जानिए कौन हैं सीबीआई अफसर राकेश अस्थाना, जिन्हें हाईकोर्ट ने दिया झटका

जानें कौन हैं राकेश अस्थाना, जिन्हें पिछले दिनों केंद्र सरकार ने सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा के साथ छुट्टी पर भेज दिया था. उनके खिलाफ जांच चल रही है

News18Hindi
Updated: January 11, 2019, 4:06 PM IST
News18Hindi
Updated: January 11, 2019, 4:06 PM IST
दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ एफआईआर खारिज करने से इनकार करके उन्हें बड़ा झटका दिया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को राहत नहीं दी है. उनके खिलाफ जांच जारी रहेगी. हाई कोर्ट ने 10 हफ्ते में जांच पूरा करने का आदेश दिया है. इससे पहले हाईपॉवर कमेटी ने गुरुवार रात सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा को वहां से हटाकर फायर सर्विसेज का प्रमुख बना दिया था.

अस्थाना को कुछ समय पहले केंद्र सरकार ने तत्कालीन सीबीआई निदेशक वर्मा के साथ लंबी छुट्टी पर भेज दिया था.

राकेश 1984 बैच के गुजरात कैडर के IPS हैं. उन्हें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का करीबी माना जाता रहा है.



कौन हैं राकेश अस्थाना

राकेश पहली बार सुर्ख़ियों में तब आए जब साल 1996 में उन्होंने चारा घोटाला केस में लालू को गिरफ्तार किया. इसके बाद साल 2001 तक इस केस के जांच अधिकारी भी वही रहे. राजनीतिक तौर पर बेहद शक्तिशाली लालू के खिलाफ मज़बूत केस तैयार करने में उनकी भूमिका अहम् मानी जाती है. उन्होंने CBI में अपने पिछले कार्यकाल के दौरान चारा घोटाले की जांच की थी.

गोधरा
साल 2002 में गुजरात के गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस में आग लगने की घटना की जांच के लिए गठित स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) का हेड भी राकेश को ही बनाया गया. इस घटना में 59 हिंदू तीर्थयात्रियों की जलने से मौत हो गई थी जिसके बाद गुजरात में दंगे भड़क गए और करीब 1200 लोगों की मौत हुई. SIT ने ही कोर्ट को बताया था कि ट्रेन में लगी आग एक सुनियोजित हमला था.
Loading...



अगस्ता वेस्टलैंड
CBI के डायरेक्टर आलोक कुमार के साथ मिलकर राकेश ने ही UPA सरकार के दौरान हुए हाई प्रोफाइल अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की जांच की थी. 36000 करोड़ के इस घोटाले में VVIP हैलीकॉप्टर की खरीद के दौरान रिश्वत दी गई थी.

अब भी लालू के पीछे..
राकेश फिलहाल लालू परिवार से जुड़े होटल घोटाले की जांच कर रहे थे. ये घोटाला लालू के रेलवे मिनिस्टर होने के दौरान लेन-देन से संबंधित अनियमितताओं से जुड़ा है. इस केस में लालू के परिवार के कई अन्य सदस्यों के नाम भी हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...