एशिया में ताकतवर देशों में भारत कहां है? चीन के मुकाबले क्या है स्थिति?

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग. (File Photo)
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग. (File Photo)

कोरोना वायरस (Corona Virus) इस बार बड़ा विजेता रहा है, यह तो तय है. लेकिन किस देश में एशिया में महाशक्ति (Asian Superpower) के तौर पर अपनी साख बचाई और किसने गंवाई? भारत के साथ तुलनात्मक नज़रिये से देखें पूरा विश्लेषण.

  • News18India
  • Last Updated: October 19, 2020, 12:47 PM IST
  • Share this:
ताकत के खेल (Power Game) में टॉप 5 देश पिछले साल की तुलना में अपनी जगह पर कायम हैं, अलबत्ता उनकी ताकत में कुछ कमी ज़रूर दर्ज हुई है. एशिया, खास तौर पर एशिया पैसिफिक (Asia Pacific) का जो पूरा क्षेत्र है, वहां दबदबे की लड़ाई में सिडनी बेस्ड एक इंस्टिट्यूट की रैंकिंग ऐसे समय में आई है, जब भारत और चीन (India-China) सीमा पर हालात बहुत नाज़ुक स्थिति (Border Tension) में हैं, समुद्र में (South China Sea) चीन के खिलाफ भारत और अमेरिका मुस्तैद हैं और कारोबार के मोर्चे पर (International Trade) भी एक युद्ध से कम स्थिति नहीं है.

इस स्टडी में एशिया पैसिफिक में सबसे ताकतवर देश अमेरिका बना हुआ है. चीन उसके बहुत करीब पहुंचकर टक्कर की सुपरपावर बन चुका है, लेकिन भारत अभी पीछे है, काफी पीछे. लोवी इंस्टिट्यूट की एशिया पावर इंडेक्स 2020 में टॉप टेन ताकतों के तौर पर अमेरिका और चीन के बाद जापान, भारत, रूस, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, थाईलैंड और मलेशिया के नाम हैं.

ये भी पढ़ें :- क्या सच में भारत में चार महीने में कंट्रोल हो जाएगा कोरोना? 7 अहम बातें



इस रैंकिंग से ही पूरी बात ज़ाहिर नहीं होती. कौन किससे कितना पीछे है और किस क्षेत्र में? साथ ही, इस रैंकिंग का पूरा मतलब क्या है, ये सब जानना ज़रूरी हो जाता है.
asia superpower, india vs china, china vs us, superpower nations, एशिया सुपरपावर, भारत बनाम चीन, चीन बनाम अमेरिका, महाशक्ति देश
सुपरपावर रैंकिंग में चीन से पीछे है भारत.


अमेरिका की बादशाहत पर चीन का चैलेंज
26 देशों की इस रैंकिंग में दो साल पहले तक अमेरिका चीन से 10 पॉइंट आगे था, लेकिन अब 5 से 6 पॉइंट का ही फासला बाकी है. ऐसा क्यों हुआ? रिसर्च के प्रमुख के हवाले से कहा गया कि कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जिस तरह अमेरिका ने ढील का रवैया दिखाया, व्यापार को लेकर जिस तरह विवाद खड़े किए और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जिस तरह अंतर्राष्ट्रीय सौदों में गैर प्रोफेशनल एटिट्यूड दिखाया, उन सबकी वजह से अमेरिका की साख पर बट्टा लगा.

ये भी पढ़ें :- भारतीय नेवी कैसे रखती है जहाज़ों और सबमरीन के नाम?



कोरोना का दूसरा झटका अमेरिका को इस तरह लगा कि अर्थव्यवस्था चौपट हो गई. इंस्टिट्यूट का दावा है कि अमेरिका को महामारी से पहले की स्थिति में आने के लिए 2024 तक का वक्त लग जाएगा, जबकि अर्थव्यवस्था के मामले में चीन को लेकर भविष्यवाणी यह है कि इसी साल 2020 में वह झटके से उबर सकता है. अपनी तमाम जुर्रतों के बावजूद लगातार तीसरे साल इस रेंकिंग में दूसरे नंबर पर ताकत के साथ बना हुआ है.

भारत की ताकत चीन से कैसे और कितनी कम?
इस साल इस रैंकिंग में कोविड महामारी गेमचेंजर मानी गई. भारत चौथे नंबर का सबसे ताकतवर देश रहा यानी चीन और जापान के बाद. लोवी इंस्टिट्यूट ने कहा कि 2030 तक चीन की अर्थव्यवस्था के आउटपुट के 50 फीसदी तक पहुंचने का अनुमान पिछले साल था, लेकिन अब भारत 40 फीसदी तक ही पहुंच सकेगा. दोनों देशों की रैंकिंग में पॉइंट्स का बड़ा फर्क है जिससे अमेरिका के साथ चीन एशिया में सुपरपावर है, जबकि भारत मिडिल पावर है. आइए इसे समझें.

asia superpower, india vs china, china vs us, superpower nations, एशिया सुपरपावर, भारत बनाम चीन, चीन बनाम अमेरिका, महाशक्ति देश
लोवी इंस्टिट्यूट के इस ग्राफिक के मुताबिक एशिया में सुपरपावर देशों की स्थिति.


चीन 76 पॉइंट्स के साथ इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर है, जबकि भारत करीब 40 पॉइंट्स के साथ चौथे नंबर पर. पॉइंट्स के लिहाज़ से यह फर्क करीब दोगुने का है. यानी भारत की ताकत को हम चीन के मुकाबले आधा मान सकते हैं. अब सवाल ये खड़ा होता है कि चीन से इस तरह भारत पीछे कैसे रह गया? इसके लिए हमें इस स्टडी के पैमानों को समझना होगा. यह स्टडी कई पैमानों पर की गई, जिसके आधार पर फाइनल रैंकिंग तय हुई. जिन्हें स्टडी में सबसे ज़्यादा तवज्जो दी गई, उन 8 कसौटियों को देखते हैं :

आर्थिक क्षमता : इस मोर्चे पर चीन का बड़ा स्कोर 92.5 रहा, जबकि भारत का स्कोर सिर्फ 25.3.
मिलिट्री क्षमता : यहां चीन को 66.8 पॉइंट मिले, जबकि भारत को 44.3.
लचीलापन : इस कसौटी पर चीन का स्कोर 70.6 रहा जबकि भारत का स्कोर 54.5.
भविष्य के संसाधन : यहां चीन ने बाज़ी मारते हुए 85.7 पॉइंट कमाए तो भारत ने 49.2.
आर्थिक संबंध : इस मामले में चीन बढ़त बनाते हुए 98.9 पॉइंट्स ले गया तो भारत को महज़ 23.7 पॉइंट मिले.
डिफेंस नेटवर्क : यहां भारत थोड़ा आगे रहा और 26.3 अंक ले सका जबकि चीन को 24.1 अंक मिले.
कूटनीतिक प्रभाव : चीन 91.1 पॉइंट्स के साथ यहां बाज़ी मार गया क्योंकि भारत के पास यहां 65.9 पॉइंट्स रहे.
सांस्कृतिक प्रभाव : चीन ने यहां 61.9 का स्कोर हासिल किया, जबकि भारत ने 43.7.

तो, यह स्टडी कहती है कि आर्थिक मोर्चे पर भारत बहुत पीछे है और महामारी के चलते भारत की 'अर्थव्यवस्था को जो झटका लगा है, गरीबी जिस ढंग से फिर बढ़ी है, इस सबसे उबरकर एशिया की बड़ी शक्ति बनने में भारत को अब और ज़्यादा वक्त लगेगा.'

ये भी पढ़ें :-

डूबता हैदराबाद : कहने को 'ग्लोबल सिटी', सच में सिर्फ ढकोसला?

Everyday Science : धरती पर मौसम क्यों बदलते हैं?

क्या है बाकी ताकतों का विश्लेषण?
इस स्टडी में तीसरी रैंकिंग पाने वाले जापान को 'स्मार्ट पावर' कहा गया है क्योंकि मिलिट्री क्षमता में भारत से कम स्कोर के बावजूद जापान ने डिफेंस कूटनीति में भारत से बेहतर स्कोर किया. इसी तरह, कूटनीतिक प्रभाव और आर्थिक संबंधों के मोर्चे पर भी जापान ने भारत से खासी बाज़ी मारी है. यानी उसका नेटवर्क और संबंध बनाने का तरीका स्मार्ट है. जबकि रैंकिंग में भारत से महज़ 1 पॉइंट के फर्क से जापान आगे है.

asia superpower, india vs china, china vs us, superpower nations, एशिया सुपरपावर, भारत बनाम चीन, चीन बनाम अमेरिका, महाशक्ति देश
अमेरिकी चुनाव के नतीजे आगामी समय में रैंकिंग को प्रभावित करेंगे.


टॉप टेन की लिस्ट में ताईवान नहीं है, लेकिन अंकों के लिहाज़ से बहुत पीछे भी नहीं रहा. वहीं ऑस्ट्रेलिया ने इस बार 1 रैंक की छलांग लगाई है और दक्षिण कोरिया को पीछे छोड़कर छठे नंबर पर आ गया. फिर भी इस लिस्ट में दक्षिणी एशियाई देशों का वर्चस्व साफ नज़र आता है. लेकिन अमेरिका के साथ ही, रूस और मलेशिया को भी लिस्ट में पॉइंट्स का खासा नुकसान हुआ है.

अमेरिकी चुनाव को लेकर अनुमान?
इस स्टडी और लिस्ट में आने वाले समय की रैंकिंग को लेकर यह अनुमान लगाया गया है कि इस साल होने जा रहे अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में अगर ट्रंप दोबारा जीते, तो अमेरिका के पिछड़ने का ट्रेंड जारी रह सकता है. यह भी संभव है कि चीन इस लिस्ट में अमेरिका को पछाड़कर टॉप पर पहुंच जाए. स्टडी के लेखक ने ये भी कहा कि बाइडेन के राष्ट्रपति बनने से एशिया और अमेरिका के बीच रिश्ते सुधर सकते हैं. साथ ही, ताकत के खेल में अमेरिका अपनी साख शायद बचा भी सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज