अगर आप हवाई यात्रा कर रहे हों तो जानें क्या रहेगी अलग- अलग राज्यों में क्वारंटाइन की स्थिति

अगर आप हवाई यात्रा कर रहे हों तो जानें क्या रहेगी अलग- अलग राज्यों में क्वारंटाइन की स्थिति
भारत में घरेलू उड़ानें शुरू हो चुकी हैं लेकिन ये फ्लाइट आपको जिस राज्य में ले जाएगी, वहां आपको होम आइसोलेशन से लेकर इंस्टीट्यूशनल कोरेंटाइन से गुजरना होगा

देशभऱ में हवाई उडानें शुरू हो गई हैं. अगर आप एक राज्य से दूसरे राज्य में जा रहे हों तो हर जगह आपको या तो होम आइसोलेशन में रहना होगा या फिर इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन करना होगा. बेहतर हो कि अगर आप हवाई सफर कर रहे हों तो इसके बारे में जान लें.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
सरकार ने देशभर में हवाई यात्रा 25 मई से शुरू कर दी है. लेकिन इसका ध्यान रखें कि अगर आप एक राज्य से दूसरे राज्य की हवाई यात्रा कर रहे हों तो हर राज्य के अपने क्वारंटाइन के नियम हैं, इसका पालन आपको करना होगा. लिहाजा अपनी यात्रा का प्रोग्राम इसी लिहाज से बनाएं तो सुविधा रहेगी. जानते हैं किस राज्य में दूसरे राज्य से आने पर क्वारंटाइन की स्थिति कितने दिनों की रहेगी.

महाराष्ट्र - मुंबई एयरपोर्ट पर अधिकारी वहां उतरने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग करेंगे. उसके बाद उनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखे तो उन्हें 14 दिनों के होम आइसोलेशन में भेजेंगे.

राजस्थान - अगर आप राजस्थान जाने का प्रोग्राम बना रहे हों तो ये जान लें वहां वृद्धों और लक्षण वाले यात्रियों को 14 दिनों के इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में भेजा जाएगा. बाकी यात्रियों को लेकर उनके कोई स्पष्ट दिशा-निर्देश नहीं हैं.



गुजरात - राज्य सरकार आइसोलेशन कहां करना है, इसके लिए बाध्य नहीं करेगी- लेकिन वो आपको तय करना होगा कि आप इंस्टीट्यूशनल आइसोलेशन में जाएंगे या ये अवधि घर पर रहकर गुजारेंगे.



उत्तर प्रदेश - 14 दिनों का होम क्वारंटाइन करना होगा. जो बिजनेस विजिट पर हों उन्हें इससे छूट मिलेगी लेकिन उनको अपने सारे विवरण भरकर देने होंगे कि वो ठहरे कहां हैं और उन्हें केवल सात दिनों के लिए ही ठहरने की अनुमति होगी.

उत्तराखंड - सरकार द्वारा तय किए गए होटल या जगह पर 10 दिनों का क्वारंटाइन करना होगा. लेकिन अगर आपका स्वास्थ्य ठीक हुआ तो और स्वास्थ्य अधिकारी इससे संतुष्ट हैं तो आपको होम क्वारंटाइन करने की अनुमति मिल सकती है.

पंजाब - 14 दिनों का होम आइसोलेशन करना होगा.

हिमाचल प्रदेश - 14 दिनों का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन करना होगा

चंडीगढ़ - कोई क्वारंटाइन नहीं करना होगा

हरियाणा - गुड़गांव प्रशासक आमतौर पर 14 दिनों के होम आइसोलेशन के लिए कहते हैं.

हर राज्य में पहुंचने वाले यात्रियों के लिए अलग अलग नियम उस राज्य ने तय किए हैं, जिसे फॉलो करना ही होगा. अगर ये बात आपको मालूम नहीं होगी तो दिक्कत का भी सामना करना पड़ सकता है


जम्मू-कश्मीर - चार दिनों का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन

पश्चिम बंगाल - इसे लेकर कोई स्पष्टता नहीं है. वहां 28 मई से घरेलू उड़ानों को इजाजत दी जाएगी. तभी वो इसके बारे में कोई नियम तय करेंगे

ओडिशा - प्रोफेशनल, सरकारी अधिकारियों, बिजनेसमैन को क्वारंटाइन के नियम से छूट दी जाएगी. बशर्ते कि वो 72 घंटे के भीतर वापस जा रहे हों. अन्य को 14 दिनों का समय होम आइसोलेशन में गुजारना होगा.

बिहार - क्वारंटाइन की कोई जरूरत नहीं

झारखंड - सभी के लिए 14 दिनों का होम क्वारंटाइन

असम - सात दिनों का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन. इसके बाद 07 दिनों का होम आइसोलेशन. वो लोग जो उसी दिन वापस लौट रहे हों, उन्हें क्वारंटाइन के नियम से नहीं गुजरना होगा.

मिजोरम - किसी भी यात्री को राज्य में प्रवेश तभी दिया जाएगा जबकि उसके पास स्पेशल परमिशन हो, जो राज्य का गृह विभाग द्वारा दिया जाएगा.

मध्य प्रदेश - 14 दिनों का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन उन लोगों के लिए जिनमें कोई लक्षण नजर आएं

छत्तीसगढ़ - 14 दिनों का आइसोलेशन किसी होटल के कमरे या सरकार द्वारा प्रदान की गई सविधा में या घर में.

केरल - 14 दिनों का होम आइसोलेशन

तमिलनाडु - 14 दिनों का होम आइसोलेशन. इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन उनके लिए होगा, जिनके पास घऱ में ठहरने की सुविधा नहीं होगी.

आईजीआई एयरपोर्ट पर फ्लाइट ऑपरेशन (Flight Operation) को एक बार फिर पटरी पर लाने की सफल कोशिश की जा रही है. (फाइल फोटो) Successful efforts are being made to bring the flight operation back on track at IGI Airport. (File photo)
कर्नाटक में 07 दिनों का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन इसके बाद घर पर 07 दिनों का होम आइसोलेशन करना पड़ सकता है. इसके साथ कई और शर्तें भी जुड़ी हैं.


कर्नाटक - 07 दिनों का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन इसके बाद घर पर 07 दिनों का होम आइसोलेशन-ये प्रावधान उन लोगों के लिए होंगे, जो महाराष्ट्र, गुजरात,तमिलनाडु, दिल्ली, राजस्थान औऱ मध्य प्रदेश से हवाई यात्रा से आएंगे. इसके अलावा 14 दिनों का होम आइसोलेशऩ उन सभी लोगों के लिए होगा जो अलग राज्यों से आ रहे होंगे. प्रेग्नेंट महिलाओं, 10 वर्ष तक या इससे कम उम्र के बच्चों, 80 साल से ऊपर के सीनियर सिटीजन औऱ बीमार लोग इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन से अलग रखे जाएंगे. बिजनेस यात्रियों को तभी इससे छूट मिलेगी, अगर वो कोविड-19 का निगेटिव प्रमाणपत्र साध रखे हों, जिसको आईएमसीआर एप्रूव्ड लैब ने जारी किया हो.

आंध्र प्रदेश  - 14 दिनों का होम आइसोलेशन या सरकारी सविधा में रुकना होगा.

तेलंगाना - जिन यात्रियों में लक्षण नजर आ रहे हों, उन्हें अस्पताल भेजा जाएगा या वो घर पर भी आराम कर सकेंगे.

गोवा- जिनके पास कोरोना निगेटिव सर्टीफिकेट नहीं होगा. उनको वहीं पर 2000 रुपये देकर टेस्ट कराना होगा और फिर टेस्ट का रिजल्ट आने तक होम क्वारंटाइन करना होगा. अगर टेस्ट पॉजिटिव हुआ तो उन्हें कोविड हास्पिटल्स में भर्ती कराया जाएगा. ऐसी स्थिति में उनके परिवार को इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइनमें रखा जाएगा. इसके अलावा अन्य सभी के लिए 14 दिनों का होम आइसोलेशन जरूरी होगा. जो टेस्ट कराना वहन नहीं कर सकते, उन्हें भी 14 दिनों का होम आइसोलेशन करना होगा.

ये भी पढ़ें :-

अब कपड़ों पर आते ही मर जाएगा कोरोना वायरस, ताजा शोध ने सुझाई तकनीक
तापमान जब 42 डिग्री के ऊपर जाने लगे तो क्या होने लगता है आपके शरीर में
दुनिया के किसी भी कोने के पायलट एयर ट्रैफिक कंट्रोलर की लैंग्वेज कैसे समझ लेते हैं
Coronavirus: किसलिए हवाई यात्रा ज्यादा सुरक्षित मानी जा रही है?
Coronavirus: क्या है R रेट, जिसका 1 से ऊपर जाना ख़तरनाक हो सकता है?
गुजरात का वो राजा, जो रोज़ खाने के साथ लिया करता था ज़हर
कौन है भारतीय मूल का ये शख्स, जो तय कर रहा है ब्रिटेन में लाखों लोगों की किस्मत
कोरोना से रिकवरी के बाद भी खतरा कम नहीं, मरीजों हो रही थायरॉइड बीमारी
First published: May 25, 2020, 2:33 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading