंग और ऑल्ड्रिन न सिर्फ चांद की सतह से धूल और कुछ और चीज़ें लेकर आए बल्कि ऐतिहासिक मिशन की याद के तौर पर बहुत कुछ छोड़कर भी आए थे. अपने पैरों के ढेर सारे निशान चांद पर छोड़ने के अलावा दोनों ने मॉड्यूल के डिसेंट स्टेज को भी वहीं छोड़ दिया था. इसके अलावा, चांद पर उतरने में नाकाम रहे अपोलो 1 मिशन की कुछ निशानियां भी चांद पर छोड़ दी गई थीं.

ये भी पढ़ें :-

क्यों टूटी थी शकुंतला देवी की शादी? समलैंगिकों पर उन्होंने क्यों लिखी थी किताब?

कौन है संजय जैन, जो राजस्थान की सियासी चर्चा के 'मिडिल' में है

73 देशों के नेताओं ने ​जो सौजन्य संदेश दिए थे, उनकी एक सिलिकन डिस्क भी चांद की सतह पर अंतरिक्ष यात्रियों ने छोड़ी थी. चांद पर अमेरिकी दावे के तौर पर अमेरिकी झंडा, कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों के लिए उपकरण और हथौड़े, स्केल और स्कूप जैसे कुछ औज़ार भी आर्मस्ट्रॉंग और ऑल्ड्रिन चांद पर छोड़ आए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading