पग क्यों पहनते हैं सिख? जानें कैसा रहा है पगड़ी का इतिहास

देश ही नहीं दुनिया के कई हिस्सों में सिखों की आबादी आम तौर से देखी जाती है और इसकी प्रमुख पहचान इनकी पग होती है. जानिए कि ये पग कैसे सिखों के साथ जुड़ी, कैसे इसके चलन में बदलाव हुए और इससे जुड़े विवाद क्या रहे.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 2:47 PM IST
पग क्यों पहनते हैं सिख? जानें कैसा रहा है पगड़ी का इतिहास
जानिए पगड़ी की परंपरा और इतिहास. प्रतीकात्मक तस्वीर.
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 2:47 PM IST
सिखों की पहली और प्रमुख पहचान उनकी पगड़ी होती है, जिसे पग भी कहा जाता है. सिर्फ उत्तर भारत ही नहीं बल्कि पूरे देश और दुनिया के कई हिस्सों में सिखों की खासी आबादी इस पगड़ी की वजह से अलग पहचानी जाती है और समय समय पर इस पगड़ी को लेकर विवाद से भी दो-चार होती है. सिखों की पगड़ी जैसी आज है, क्या हमेशा से वैसी ही रही है? कैसे ये पग सिखों की पहचान बनती चली गई? इन तमाम सवालों के जवाब में इतिहास की परतें खंगालती एक किताब प्रकाशित हुई है, जिसमें दावा किया गया है कि पगड़ी का इतिहास करीब 4 हज़ार साल पुराना है और दुनिया की कई सभ्यताओं में फैला हुआ है.

पढ़ें : कौन थी पहला खतरनाक स्टिंग ऑपरेशन करने वाली महिला पत्रकार?

अमित अमीन और नरूप झूटी लिखित किताब 'टर्बन्स एंड टेल्स' के कुछ अंशों के ज़रिये आप ये समझ सकते हैं कि पगड़ी कैसे सिखों की विकास यात्रा में रूप और आकार बदलकर वर्तमान स्वरूप तक पहुंची. इस किताब के मुताबिक़ पगड़ी की ठीक ठीक शुरूआत को लेकर कोई स्पष्ट उल्लेख नहीं है, लेकिन पगड़ी जैसा एक पहनावा 2350 ईसा पूर्व में एक शाही मैसोपोटामियन शिल्प में दिखाई देता है. माना जाता है कि इस पहनावे का यह सबसे पहले का नमूना है. ये भी समझा जाता है कि अब्राहमी धर्मों से पहले भी यह पहनावा प्रचलित था.

आइए जानें, सिखों की पग का दिलचस्प इतिहास क्या रहा और कैसे ये पग भारत पहुंची. फिर कैसे इस पग को वो स्वरूप मिला, जो आज प्रचलन में है.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

Sikhism history, Sikh style turban, why sikhs wear turban, turban tradition culture, sikh controversy, सिख संप्रदाय, सिखों का इतिहास, सिख पग क्यों पहनते हैं, पगड़ी परंपरा इतिहास, सिख विवाद
दस्तार बंगा पहने हुए सिख लड़ाका नेता अकाली नूथा सिंह का चित्र.


मौसम से बचाव का साधन थी पग
Loading...

भारत, मध्य पूर्व, यूरोप और अफ्रीका के कई हिस्सों में धूप, बारिश और ठंडी हवाओं से बचने के लिए पग पहनने का चलन शुरू हुआ था. कुछ इलाकों में केवल आस्थावानों को पग पहनने की इजाज़त थी तो कुछ इलाकों में अलग संस्कृति के चलते नास्तिकों को अलग रंग की पग पहनने की व्यवस्था रही. उदाहरण के लिए आठवीं सदी में इजिप्ट और सीरिया में ईसाई नीली, यहूदी पीली और समारी लाल जबकि मुस्लिम सामान्य तौर से सफेद पगड़ी पहना करते थे.

भारत में पग का प्रचलन
16वीं सदी में मुग़ल साम्राज्य से पहले भारत में, सामान्य तौर पर केवल शाही परिवारों या उच्च अधिकारियों को ही पगड़ी पहनने की इजाज़त रही थी. ये सामाजिक प्रतिष्ठा और उच्च वर्ग का प्रतीक था. खास तौर से हिंदू संप्रदाय में, निम्न मानी जाने वाली जातियों को पगड़ी पहनने की इजाज़त नहीं थी. इस्लामी शासन में इस व्यवस्था में बदलाव शुरू हुआ. बाद में, जब औरंगज़ेब का शासन काल आया तब एक खास आबादी को अलग पहचानने के लिए इस पगड़ी का इस्तेमाल शुरू हुआ.

