अपना शहर चुनें

States

'एंटी नेशनल' कही जा रहीं शेहला राशिद पहले कितने विवादों में घिरी हैं?

शेहला राशिद घरेलू विवाद के चलते सुर्खियों में है.
शेहला राशिद घरेलू विवाद के चलते सुर्खियों में है.

कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) से लेकर रोहित वेमुला केस (Rohit Vemula Case) को लेकर छात्र राजनीति और आंदोलनों (Activism) से शोहरत पाने वाली शेहला राशिद शोरा (Shehla Rashid Shora) ने कश्मीर की युवा नेता (Kashmir Leader) के रूप में छवि तो बना ली, लेकिन विवादों से उनका पीछा कभी नहीं छूटा.

  • News18India
  • Last Updated: December 2, 2020, 7:14 AM IST
  • Share this:
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) की छात्र राजनीति (Student Politics) से सुर्खियों में आईं शेहला राशिद अब अपने पिता के आरोपों के बाद सुर्खियों में हैं. शेहला ने पिता अब्दुल राशिद (Abdul Rashid Shora) के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि घरेलू हिंसा के मामले (Domestic Violence Case) में उनके खिलाफ कार्यवाही और उन्हें कश्मीर स्थिति अपने घर में कानूनी तौर पर न घुसने देने का एक्शन लेने के कारण उनके पिता बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं. इससे पहले, अब्दुल राशिद ने बेटी शेहला पर एंटी नेशनल होने के आरोप (Anti National) लगाते हुए कश्मीर पुलिस के आला अफसर को चिट्ठी लिखकर जान को खतरा होने की बात कही थी.

यू तो विवादों से शेहला का नाता नया नहीं है. यूनिवर्सिटी से एक एक्टिविस्ट के तौर पर शुरुआत करने वाली शेहला पिछले कुछ सालों में अपने बयानों और प्रतिक्रियाओं को लेकर विवादों में घिरती आई हैं. शेहला राशिद कौन हैं और किस ताज़ा विवाद में उलझी हुई हैं, यह आप न्यूज़18 पर विस्तार से पढ़ सकते हैं. यहां आपको बताते हैं कि शेहला राशिद किस तरह के विवादों में पहले घिरी हैं.

ये भी पढ़ें :- क्या है IPC सेक्शन 124A?



विवादों से चोली दामन का साथ
पिता अब्दुल राशिद ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि शेहला की संस्थाओं को एंटी नेशनल स्रोतों से फंडिंग हो रही है. 'एंटी नेशनल' जैसे आरोप शेहला पर पहले भी लगे हैं, लेकिन किसी अंजाम तक अब तक नहीं पहुंचे. बहरहाल, आपको सिलसिलेवार बताते हैं कि शेहला किस तरह के विवादों में रहीं.



2017 : पैगंबर मोहम्मद को लेकर शेहला ने एक फेसबुक पोस्ट लिखा था, जिसे आपत्तिजनक बताते हुए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ ने शेहला के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी. गौरतलब है कि शेहला पहले भी अपने ब्लॉग पर मोहम्मद के बारे में लिखती रहीं.

ये भी पढ़ें :- क्या कहता है देश में 'धर्म परिवर्तन' रोकने के कानूनों का इतिहास?

2018 : आयरलैंड की गायिका शुहदा दावीत कन्वर्ट होकर इस्लाम में आई थीं, तब शेहला ने उनका मुस्लिम समुदाय में स्वागत किया था, जिसे लेकर सोशल मीडिया पर काफी विरोध हुआ था. इस विवाद के चलते शेहला ने अपना ट्विटर अकाउंट बंद कर दिया था, हालांकि कुछ समय बाद इसे वापस चालू कर लिया था.

2019 : फरवरी में जब देहरादून के एक हॉस्टल में 15 से 20 कश्मीरी लड़कियां फंस गई थीं, तब शेहला ने ट्वीट कर आरोप लगाए थे कि 'पुलिस की मौजूदगी के बावजूद कश्मीरी लड़कियों की जान को खतरा' था. पुलिस ने इस तरह के आरोपों को खारिज तो किया ही था, शेहला के खिलाफ लोगों को उकसाने और शांति भंग करने के मामले भी दर्ज किए थे.

ये भी पढ़ें :- किसानों के तेज हो रहे आंदोलन के बारे में हर सवाल का जवाब

2019 : मार्च के महीने में शेहला तब चर्चा में थीं, जब कश्मीर के ब्यूरोक्रेट शाह फैसल ने अपनी राजनीतिक पार्टी लॉंच की थी. इस लॉंचिंग के वक्त पार्टी में शामिल हुई शेहला पर आरोप लगाए गए थे कि उन्होंने हिजाब पहना था. हालांकि शेहला ने इसे तहज़ीब बताया था लेकिन सोशल मीडिया पर 'खुद को प्रोग्रेसिव बताने वाली शेहला' की काफी आलोचना हुई थी.

shehla rashid case, who is shehla rashid, jnu student leaders, who is anti national, शेहला राशिद केस, कश्मीर लीडर, जेएनयू स्टूडेंट लीडर, राजद्रोह क्या है
शेहला राजनीतिक पार्टी जॉइन करने और फिर छोड़ने को लेकर चर्चा में थीं.


2019 : अगस्त में, जम्मू और कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे को खत्म किए जाने के सिलसिले में शेहला ने ट्वीट किए थे कि आर्मी कश्मीरियों को प्रताड़ित कर रही थी. आर्मी ने आरोप खारिज किए और सुप्रीम कोर्ट के वकील आलोक श्रीवास्तव ने शेहला के खिलाफ राजद्रोह के आरोप लगाकर शिकायत की थी.

2019 : अक्टूबर के महीने में शेहला ने चुनावी राजनीति यह कहकर छोड़ दी थी कि वो 'कश्मीर में लोगों के दमन को कानूनी रूप देने की कवायद' करने वाली व्यवस्था का हिस्सा नहीं हो सकतीं. शाह फैसल को कस्टडी में लिये जाने के बाद शेहला के पार्टी छोड़ने पर काफी बहस हुई थी.

ये भी पढ़ें :- Explainer : किन 5 राज्यों में हैं अप्रैल-मई में चुनाव, फिलहाल क्या है स्थिति?

यह भी गौरतलब है कि ताज़ा विवाद के चलते शाह फैसल ने खुद को इससे दूर करते हुए कहा है कि यह शेहला का पारिवारिक विवाद है, जिसमें उनका नाम बेवजह घसीटा जा रहा है. अस्ल में, शेहला के पिता ने यह आरोप लगाया कि फैसल की पार्टी में शामिल होने के लिए आतंकी संगठनों ने शेहला को 3 करोड़ रुपये की रकम दी थी. हालांकि शेहला ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है, लेकिन खबरें और बहस लगातार जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज