जानिए कितनी काबिल और खतरनाक है चीन की महिला फौज

जानिए कितनी काबिल और खतरनाक है चीन की महिला फौज
चीनी महिला फौजियों के मार्च की तस्वीर ट्विटर से साभार.

China Military में महिलाएं अपनी काबिलियत लगातार साबित करते हुए दम भर रही हैं और कुछ क्षेत्रों में तो पुरुष सेना को मात तक दे चुकी हैं. Ladakh Face-Off के बाद भारत-चीन (India-China) के बीच सीमा पर बने हुए तनाव (Border Tension) के बीच जानिए कि लगातार बदलाव से गुज़रती रही चीनी सेना में महिलाओं की सशक्त मौजूदगी क्या कहती है.

  • Share this:
सेना में महिलाओं की मौजूदगी चीन के लिए कोई नई बात नहीं है. इस समय भी चीन की सेना (Chinese Defense) में महिलाओं की सशक्त भागीदारी है और पूरी दुनिया में चीनी महिलाओं (Chinese Women) की फौज का एक अलग रुतबा है. हालांकि दुनिया की सबसे घातक महिला सेना Israel की मानी जाती है, लेकिन चीन की फौजी महिलाएं (Women Soldiers) भी कम नहीं हैं. चीनी महिला सेना के दिलचस्प और ज़रूरी फैक्ट्स आपको हैरान कर सकते हैं.

महिला फौजियों के लिए सब कुछ मुमकिन
चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) में शामिल म​हिलाएं वर्तमान समय में शौर्य, साहस और कौशल से जुड़ी हर भूमिका में सामने आ रही हैं. टैंक चलाने की बात हो या एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल, फाइटर जेट उड़ाना हो पैराट्रूपर का रोल हो, स्पेशल ऑपरेशनों में भी इनकी भागीदारी है. चीन की इस सेना की एक सदस्य ने चीन सेंट्रल टीवी पर कहा था कि वह महिला फौजी होने से पहले स्पेशल फोर्स की सदस्य कहलाना पसंद करेगी. टैंक ड्राइविंग के साथ ही 50 किलोग्राम वज़नी बैटरी और शेल लोडिंग के काम भी युवतियां कर रही हैं.





एयर डिफेंस में भी कुशल


फरवरी 2019 में हुए एक इम्तिहान में एयर डिफेंस में सिर्फ महिलाओं की टीम ने पुरुषों की टीम को पछाड़ दिया था. एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल को ऑपरेट करने के लिए भरपूर ताकत ज़रूरी है और महिला फौजियों ने कंट्रोल पैनल पर इतनी कुशलता दिखाई कि बगैर इसे देखे ही, समय बचाकर ऑपरेट कर दिया. इसके अलावा फाइटर पायलट और हवाई ट्रूप में भी लड़कियां दमदार भूमिका निभा रही हैं.

ये भी पढ़ें :- किन देशों में गिरती है सबसे ज़्यादा बिजली और क्या होता है वॉर्निंग सिस्टम?

china women soldiers, china women army, china women military, china forces, india china border tension, चीनी महिला सेना, चीनी महिला आर्मी, चीनी महिला मिलिट्री, चीनी सेना, भारत चीन सीमा तनाव
चीनी फौज में महिलाएं साहस और कौशल के तमाम रोल्स में खुद को साबित कर रही हैं. तस्वीर ट्विटर से साभार.


कैसे बदल रही हैं भूमिकाएं?
PLA में फौजी रह चुकीं वांग के हवाले से एक रिपोर्ट में कहा गया कि 'लोग सोचते हैं कि मिलिट्री पुरुषों का ही क्षेत्र है और महिलाएं केवल कम्युनिकेशन या मेडिकल केयर में ही भागीदार हो सकती हैं, लेकिन महिलाएं किसी से कम नहीं हैं.' वांग ने बताया कि जब तिब्बत क्षेत्र में स्पेशल मिशन था, तब उनके पुरुष साथी फौजियों को एल्टिट्यूट के कारण स्ट्रेस की शिकायतें हुई थीं लेकिन लड़कियों ने कठिन स्थितियों में खुद को बेहतर ढाला था.

पहले मैदान ए जंग से दूर रहती थी महिला सेना
साल 1949 में कम्युनिस्टों की जीत और युद्ध के बाद सेना के ढांचे और तौर तरीकों में भारी बदलाव हुए थे. इन्हीें के चलते 1951 में कोरियाई युद्ध के समय डेढ़ लाख महिला फौजियों को सिर्फ सिविलियन पोस्ट दिए गए थे. मतलब महिला फौजी सिर्फ नर्स, डॉक्टर, सांस्कृतिक कार्यकर्ता और टेलिफोन ऑपरेटर के तौर पर काम कर रही थीं. 1979 में युद्ध क्षेत्र की पोज़ीशनों में महिला फौजियों को डॉक्टरों और कम्युनिकेशन रोल्स के लिए भेजा गया.

चीनी सेना में होते रहे बदलाव
महिलाओं को युद्ध क्षेत्र की पोज़ीशनों से दूर रखने के पीछे सोवियत विचारधारा का प्रभाव चीन की सोच पर था. फिर, 1980 के दशक में अमेरिकी प्रभाव के चलते चीन की सोच बदली और महिलाओं को मुख्यधारा में लाने की मुहिम शुरू हुई. चीन की कुल सेना में साढ़े चार से पांच फीसदी तक महिलाएं हैं और वो कई तरह की लड़ाका भूमिका में भी आ रही हैं.

ये भी पढें:-

ट्रैस किए गए कोरोना वायरस के 'साथी' और 'दुश्मन' जीन्स

इंदिरा गांधी ने क्यों नहीं रखे कभी चीन से संबंध?

china women soldiers, china women army, china women military, china forces, india china border tension, चीनी महिला सेना, चीनी महिला आर्मी, चीनी महिला मिलिट्री, चीनी सेना, भारत चीन सीमा तनाव
चीनी की फौज में 5 फीसदी से कम महिलाएं शुमार हैं.


फिर भी एक स्तर पर कायम है भेदभाव!
महिला फौजियों के साहस, क्षमताओं और योग्यताओं पर कोई सवाल न रहने के बावजूद भेदभाव का एक रवैया चीनी सेना में कायम है. क्वार्ट्ज़ की एक रिपोर्ट का शीर्षक था 'चीन की फौजी महिलाएं फाइटर जेट उड़ाती हैं लेकिन स्टेट मीडिया उनकी डांसिंग क्षमताओं पर फोकस करता है'. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कैसे महिला फौजियों को मनोरंजन, ग्लैमर और दीगर एक्टिविटीज़ के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जबकि वो अपनी काबिलियत साबित कर चुकी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading