क्या वाकई भारत में ज्यादातर कोरोना रोगी हो रहे हैं ठीक और दुनिया में सबसे कम है मृत्यु दर

क्या वाकई भारत में ज्यादातर कोरोना रोगी हो रहे हैं ठीक और दुनिया में सबसे कम है मृत्यु दर
भारत में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों की दर पूरी दुुनिया के मुकाबले बहुत कम है. वहीं, संक्रमितों की संख्‍या के मामले में भारत शीर्ष 10 देशों में शामिल हो गया है.

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus in India) के मरीजों के बुधवार शाम तक ठीक होने की दर 42.45 फीसदी पहुंच गई है, जबकि मृत्‍यु दर सुधरकर 2.85 फीसदी हो गई है. यानी बीते 24 घंटे में ठीक होने वालों की दर बढ़ी है, जबकि मृत्‍यु दर घटी है. इस समय देश में 83,004 संक्रमितों का इलाज चल रहा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की ओर से हर दिन कोरोना वायरस (Coronavirus in India) से संबंधित जानकारी दी जा रही है. मंत्रालय का कहना है कि देश में इलाज के बाद संक्रमण से मुक्त होने वाले यानी इलाज से ठीक होने वाले लोगों की दर बढ़ रही है. यह कई देशों के मुकाबले बहुत अच्‍छी है. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने मंगलवार को कहा था कि देश में लोगों के संक्रमण मुक्त होने की दर 41.61 फीसदी है. कोविड-19 (COVID-19) से मरने वालों का आंकड़ा (Mortality Rate) 15 अप्रैल के 3.3 प्रतिशत से घटकर 2.87 फीसदी पर आ गया है, जो दुनिया में सबसे कम है. दुनिया में संक्रमण से मृत्यु दर 6.4 फीसदी है. आइए इस समय के आंकड़ों के आधार पर आकलन करते हैं कि देश में कोरोना वायरस की मृत्‍यु दर कितनी है और कितने फीसदी लोग ठीक (Recovery Rate) हो रहे हैं.

कल से आज देश में मृत्‍यु दर में दर्ज किया गया है मामूली सुधार
देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़कर 1,51, 766 हो गए हैं. इनमें 4,337 लोगों की गंभीर संक्रमण के कारण मौत हो चुकी है. वहीं 64,425 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं. गणना की जाए तो देश में बुधवार शाम तक इलाज से ठीक होने की दर 42.45 फीसदी पहुंच गई है, जबकि मृत्‍यु दर सुधरकर 2.85 फीसदी हो गई है. यानी बीते 24 घंटे में ठीक होने वालों की दर बढ़ी है, जबकि मृत्‍यु दर घटी है. इस समय देश में 83,004 संक्रमितों का इलाज चल रहा है. इस बीच दूसरे प्रदेशों में काम कर रहे मजदूर अपने-अपने राज्‍य लौट रहे हैं. इससे उत्‍तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम और ओडिशा में मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है. पिछले 24 घंटे में संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु में भी बड़ी संख्या में नए मामले सामने आए हैं. दिल्ली, पंजाब, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश समेत अन्य राज्यों से भी नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं.

coronavirus, COVID-19, COVID-19 in india
बुधवार शाम तक कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,51,766 पहुंच चुका है.




पांच राज्‍यों को विशेष निगरानी रखने के दिए गए हैं निर्देश


मंत्रालय ने मंगलवार सुबह के बुलेटिन में कहा था कि देश में संक्रमण से 4,167 लोगों की मौत हुई है, जबकि 1,45,380 लोग संक्रमित हो चुके हैं. सोमवार सुबह आठ बजे से मंगलवार सुबह आठ बजे तक देश में कोविड-19 के 6,535 नए मामले आए हैं और 146 लोग की मौत हुई है. इसके बाद रात साढ़े नौ बजे तक विभिन्न राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से मिली सूचना के अनुसार, देश में कुल 1,47,505 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित चुके थे. वहीं, संक्रमण से 4,268 लोगों की मौत हो गई थी. बुधवार शाम तक कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,51,766 पहुंच गया था. पिछले तीन सप्ताह में उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन राज्‍यों में पाबंदी वाले क्षेत्रों के ट्रेंड का विश्लेषण करने और योजनाओं को उचित तरीके से लागू करते हुए स्थिति में सुधार करने को कहा है.

'भारत में प्रति लाख की आबादी पर मृत्‍यु दर 0.3 फीसदी है'
लव अग्रवाल ने दूसरे देशों के आंकड़े बताते हुए कहा कि भारत में प्रति लाख आबादी में मृत्यु दर 0.3 फीसदी है, जबकि दुनियाभर में एक लाख लोगों में औसतन 4.5 की कोरोना वायरस से मौत हो रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बेल्जियम में प्रति लाख की आबादी पर 81.2 मौत, स्पेन में 61.5 और ब्रिटेन में प्रति लाख की आबादी पर 55.3 मौत का आंकड़ा है. इटली 54.3, फ्रांस 42.3, स्वीडन 39.3, अमेरिका 29.3, कनाडा 17.2, ब्राजील 10.5 और जर्मनी में प्रति लाख की आबादी पर 10.0 मौतों का आंकड़ा है. द इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, अग्रवाल ने कहा कि लॉकडाउन, समय पर मामलों की पहचान और कोविड-19 के मामलों के प्रबंधन से मृत्‍यु दर को नीचे रख पाना संभव हो पाया है. बावजूद इसके भारत अब कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देशों में शामिल हो चुका है. विशेषज्ञों का मानना है कि जांच क्षमता में वृद्धि के साथ ही यात्रा प्रतिबंधों में ढील के कारण ज्‍यादा मामले सामने आ रहे हैं.

corona virus, COVID-19, COVID-19 in india, bihar, coronavirus in bihar, कोरोना वायरस, कोविड—19, बिहार में कोरोना वायरस, बिहार में कोविड—19, बिहार
भारत में प्रति लाख आबादी में मृत्यु दर 0.3 फीसदी है, जबकि दुनियाभर में एक लाख लोगों में औसतन 4.5 की कोरोना वायरस से मौत हो रही है.


ज्‍यादातर हॉटस्‍पाट एरिया में बढ़ रहे हैा कोरोना पॉजिटिव केस
एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया के मुताबिक, ज्‍यादातर हॉटस्पॉट एरिया से कोरोना पॉजिटिव बढ़ने के मामले सामने आ रहे हैं. गुलेरिया ने कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए उन इलाकों की करीबी निगरानी जरूरी है, जहां दूसरे राज्‍यों से श्रमिक लौटे हैं. आईसीएमआर के मुताबिक, कोविड-19 की टेस्टिंग में भी तेजी से बढ़ोतरी की गई है. अब रोजाना 1.1 लाख सैंपल्‍स की जांच की जा रही है. इन सैंपल्‍स की देश में मौजूद 612 कोरोना टेस्‍ट लैंब में जांच हो रही है.

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा, 'कोविड-19 एक ऐसी बीमारी है जिसके बारे में जानकारी धीरे-धीरे सामने आ रही है. हमें नहीं पता कि कौन सी दवा काम कर रही है और कौन सी नहीं. कई दवाएं कोविड-19 के लिए इस्तेमाल के लिए निर्धारित की जा रही हैं, चाहे वह इससे बचाव के लिए हों या इलाज के लिए हों. हम सिफारिश करते हैं कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्‍वीन का इस्तेमाल बचाव के लिए जारी रखना चाहिए. इससे कोई नुकसान नहीं है.

ये भी देखें:

क्यों डब्ल्यूएचओ ने भारत की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का ट्रायल तक नहीं किया?

जम्मू-कश्मीर में बदले डोमिसाइल रूल्‍स से कश्‍मीरी पंडितों और पाकिस्‍तानी शरणार्थियों को कैसे होगा फायदा

जानें क्या है चीन का मार्स मिशन तियानवेन-1, कितने दिन में पहुंचेगा लाल ग्रह

कोरोना वायरस के मरीजों में बन रहे खून के थक्‍कों ने बढ़ाया मौत का खतरा

जानें कौन-कौन से देश कोरोना वायरस की वैक्‍सीन बनाने के पहुंच गए हैं काफी करीब
First published: May 27, 2020, 8:42 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading