कंगना को Y+ सुरक्षा कवर, कितने बॉलीवुड सितारों को मिली है कैसी सिक्योरिटी?

कंगना को Y+ सुरक्षा कवर, कितने बॉलीवुड सितारों को मिली है कैसी सिक्योरिटी?
अपने ड्रेसिंग स्टाइल का चुनाव करते समय कंगना अपने कम्फर्ट जोन का पूरा ध्यान रखती हैं.

SSR Death Case: इस चर्चित मामले के लगाातर सुर्खियों में रहने के बाद कुछ बॉलीवुड कलाकार (Bollywood Celebrities) अपनी प्रतिक्रियाओं और बयानों के चलते केंद्र में आ गए हैं. बॉलीवुड माफिया, मुंबई पुलिस (Mumbai Police) और मुंबई के माहौल से डर लगने की बात कहकर सुर्खियों मे आईं कंगना रनौत को खास सुरक्षा मिलने के बाद कई चर्चाएं ज़ोरों पर हैं.

  • News18India
  • Last Updated: September 9, 2020, 8:44 PM IST
  • Share this:
मुंबई की पीओके से तुलना करने और मुंबई पुलिस से डर लगने की बात कहने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को देश के गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने खास तौर से Y+ कैटेगरी की सुरक्षा मुहैया करवाई है. इस सुरक्षा कवर (Security Cover) में कम से कम दस सीआरपीएफ कमांडो  (CRPF Commando) शिफ्ट के हिसाब से कंगना की सुरक्षा में तैनात रहेंगे. कंगना ने ट्वीट (Kangana Ranaut Tweet) के ज़रिये गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) को धन्यवाद दिया. अब जिज्ञासा यह पैदा होती है कि फिल्मी सितारों को कैसे सुरक्षा मिलती रही है और किस आधार पर मिलती है ये सुरक्षा.

खबरें हैं कि महाराष्ट्र पुलिस (Maharashtra Police) की सुरक्षा से इनकार करने वाली कंगना पहली बॉलीवुड स्टार बनी हैं, जिन्हें Y+ श्रेणी की सुरक्षा केंद्र ने मुहैया करवाई है. इसके साथ ही, हिमाचल प्रदेश सरकार ने भी कंगना को गृह राज्य में सुरक्षा उपलब्ध करवाई. हिमाचल के सीएम (Himachal Pradesh CM) जयराम ठाकुर ने कहा कि ज़रूरत पड़ी तो कंगना के दौरों के दौरान भी उन्हें पुलिस सुरक्षा दी जा सकेगी.





एक तरफ कंगना की सुरक्षा मुद्दे पर ज़बानी जंग तेज़ हो गई है और राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक से ढेरों प्रतिक्रियाएं आना शुरू हो गई हैं, तो दूसरी तरफ, चर्चा ये है कि किस तरह से बॉलीवुड सितारों को सुरक्षा दी जाती रही है और किस तरह की.
ये भी पढ़ें :- अरुणाचल पर कब क्या रहा चीन का स्टैंड? क्या कहते हैं फैक्ट्स?

क्या कंगना पहली एक्टर हैं, जिन्हें मिली ये खास सुरक्षा?
पैरामिलिट्री फोर्स सीआरपीएफ के अधिकारियों के हवाले से खबरों में कहा गया है कि कंगना पहली बॉलीवुड एक्टर होंगी, जिनकी सुरक्षा में फोर्स के कमांडो तैनात होंगे. हालांकि सांसद बनी बांग्ला अभिनेत्री रूपा गांगुली की सुरक्षा का ज़िम्मा फोर्स पहले भी उठा चुकी है. चूंकि इससे पहले एनएसजी वीआईपी सुरक्षा में तैनात किए जाते रहे थे, लेकिन जबसे उन्हें इस ज़िम्मेदारी से हटाया गया, तबसे यह काम सीआरपीएफ, आईबीपी और सीआईएसएफ के हवाले है.

kangana ranaut security, kangana ranaut news, kangana ranaut twitter, rhea chakraborty news, sushant singh case update, कंगना रनौत सिक्योरिटी, कंगना रनौत न्यूज़, कंगना रनौत ट्विटर, रिया चक्रवर्ती न्यूज़, सुशांत सिंह केस अपडेट
गृह मंत्रालय से खास सुरक्षा मिलने पर कंगना ने ट्वीट किया.


सीआईएसएफ के डीआईजी अनिल पांडे के हवाले से कहा गया है कि एजेंसी फिलहाल 65 शख्सियतों की सुरक्षा के बंदोबस्त को देख रही है, लेकिन इनमें से कोई भी बॉलीवुड एक्टर नहीं है. इसी तरह, आईटीबीपी भी फिलहाल किसी बॉलीवुड एक्टर के लिए तैनात नहीं है.



ये भी पढ़ें :- 'न्यू नॉर्मल' के तहत कैसी होगी पोस्ट कोविड ट्रेन? कितना विश्वास करेंगे यात्री?

पहले भी मिली है खास सुरक्षा
अमिताभ बच्चन, शत्रुघ्न सिन्हा, सुनील दत्त और राज बब्बर जैसे बॉलीवुड अभिनेताओं को पहले भी खास सुरक्षा Y से लेकर Z श्रेणी तक की सुरक्षा मिल चुकी है, लेकिन बच्चन को छोड़कर बाकी ज़्यादातर मामलों में फिल्मी सितारों का राजनेता के तौर पर सक्रिय होना कारण रहा है. इसके अलावा, समय समय पर हुए विवादों के चलते भी फिल्मी सितारों को सुरक्षा मिलती रही है.

उदाहरण के तौर पर, फिल्म पद्मावत की रिलीज़ के समय हुए विवाद के चलते दीपिका पादुकोण को सुरक्षा दी गई थी. इसी तरह, सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्य आरोपी मानी जा रही एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती को भी मुंबई पुलिस ने हाल में सुरक्षा मुहैया कराई थी.

मुंबई पुलिस देती रही है एक्टरों को सुरक्षा
अंडरवर्ल्ड की धमकियों और सामाजिक सुरक्षा जैसे कारणों के चलते मुंबई पुलिस बॉलीवुड हस्तियों को सुरक्षा मुहैया कराती रही है. जनवरी 2016 तक बॉलीवुड की 40 हस्तियों को मुंबई पुलिस सुरक्षा दे रही थी, लेकिन जनवरी 2016 में ही करीब 25 सेलिब्रिटीज़ की सुरक्षा में कटौती की गई थी. शाहरुख और आमिर खान के साथ ही राजकुमार हीरानी, विधु विनोद चोपड़ा जैसी हस्तियों की सुरक्षा में कटौती हुई थी.

ये भी पढ़ें :-

रामसखा 'सुग्रीव' के नाम पर नहीं है इंडोनेशियाई हिंदू यूनिवर्सिटी, लेकिन हिंदुत्व की जड़ें गहरी हैं

भारतीय साहस की चोटी रहे रेजांग ला को जानें, जहां चीन ने किया ब्लफ

हालांकि उस वक्त भी अमिताभ बच्चन, लता मंगेशकर, अक्षय कुमार, महेश भट्ट जैसी हस्तियों की सुरक्षा में कोई फेरबदल नहीं किया गया था. अंडरवर्ल्ड और एक्सटॉर्शन की धमकियों के कारण कई के लिए अस्थायी रूप से तब सुरक्षा कवर बरकरार रखा गया था लेकिन बच्चन, मंगेशकर और दिलीप कुमार को आइकॉनिक सितारे मानकर इन्हें फुल टाइम खास सुरक्षा मुहैया कराई गई थी.

अभी कितने सितारों के पास है सुरक्षा?
मुंबई पुलिस अधिकारियों ने फिलहाल इस बारे में जानकारी देने से इनकार कर दिया है कि वो कितने बॉलीवुड सितारों को सुरक्षा दे रही है. गौरतलब यह भी है कि कई नामचीन सितारे अपनी सुरक्षा के ​बंदोबस्त के लिए निजी स्तर पर सिक्योरिटी का इंतज़ाम करते हैं. ऐसे में, पुलिस यह भी मद्देनज़र रखती है. फिर भी यह जानना चाहिए कि किन हालात में पुलिस सुरक्षा मिलती है.

kangana ranaut security, kangana ranaut news, kangana ranaut twitter, rhea chakraborty news, sushant singh case update, कंगना रनौत सिक्योरिटी, कंगना रनौत न्यूज़, कंगना रनौत ट्विटर, रिया चक्रवर्ती न्यूज़, सुशांत सिंह केस अपडेट
सुशांत सिंह राजपूत मौत के मामले में आरोपी रिया चक्रवर्ती को मुंबई पुलिस ने सुरक्षा मुहैया करवाई थी.


सितारे को क्यों मिल सकती है सुरक्षा?
किसी भी व्यक्ति को कारण बताते हुए कायदे से आवेदन करना पड़ता है और बताना पड़ता है कि X, Y, Y+, Z और Z+ श्रेणी में से किस तरह की सुरक्षा उसे क्यों चाहिए. इसके बाद पुलिस या संबंधित एजेंसी आवेदन पर विचार करती है और सुरक्षा दी जाए या नहीं : इंटेलिजेंस रिपोर्ट, आवेदक को मिल रही धमकियों की गंभीरता या किसी कार्यक्रम में कानून व्यवस्था बनाए रखने की ज़रूरत, इसे तय करने के आधार हो सकते हैं. पुलिस या संबंधित एजेंसी सुरक्षा मुहैया कराने के लिए सेलेब्रिटी से शुल्क वसूल सकती है.

ये भी पढ़ें :- NCB के बारे में खास बातें, जो सुशांत मामले की जांच को लेकर चर्चा में है

क्या होती हैं सुरक्षा की ये श्रेणियां?
श्रेणी X: हर 8 घंटे की शिफ्ट में दो सिक्योरिटी अफसर तैनात रहते हैं.
श्रेणी Y व Y+: इसमें दो पीएसओ के साथ एक हथियारबंद गार्ड भी आवास पर रहता है. रात में अतिरिक्त सुरक्षा होती है. यानी करीब 11 सुरक्षाकर्मी होते हैं.
श्रेणी Z: आवास पर 2 से 8 हथियारबंद गार्ड के साथ करीब 22 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं. दो पीएसओ हर वक्त और 1 से लेकर 3 सुरक्षाकर्मी हर सड़क यात्रा पर साथ रहते हैं.
श्रेणी Z+: Z श्रेणी की सुरक्षा के साथ ही इसमें वीआईपी को बुलेटप्रूफ कार, हर शिफ्ट में एस्कॉर्ट घेरा और ज़रूरत पर अतिरिक्त सुरक्षा मिलती है.

कितना है वीआईपी सुरक्षा का बोझ?
देश में खास लोगों की सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ का 7.5% स्टाफ तैनात है. इसके अलावा, राज्य सरकारें अपनी पुलिस को अलग से सुरक्षा में इस्तेमाल करती हैं. दुनिया में स्टाफ की कमी से सबसे ज़्यादा जूझने वाली पुलिस फोर्स भारत में है, इसके बावजूद 2018 के एक आंकड़े के मुताबिक 21,300 वीआईपी की सुरक्षा में 63,061 पुलिसकर्मी तैनात थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज