Home /News /knowledge /

जानिए नेपाल में किस तरह सक्रिय है हिंदू स्वयंसेवक संघ

जानिए नेपाल में किस तरह सक्रिय है हिंदू स्वयंसेवक संघ

न्यूज़18 क्रिएटिव

न्यूज़18 क्रिएटिव

नेपाल में कैसे छह दशकों पहले RSS के दखल की शुरूआत हुई थी? इसके बाद नेपाल में RSS का उदय कैसे हुआ? और फिर RSS की भूमिका कैसे नेपाल में कथित संदिग्ध गतिविधियों के साथ जोड़कर देखी जाने लगी? नेपाल में Hindutva Agenda पर काम करने वाली ताकत को ​नेपाल में किस तरह देखा जाता है?

अधिक पढ़ें ...
    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ केवल भारत ही नहीं, बल्कि कई देशों में सक्रिय है. भारत के बाहर हिंदू समाज की मदद के लिए RSS की कथित विंग HSS यानी 'हिंदू स्वयंसेवक संघ' की शुरूआत 1992 में Nepal में हुई थी. नेपाल में HSS शिक्षा के कार्यक्रमों, हिंदुत्व के प्रसार के साथ ही, कुछ राजनीतिक मोर्चों पर सक्रिय है और नेपाल में कुछ हिंसक गतिविधियों के संदर्भ में भी इसकी चर्चा होती रही है. HSS के विकिपीडिया पेज पर कई देशों में इसकी सक्रियता बताई गई है, लेकिन नेपाल में इसकी भूमिका समझना दिलचस्प है.

    नेपाल में RSS का रोचक अतीत
    1960 के दशक के दौरान जब नेपाल के राजा महेंद्र ने एक चुनी हुई सरकार को उखाड़ फेंका तब भारत के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उनके इस कदम को नामुनासिब कहा. लेकिन तब महेंद्र को RSS का सपोर्ट मिला. यहां से नेपाल के साथ RSS के संबंध बनने की शुरूआत हुई थी. भारत में RSS के रूप में नेपाल को बड़ा सहयोगी दिखा तो RSS ने भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने के सपने को नेपाल में पूरा होने की उम्मीद देखी.

    असली 'हिंदू-स्थान' का नारा खूब चला
    हिंदुत्व के प्रचार के लिए RSS जैसी आक्रामक और लड़ाका संस्था को नेपाल में उस समय कम ही साथी मिल सके क्योंकि बड़ी वजह ये थी कि नेपाल में शाह वंश जो सत्ता में था, वह खुद हिंदुत्व का हिमायती था. पृथ्वी नारायण शाह ने तो नेपाल को 'असली हिंदू-स्थान' घोषित तक किया था और यह नारा आज तक नेपाल में चर्चित है. एसएसीडब्ल्यू के लिए नेपाली लेखक अमीष राज मुल्मी के लेख से हिंदुत्व और RSS के नेपाल में अतीत को लेकर काफी कुछ पता चलता है.

    hindutva in nepal, nepal hindu state, RSS in nepal, RSS history, hindu terrorism, what is hindu swayamsevak sangh, नेपाल में हिंदुत्व, नेपाल हिंदू राष्ट्र, नेपाल में आरएसएस, आरएसएस का इतिहास, हिंदू आतंकवाद
    नेपाल में औपचारिक तौर पर एचएसएस की शुरूआत 1992 में हुई. प्रतीकात्मक तस्वीर.


    ये भी पढ़ें :- नेपाल में अचानक क्यों बहुत बढ़ गई है चीनियों की आवाजाही?

    नेपाल में हिंदुत्व का इतिहास संक्षेप में बताता है कि राणाओं के 104 साल के शासनकाल में जो सिविल कोड प्रचलित रहा, वो हिंदू व्यवस्था के अनुरूप ही था. इसके बाद राजा महेंद्र ने सेक्युलर राज्य समर्थकों के खिलाफ धर्म को तर्क के तौर पर इस्तेमाल किया. महेंद्र के उत्तराधिकारी बीरेंद्र को भी ​'हिंदू राज्य' से कोई समस्या नहीं थी और राजा ज्ञानेंद्र ने हिंदुत्व का भरपूर फायदा उठाया ही, साथ ही RSS के साथ संबंध बनाने की पहल भी की. फिर भी नेपाली समाज में RSS की जड़ें बहुत गहरी नहीं हुईं.

    हिंदू स्वयंसेवक संघ को लेकर आरएसएस की तरफ से कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं है, लेकिन आरएसएस के पूर्व नेताओं की प्रेरणा से ही विदेशों में इसकी शुरूआत होने के तथ्य मिलते हैं. चूंकि विदेशों में 'राष्ट्रीय' शब्द प्रासंगिक नहीं था इसलिए पहले भारतीय स्वयंसेवक संघ और फिर हिंदू स्वयंसेवक संघ के नाम से यह संस्था प्रचलित हुई.