औरंगज़ेब ने गैर मुस्लिमों, खास तौर से सिखों की आबादी को पहचानने के लिए पगड़ी की व्यवस्था की. औरंगज़ेब ने जब सिखों के गुरु तेग बहादुर को मौत के घाट उतारा, तब उनके बेटे गोबिंद ने खालसा पंथ की स्थापना की और सिखों के लिए पग पहनना अनिवार्य किया. ये पग शासन के विरोध के साथ ही, सिखों की आज़ादी और समानता का प्रतीक बनी.


Sikhism history, Sikh style turban, why sikhs wear turban, turban tradition culture, sikh controversy, सिख संप्रदाय, सिखों का इतिहास, सिख पग क्यों पहनते हैं, पगड़ी परंपरा इतिहास, सिख विवाद
ब्रिटिश राज में भारतीय सैनिकों के लिए पगड़ी पहनना अनिवार्य किया गया था.


ब्रिटिश राज में हुए पग में कई बदलाव
1845 में जब पंजाब में ब्रितानिया हुकूमत ने पैठ बनाई तब पगड़ी के चलन में कई बदलावों का सिलसिला शुरू हुआ. पहले पग को सिख सिपाहियों को अलग करने के लिए इस्तेमाल किया गया. अंग्रेज़ों को सलीक़ा पसंद था इसलिए उन्होंने एक ख़ास आकार और सिमिट्री वाली पग का चलन शुरू किया. शुरूआत में ये पग केन्याई स्टाइल की रही और फिर बाद में इसका रंग रूप और बदलता रहा. इस पग में चक्कर लगाने की परंपरा भी अंग्रेज़ों ने ही शुरू करवाई.

अंग्रेज़ों की वजह से ही सिखों ने अपनी दाढ़ी को बांधना भी शुरू किया था. अस्ल में, अंग्रेज़ी बंदूक चलाते समय खुली दाढ़ी में आग लगने की आशंका रहती थी इसलिए सिपाहियों को हिदायत थी कि वो दाढ़ी को ठोड़ी के पास बांधें. ये सिलसिला ऐसा चला कि आज भी कई सिख इस नियम का पालन करते हैं.


आज़ादी के बाद पग को लेकर क्या बदलाव हुए?
अंग्रेज़ी राज से आज़ादी मिलने के बाद भारत में कई धर्मों ने अपनी पहचानों को लेकर विचार शुरू किया. हिंदुओं ने पगड़ी पहनना छोड़ा क्योंकि आज़ादी के समय दंगों में उन्हें सिख समझकर हमले का शिकार होना पड़ रहा था. वहीं, पाकिस्तान में मुस्लिमों ने भी पगड़ी पहनना छोड़ दी. भारत में जहां पगड़ी एक समय हर वर्ग की सामाजिक प्रतिष्ठा से जुड़ी रही थी, वहीं आज़ादी के बाद केवल सिखों ने इसे अनिवार्य ढंग से अपनाए रखा.

Sikhism history, Sikh style turban, why sikhs wear turban, turban tradition culture, sikh controversy, सिख संप्रदाय, सिखों का इतिहास, सिख पग क्यों पहनते हैं, पगड़ी परंपरा इतिहास, सिख विवाद
वर्तमान में सिख कई तरह की पग पहनते हैं लेकिन यह एक सामान्य शैली है.


विदेशों में सिखों की पहचान और विवाद
भारत से सिख ब्रिटेन या पश्चिमी देशों में गए तो उन्हें पहले-पहल सम्मान मिला और उनकी सैन्य क्षमताओं के लिए उन्हें मान दिया गया. वहां भी सिखों ने पगड़ी को अपना अनिवार्य पहनावा बनाए रखा लेकिन समय समय पर इससे विवाद जुड़े. ब्रिटेन में कभी बस ड्राइवर को ड्यूटी के समय पग पहनने से रोकने की कोशिश हुई, कभी स्कूल में सिख छात्रों की पग पर प्रतिबंध की तो कभी हेलमेट कानून के चलते पग पहनने की प्रथा खत्म करने की कोशिशें हुईं लेकिन सिखों के डटे रहने के बाद अब ब्रिटेन के कानून में सिखों के लिए पग को अनिवार्य माना जा चुका है. अन्य कई देशों में भी पग स्वीकार है लेकिन कभी कभी अब भी इसे लेकर विवाद खड़े होते रहते हैं.

ये भी पढ़ें:
क्या कमजोर हो गया है RTI एक्ट, जानें सरकार ने क्या किए हैं बदलाव?
महारानी गायत्री देवी और इंदिरा गांधी के बीच आख़िर क्या रंजिश थी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 30, 2019, 2:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...