क्या एटम बम का वज़न 250 ग्राम होता है? पाक के दावे की असलियत

News18Hindi
Updated: September 5, 2019, 3:42 PM IST
क्या एटम बम का वज़न 250 ग्राम होता है? पाक के दावे की असलियत
परमाणु बम को लेकर पाकिस्तान के दावे की हकीकत जानें. फाइल फोटो.

एक पाकिस्तानी मंत्री (Minister of Pakistan) के दावे के बाद ये सवाल और चर्चा है कि परमाणु बम (Nuclear Bomb) आखिर कितना छोटा हो सकता है. परमाणु बमों के आकार और वज़न के बारे में सब कुछ जानिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2019, 3:42 PM IST
  • Share this:
'पाकिस्तान (Pakistan) के पास 250 ग्राम तक के परमाणु बम (Atom Bombs) हैं', पाकिस्तान के एक मंत्री के इस हालिया दावे में कितनी सच्चाई है? क्या इतने हल्के परमाणु बम (Small Nuke Bombs) बनाया जाना संभव है? अगर हां, तो ये बम कितने घातक होंगे? इस बयान के बाद ये सवाल तो उठते ही हैं, साथ में ये भी कि आखिर पाकिस्तान में परमाणु बमों का निर्माण (Pakistan Arsenal) कैसे और कितना हो रहा है. हालांकि पाकिस्तान ने इस बयान का कोई पुख्ता समर्थन नहीं किया है और पाकिस्तानी रक्षा मंत्रालय (Pakistan Ministry of Defense) ने भी हाथ खींचने जैसा कदम ज़ाहिर किया है, तो जानें कि असल में हकीकत क्या है.

ये भी पढ़ें : बदहाल सड़कों और खस्ताहाल ट्रैफिक के लिए कौन देगा जुर्माना?

पाकिस्तान के रेल मंत्री (Railway Minister) शेख रशीद अहमद (Sheikh Rashid Ahmed) ने इस तरह का दावा करते हुए कहा, 'पाकिस्तान के पास 125 से 250 ग्राम तक के छोटे परमाणु बम हैं, जो भारत में एक खास निशाने पर हमला (Targeting India) करने में सक्षम हैं'. इस बयान के बाद हुआ ये कि पाकिस्तान के रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट पर एक फोरम पर चर्चा शुरू हुई लेकिन उस फोरम (Discussion Forum) पर करीब 15 पोस्ट की चर्चा को डिलीट कर दिया गया. इसका क्या मतलब निकलता है? बहरहाल, जानिए कि कितने छोटे परमाणु बम संभव हैं.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

सबसे छोटा परमाणु बम
परमाणु हथियारों का बड़ा शस्त्रागार रखने वाले अमेरिका के पास एक परमाणु बम है जिसका वज़न 50 पाउंड यानी करीब 23 किलोग्राम है. इस बम का नाम डब्ल्यू 54 है और इसके चार वैरिएंट्स हैं जिनमें से बाकी तीन एमके 54, बी54 और डब्ल्यू 72 हैं. इन चारों का वज़न वेब आर्काइव के हवाले से 23 किलोग्राम के आसपास या उससे कुछ ज़्यादा बताकर दावा किया जाता है कि 10.75 गुणा 15.7 इंच के ये अब तक के सबसे छोटे परमाणु बम हैं.

atom bomb, what is nuclear bomb, india nuclear power, pakistan nuclear power, pakistan nuclear bombs, परमाणु बम, परमाणु बम कैसा होता है, भारत की परमाणु शक्ति, पाकिस्तान की परमाणु शक्ति, पाकिस्तानी परमाणु बम
परमाणु शक्ति संपन्नता के मामले में भारत की तुलना में पाकिस्तान के पास कुछ ज़्यादा परमाणु हथियार हैं.

Loading...

कैसे थे जापान पर गिरे परमाणु बम?
6 अगस्त 1945 को अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा पर जो पहला परमाणु बम गिराया था, उसका नाम था 'लिटिल बॉय'. 28 इंच के व्यास वाले 120 इंच लंबे इस बम का वज़न करीब 4400 किलोग्राम था. इसके दो दिन बाद 9 अगस्त को नागासाकी पर जो बम गिराया गया था, वह था 'फैट मैन'. 60 इंच के व्यास वाले 128 इंच लंबे इस बम का वज़न 4700 किलोग्राम था.

कितना छोटा हो सकता है परमाणु बम?
इस सवाल का जवाब समझने के लिए आपको परमाणु बम की तकनीक को थोड़ा समझना होगा. परमाणु बम में दो क्रियाएं अहम होती हैं, एक संलयन यानी फ्यूज़न और दूसरी विकिरण या विखंडन यानी फिज़न. इन दोनों क्रियाओं में एक चेन रिएक्शन विकसित होने से घातक विस्फोट संभव होता है. अब इस चेन रिएक्शन को डेवलप करने के लिए कम से कम कितनी सामग्री लगती है?

एटॉमिक आर्काइव पोर्टल के मुताबिक न्यूट्रॉन रिफ्लेक्टर की मदद से करीब 5 किलोग्राम प्लूटोनियम 239 या करीब 15 किलोग्राम यूरेनियम 235 की ज़रूरत होती है, जिसे क्रिटिकल मास यानी ज़रूरी पदार्थ भी कहा जाता है. इससे कम क्रिटिकल मास होने पर विस्फोट संभव हो सकता है, लेकिन वह घातक नहीं होगा.


यूएस नेवी के रिटायर्ड चैपलेन ब्रूस बायर्स ने लिखा है कि क्रिटिकल मास के साथ ही पैकेजिंग का वज़न जुड़ता है यानी कुल देखा जाए तो 10-15 किलो से हल्का परमाणु बम नहीं हो सकता. वहीं मिडिल साइज़ बिज़नेस के प्रमुख पीटर हॉल्टहॉस ने लिखा है कि किसी तरह 150 से 250 ग्राम का परमाणु बम बना भी लिया गया तो यह बेकार ही साबित होगा और इसे विस्फोट के नज़रिए से वर्किंग परमाणु बम नहीं माना जाएगा.

atom bomb, what is nuclear bomb, india nuclear power, pakistan nuclear power, pakistan nuclear bombs, परमाणु बम, परमाणु बम कैसा होता है, भारत की परमाणु शक्ति, पाकिस्तान की परमाणु शक्ति, पाकिस्तानी परमाणु बम
ये हैं पाकिस्तान के मंत्री शेख रशीद अहमद, जिन्होंने 250 ग्राम के परमाणु बम होने की बात कहने से पहले ये भी कहा था कि भारत पाकिस्तान के बीच इस साल अक्टूबर में युद्ध हो सकता है.


सबसे बड़ा परमाणु बम
सबसे छोटे परमाणु बम की चर्चा के बाद ये भी जानें कि दुनिया में सबसे बड़ा परमाणु बम कहां और कैसा है. रूस के आरडीएस202 और आरडीएस220 को दुनिया का सबसे बड़ा और शक्तिशाली परमाणु बम माना जाता है. इसकी क्षमता ऐसे समझें कि हिरोशिमा पर जो परमाणु बम गिराया गया था, वैसे 3800 बमों के बराबर ये अकेला है. इस बम को 'त्ज़ार बॉम्बा' के नाम से भी जाना जाता है.

पाकिस्तान ने क्यों किया ऐसा दावा?
करीब चार साल पहले मीडिया में इस तरह की खबरें आई थीं कि पाकिस्तानी सेना 'छोटे परमाणु हथियार' विकसित कर रही है. इसे पाकिस्तान की युद्ध तकनीक की तरकीब भी बताया गया था और भारत के खिलाफ परमाणु ताकत लगातार बढ़ाने के साथ ही दुनिया की पांच सबसे बड़ी परमाणु शक्तियों में शामिल होने की पाकिस्तानी महत्वाकांक्षा भी. लेकिन, क्वार्ट्ज़ के एक एनालिसिस में कहा गया था कि अगर पाकिस्तान ऐसा कदम उठाता है तो ये पाकिस्तानियों के लिए ही घातक होगा, बजाय भारतीयों के.

बहरहाल, इस खबर के बाद इस तरह के दावे काफी समय के लिए रुक गए थे और अब पाकिस्तानी मंत्री रशीद ने अपने बयान से ऐसे दावे को हवा दे दी है. ये भी गौरतलब है कि रशीद को पाकिस्तान में भी बड़बोला नेता माना जाता है, इसलिए पाकिस्तानी मीडिया ने भी रशीद के इस बयान को खास तवज्जो नहीं दी है.

ये भी पढ़ें:


क्या मदर टेरेसा को बदनाम करने की साजिश हुई थी?
कुछ विवादों के बावजूद चर्चा में कम रहीं कुमारी शैलजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 2:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...