    नेपाल में आक्रामक हिंदुत्व का दौर
    साल 2006 में जब नेपाल ने खुद को 'सेक्युलर राज्य' के रूप में घोषित किया, तब हिंदू राज्य के समर्थकों ने बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किए थे. आईआईआरएफ की एक पुरानी रिपोर्ट बताती है कि कैसे शिवसेना नेपाल, वर्ल्ड हिंदू फेडरेशन जैसी संस्थाओं ने विरोध प्रदर्शनों में हज़ारों की भीड़ सड़कों पर उतारी और जय श्री राम के नारे गूंजे. इसी सिलसिले में एक अंडरग्राउंड संगठन नेपाल डिफेंस आर्मी (NDA) ने हिंदू स्टेट की मांग को लेकर माओवादियों को निशाना बनाना शुरू किया और यहां से नेपाल में हिंदुत्व के नाम पर आतंकवाद देखा गया.

    2008 में नेपाल के बिराटनगर में सरौचिया मस्जिद में बम विस्फोट की घटना के पीछे भी NDA का ही हाथ पाया गया था. इस संगठन ने धमकी भी दी थी कि जब तक नेपाल को फिर हिंदू स्टेट नहीं घोषित किया जाएगा, ऐसे हमले किए जाते रहेंगे. नेपाल के राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि ऐसे संगठनों का उदय नेपाल में हिंदुत्व की बड़ी फोर्सों के सहयोग से ही हुआ.


    नेपाल में हिंदुत्व संगठनों से क्या चिंताएं हैं?
    इसी साल जब दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे भड़के थे, तब काठमांडू पोस्ट के लिए लिखे लेख में मुल्मी ने कहा कि 2011 में उन्होंने देखा था कि नेपाल में HSS से जुड़े बच्चे हिंदू राज्य की मांग के नारे लगाते थे, गाय को बचाने की मांग करते थे और नेपाल में बड़े ओहदों पर हिंदुओं की भर्ती की बात भी. दस साल बाद हालत ये है कि नेपाल की सरकार HSS की भूमिका को नकारती भी है लेकिन बदलाव ये हुए हैं कि गोवंश की हत्या के लिए आपराधिक मामले चले हैं, धर्म परिवर्तन प्रतिबंधित है और हिंदुओं को प्राथमिकता सुनिश्चित की गई है.

    hindutva in nepal, nepal hindu state, RSS in nepal, RSS history, hindu terrorism, what is hindu swayamsevak sangh, नेपाल में हिंदुत्व, नेपाल हिंदू राष्ट्र, नेपाल में आरएसएस, आरएसएस का इतिहास, हिंदू आतंकवाद
    आरएसएस की शाखा में भाग लेते बच्चे. फाइल फोटो.


    मुल्मी ने यह भी​ लिखा कि नेपाल में हिंदुत्ववादियों का अगला निशाना ईसाई समुदाय होता दिख रहा है क्योंकि यहां मुस्लिम न के बराबर हैं. सियासत में जब हर पैंतरा नाकाम होता है, तो नेता धर्म की शरण में जाते हैं. मुल्मी के मुताबिक यही परिदृश्य नेपाली कांग्रेस और साझा पार्टियों में दिख रहा है, जो RSS की हिंदुत्व विचारधारा के साथ खड़े होते दिख रहे हैं. लेकिन नेपाल को इस तरह के नज़रिये से बचने की ज़रूरत है.

    क्या नेपाल में सचमुच संदिग्ध है RSS?
    मुल्मी के लेख में कुछ बातें संकेतों में हैं लेकिन नेपाल में RSS की भूमिका को लेकर पहले भी शक पैदा होते रहे हैं. नेपाल के सेक्युलर स्टेट बनने के समय हुए नाकाम विरोध के बाद के परिदृश्य पर iirf ने लिखा था कि नागपुर में RSS के मुख्यालय, नई दिल्ली में विहिप और भाजपा के कार्यालयों और गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर से लेकर नेपाल के राजतंत्रवादियों के घरों के साथ ही राजा ज्ञानेंद्र के नारायणहिति पैलेस तक नेपाल में हिंदुत्व को लेकर मंथन होता है.

    ये भी पढें:-

    आत्मनिर्भर या संस्कारी? भारत की सेक्स टॉएज़ इंडस्ट्री के लिए मौका भी, रोड़ा भी

    ताकत बढ़ाने के लिए सदियों से भोजन रहे बैम्बू रैट्स, चीन में अब मारे जा रहे हैं, क्यों?

    कुल मिलाकर स्थिति यह है कि नेपाल में हिंदुत्व फोर्स की ज़डें समाज में गहरी नहीं हैं. ये केवल नेपाल के शाही धड़ों तक ही पहुंच बना सकी हैं, जो बड़े पैमाने पर अप्रासंगिक ही है. फिर भी समय समय पर ये ताकतें उभरती हैं. राजनीतिक विश्लेषकों से लेकर सेक्युलर समर्थक विद्वान इन्हें नेपाली समाज के लिए खतरा मानते हैं इसलिए मुल्मी जैसे ख्यात लेखक 'धर्मनिष्ठा या ज़हर: नेपाल में फैलता हिंदुत्व' जैसे शीर्षक से लेख लिखते हैं.

    Tags: Hindu, India nepal, Nepal, Rashtriya Swayamsevak Sangh, Religion, RSS

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर