आधा मानसून सीज़न खत्म, क्या हैं देश में सूखे और बारिश के हालात?

#MISSIONPAANI : मौसम विभाग की मानें तो देश भर में जुलाई के आखिर तक जितनी बारिश होना चाहिए, इस मानसून सीज़न में उससे सिर्फ 9 फीसदी कम ही हुई है. तो क्या सूखे और जलसंकट से जूझ रहे चेन्नई जैसे देश के हिस्सों में हालात सामान्य हो गए हैं?

News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 2:50 PM IST
आधा मानसून सीज़न खत्म, क्या हैं देश में सूखे और बारिश के हालात?
देश में जुलाई के आखिरी हफ्ते में सामान्य से अधिक बारिश दर्ज हुई. प्रतीकात्मक तस्वीर.
News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 2:50 PM IST
भारत में जून से सितंबर तक चार महीने मानसून का मौसम रहता है और 31 जुलाई के दिन इस सीज़न के दो महीने पूरे हो चुकने के बाद आइए जायज़ा लेते हैं कि देश में सूखे और बारिश को लेकर क्या हालात हैं. जून में सामान्य से कम बारिश के चलते बेहद खराब हालात रहे थे और देश के कई हिस्सों में सूखे का संकट गहरा चुका था. न्यूज़ 18 ने जलसंकट से जुड़ी तमाम खबरें  #MissionPaani के तहत आप तक लगातार पहुंचाईं. तो क्या जुलाई में इतनी राहत मिल चुकी है कि देश में सूखे का या जलसंकट खत्म हो गया है? जानिए हां, तो कैसे और नहीं, तो अब क्या स्थिति है.

#मिशनपानी का पूरा कवरेज यहां पढ़ें

मानसून के पिछले कुछ दिनों में हम देख चुके हैं कि मुंबई समेत गुजरात, बिहार, असम जैसे राज्यों के कुछ हिस्सों में बाढ़ का कहर टूटा. बारिश से आपदा खड़ी हुई, तो क्या ये मान लेना चाहिए कि ज़रूरत से ज़्यादा बारिश हो चुकी है और देश से सूखे का संकट खत्म हो गया है? नहीं, बारिश की ज़रूरत कहां थी और कहां कितनी हुई, ये इस बात पर निर्भर करता है. आइए, पहले बीते दो महीनों में बारिश के आंकड़ों का जायज़ा लेते हैं.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

india water crisis, total rainfall india, monsoon prediction, weather forecast, chennai water crisis, भारत जलसंकट, भारत में कुल बारिश, मानसून भविष्यवाणी, मौसम भविष्यवाणी, चेन्नई जलसंकट

जुलाई में हो चुकी है भरपाई
मौसम विभाग ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उनके मुताबिक 31 जुलाई तक हुई बरसात के बाद देश में जून जुलाई के दो महीनों में होने वाली कुल बरसात से सिर्फ 9 फीसदी कम बरसात हुई है. यानी जून में बरसात की बेरुखी जो देश ने देखी थी, उसकी भरपाई जुलाई में हो गई. बीते एक हफ्ते में यानी 25 से 31 जुलाई के बीच जितनी बारिश देश में हुई है, वह इस हफ्ते के पिछले 50 सालों के औसत से 42 फीसदी ज़्यादा रही है. अगले कुछ समय में भी अच्छी बारिश होने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है.
Loading...

पिछले एक हफ्ते में देश के ज़्यादातर राज्यों में सामान्य या उससे ज़्यादा बारिश हुई है. पिछले हफ्ते में सिर्फ केरल में बारिश की भारी कमी रही. साथ ही, तमिलनाडु, बिहार, उत्तराखंड और पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों में कुछ कम बारिश हुई. बाकी पूरे देश में बारिश भरपूर हुई. (मौसम विभाग के पिछले हफ्ते की बारिश के नक्शे में पीले और नारंगी रंग में दिख रहे राज्यों में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई है जबकि हरे रंग में दर्ज राज्यों में सामान्य और नीले रंग में दर्ज राज्यों में सामान्य से ज़्यादा बारिश हुई है.)

india water crisis, total rainfall india, monsoon prediction, weather forecast, chennai water crisis, भारत जलसंकट, भारत में कुल बारिश, मानसून भविष्यवाणी, मौसम भविष्यवाणी, चेन्नई जलसंकट

तो सूखे और जलसंकट के क्या हालात हैं?
सूखे से संबंधित जो ताज़ा डेटा जारी हुआ है, उसके अनुसार बीते 26 जुलाई तक स्थिति ये रही कि देश में 46 फीसदी हिस्सों में सूखे का संकट बना हुआ है. 'असामान्य रूप से सूखे' से लेकर 'भीषण सूखे' की श्रेणियों में ये 46 फीसदी हिस्सा बंटा हुआ है. ड्रॉट अर्ली वॉर्निंग सिस्टम के मुताबिक़ एक महीने पहले तक 18.03 हिस्से को 'चिंताजनक सूखे' की चपेट में दर्ज किया था, जो जुलाई में 19.68 फीसदी हो गया है.

सूखे और जलसंकट से जुड़ी खबरों में चेन्नई सुर्खियों में रहा था. मानसून के दो महीने बीत जाने के बावजूद यहां हालात में कोई खास सुधार नहीं हुआ है. यूएन डिस्पैच की 29 जुलाई की खबर के मुताबिक चेन्नई इस साल ऐसे भयावह जलसंकट की चपेट में बना हुआ है, जितना कभी नहीं था.

दूसरी ओर, सब-नेशनल वॉटर स्ट्रेस इंडेक्स ने हाल में, एक लिस्ट जारी करते हुए भारत के 20 सबसे बड़े शहरों में से 11 को जलसंकट की 'एक्स्ट्रीम रिस्क' श्रेणी में रखा है और इनमें से 7 को 'हाई रिस्क' श्रेणी में. इस इंडेक्स के मुताबिक़ दिल्ली, चेन्नई, बेंगलूरु, हैदराबाद, नाशिक, जयपुर, अ​हमदाबाद और इंदौर 'एक्स्ट्रीम रिस्क' श्रेणी में शुमार हैं, जहां जलसंकट अब भी भयावह है.

ये भी पढ़ें:
मुंबई-पुणे के बीच साढ़े तीन घंटे का सफर 23 मिनट में ऐसे तय होगा
24 साल पहले आज ही के दिन बजा था पहला मोबाइल फोन, ये हुई थी बातचीत
First published: July 31, 2019, 8:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...