होम /न्यूज /नॉलेज /कौन हैं भारतीय मूल के वो शुक्ला जी, जिन्हें दुनिया में सबसे पहले मिलेगी वैक्सीन

कौन हैं भारतीय मूल के वो शुक्ला जी, जिन्हें दुनिया में सबसे पहले मिलेगी वैक्सीन

वो हरि शुक्ला, जिन्हें दुनिया में सबसे पहली कोरोना वैक्सीन का डोज मिलने वाला है

वो हरि शुक्ला, जिन्हें दुनिया में सबसे पहली कोरोना वैक्सीन का डोज मिलने वाला है

भारतीय मूल (Indian origin) के हरि शुक्ला (Hari Shukla) वो शख्स हैं, जिन्हें दुनिया में सबसे पहले कोरोना टीका (Corona Vi ...अधिक पढ़ें

    भारतीय मूल के हरी शुक्ला ब्रिटेन में रहते हैं. लेकिन वो इस मामले में खास होने वाले हैं, क्योंकि वो दुनिया के पहले ऐसे शख्स बनने जा रहे हैं जिन्हें कोरोना वायरस के खिलाफ फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन लगने वाली है.

    ब्रिटेन यूरोप का पहला देश है, जिसने फाइजर की कोरोना वैक्सीन के इमर्जेंसी यूज की अनुमति देगी. हरि शुक्ला ब्रिटेन में टेन में रहते हैं. लंदन के एक अस्पताल में उन्हें ये डोज दिया जाने वाला है.

    शुक्ला 87 साल के
    उन्हें ये सूचना फोन से दी गई. ये बात उन्हें रोमांचित करने वाली थी कि कोरोनावायरस प्रोग्राम के तहत उन्हें सबसे पहले छांटा गया है. ये वैक्सीन दो डोज में उन्हें लगेगी. उन्हें ऐसा करने में फख्र महसूस हो रहा है. वो इसके लिए तैयार है. खुद को कतई नवर्स फील नहीं कर रहे. शुक्ला 87 साल के हैं. उनके साथ उनकी 83 वर्ष की पत्नी रंजन को भी वैक्सीन लगाई जाएगी.

    ये भी पढ़ें - वो बौद्ध भिक्षु जो कोबरा और अजगर पालता है, मंदिर में बुद्ध के पास रहते हैं सांप

    पहले हफ्ते में 08 लाख लोगों को टीका लगेगा
    ब्रिटेन में मंगलवार से फाइजर टीकाकरण शुरू हो रहा है. ये 08 लाख लोगों को पहले ही हफ्ते में दिए जाने की उम्मीद है. इसमें केयर होम, स्वास्थ्य सेवा के लोगों के साथ 80 साल से ऊपर के लोग होंगे, जिन्हें सबसे पहले ये टीका लगाया जा रहा है.

    News18 Hindi
    हरि शुक्ला पिछले करीब 50 सालों से उत्तरी इंग्लैंड में रह रहे हैं. उनके अभिभावक किसी जमाने में यूगांडा चले गए थे. उनका जन्म वहीं हुआ.


    15 लाख लोग मर चुके हैं कोरोना से
    कोरोना वायरस से दुनियाभर में अब तक 15 लाख से ज्यादा लोग मर चुके हैं. ये वर्ष 2020 में सबसे बड़ी और खतरनाक महामारी बनकर उभरी, इससे दुनियाभर की व्यवस्थाओं पर तो असर पड़ा ही, साथ ही इकोनॉमी बहुत खराब स्थिति में पहुंच गई.

    ये भी पढ़ें - भारत से मौसम-युद्ध की फिराक में China, तकनीक के जरिए मौसम को करेगा कंट्रोल

    हरि शुक्ला 70 के दशक में इंग्लैंड आए
    हरि शुक्ला यूगांडा में पैदा हुए थे. 70 के दशक में दादा अमीन के आतंक के बाद वो अपने परिवार के साथ ब्रिटेन आ गए थे. यहां आकर वह उत्तरी इंग्लैंड में बस गए. उन्होंने यहां टीचर के तौर पर अपना करियर शुरू किया. कहना चाहिए कि वो अपने क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय लोगों में हैं. उन्हें स्थानीय तौर पर हीरो की तरह देखा जाता है.

    ये भी पढ़ें -जब पिछले कार्यकाल में विरोध के बीच NDA को वापस लेना पड़ा था भूमि अध्यादेश

    समाज सेवा में आगे रहते हैं
    हरि शुक्ला स्थानीय समाज सेवा के कामों में काफी आगे रहते हैं. वो नस्लभेद खत्म करने के एक प्रोग्राम से भी यहां जुड़े हैं. इसे लेकर उन्हें ब्रिटिश रॉयल के कई अवार्ड भी मिल चुके हैं.

    04 फाइजर कोरोना वैक्सीन डोज खरीदे हैं
    इंग्लैंड ने फाइजर से कुल मिलाकर 04 करोड़ डोज खरीदे हैं. इस महीने के आखिर तक करीब 40 लाख वैक्सीन डोज देने का लक्ष्य है, ये कार्यक्रम ब्रिटेन के 50 अस्पतालों के जरिए होगा.

    Tags: Corona, Corona vaccine, COVID 19, Pfizer vaccine

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें