लाइव टीवी

coronavirus : जानें कैसे राशन की दुकानों और स्‍टोर्स से भी फैल सकता है संक्रमण, न लगाएं भीड़

News18Hindi
Updated: March 26, 2020, 4:12 PM IST
coronavirus : जानें कैसे राशन की दुकानों और स्‍टोर्स से भी फैल सकता है संक्रमण, न लगाएं भीड़
रोमजर्रा की जरूरत के स्‍टोर्स या दुकानों पर भीड लगाने से लॉकडाउन का मकसद खत्‍म हो जाएगा.

कोरोना वायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए भारत सरकार ने 21 दिन के लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा कर दी है. अगर आप ग्रॉसरी या मेडिकल स्‍टोर्स भी ज्‍यादा संख्‍या में जमा हो जाते हैं तो आप लॉकडाउन के मकसद को खत्‍म कर रहे हैं. आइए जानते हैं कि इससे बचने के लिए क्‍या करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2020, 4:12 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए केंद्र सरकार ने भारत (India) में 21 दिन का लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा कर दी है. पुलिस और प्रशासन भी सख्‍ती बरत रहा है. इसके बाद घबराए लोग राशन, सब्‍जी, दवाइयां इकट्ठी करने में जुट गए और दुकानों व ग्रॉसरी स्‍टोर्स पर भीड़ लगाने लगे. आज भी देश के अलग-अलग हिस्‍सों से राशन की दुकानों और स्‍टोर्स के साथ ही सब्‍जी व फलों की दुकानों पर भीड़ (Crowd) की तस्‍वीरें आ रही हैं. हम आपको बता दें कि अब भारत में इन्‍हीं स्‍टोर्स और दुकानों से कोरोना वायरस के फैलने का सबसे ज्‍यादा खतरा है. अगर आपका बाहर निकलकर सामान लाना बहुत जरूरी है तो स्‍टोर्स, दुकानों या ठेलों से सामान खरीदते वक्‍त कुछ सावधानी बरतकर अपने साथ ही अपनों को संक्रमण (Infection) से सुरक्षित रख सकते हैं.

स्‍टोर्स पर भीड़ लगाने से खत्‍म हो जाएगा लॉकडाउन का मकसद
लॉकडाउन के बाद सड़कों, दफ्तरों, खेल के मैदानों, पार्कों और सभी सार्वजनिक स्‍थानों पर सन्‍नाटा पसरा हुआ है. ऐसे में सिर्फ खाने-पीने के सामान की दुकानों और मेडिकल स्‍टोर्स पर ही जीवन के निशान दिख रहे हैं. लेकिन, अगर आप घबराकर इन जगहों पर भीड़ जमा कर देंगे तो लॉकडाउन का असली मकसद पूरा नहीं हो पाएगा. ऐसे में आपको इन जगहों पर जाते समय भी सोशल डिस्‍टेंसिंग (Social Distancing) और सुरक्षा उपायों का खास ख्‍याल रखना है.

ऐसी जगहों पर जाते समय मास्‍क जरूर पहनें क्‍योंकि अगर कोई संक्रमित व्‍यक्ति स्‍टोर या दुकान पर खड़े होकर खांसता या छींकता है तो वो ड्रॉपलेट के साथ हवा में वायरस भी छोड़ेगा. शोध में पता चला है कि कोरोना वायरस हवा में करीब 3 घंटे तक जिंदा रह सकता है. अब अगर उस जगह आप सांस लेते हैं तो हवा के साथ वायरस को भी इनहेल कर लेंगे. इससे आप भी संक्रमित हो सकते हैं. अगर आप मास्‍क पहनें हैं तो इस वायरस से बच सकते हैं.



अमेरिका में ग्रॉसरी स्‍टोर्स में काम करने वाले कुछ कर्मचारी संक्रमित हो चुके हैं. ऐसे में कैशियर और ग्राहक के बीच की दूरी में इजाफा करें और लोग सामान घर लाकर पहले सैनेटाइज करें.


अमेरिका में ग्रॉसरी स्‍टोर्स पर काम करने वाले कर्मी भी हुए संक्रमित
अमेरिका (US) में कोरोना वायरस फैलने के साथ ग्रॉसरी स्‍टोर्स (Grocery Stores) पर काम करने वाले कई कर्मचारी भी संक्रमित हो गए. सियाटल के एक स्‍टोर में काम करने वाले जो भी कोरोना टेस्‍ट में पॉजिटिव पाए गए. कुछ ऐसा ही डेनवर में भी हुआ. यहां तीन कर्मचारी बीमार पड़ गए. वाशिंगटन (Washington) में भी एक स्‍टोर कर्मी का कोरोना टेस्‍ट पॉजिटिव पाया गया है. अमेरिका में अब तक सिर्फ 6 स्‍टोर कर्मी ही संक्रमित हुए हैं, लेकिन इनके जरिये संक्रमण फैलने का खतरा बहुत ज्‍यादा है. दरअसल, ये कर्मी हर दिन सैकड़ों लोगों के संपर्क में आते हैं. ऐसे संपर्क में आए लोगों को ढूंढना (Contact Tracing) आसान नहीं है. विशेषज्ञों का कहना है कि लोग ग्रॉसरी स्‍टोर्स से भी संक्रमित हो सकते हैं. अमेरिका में स्‍टोर्स चलाने वालों के लिए बिना लक्षण वाले संक्रमित लोगों का सामान लेने आना समस्‍या बन गया है.

ग्रॉसरी स्‍टोर से लाए गए सामान को पहले अच्‍छे से कर लें सैनेटाइज
कोलंबिया यूनिवर्सिटी की वायरोलॉजिस्‍ट एंजला रसम्‍सन ने सुझाव दिया है कि लोग ग्रॉसरी स्‍टोर्स से आने के बाद सामान घर की किसी बालकनी में रखें. इसके बाद उसकी पैकेजिंग को सैनेटाइज करें. साथ ही अपने हाथों को भी अच्‍छी तरह से साफ करें. इसके बाद ही घर में किसी दूसरी चीज को छुएं या परिवार के लोगों के संपर्क में आएं. उन्‍होंने कहा कि खाने की चीजों या उनकी पैकेजिंग के जरिये संक्रमित होने से बचना काफी आसान है.

कई शोध में ये सामने आया है कि गत्‍ते की पैकेजिंग पर कोरोना वायरस करीब एक दिन और प्‍लास्टिक की पैकेजिंग पर तीन दिन तक जिंदा रह सकता है. द अटलांटिक की रिपोर्ट के मुताबिक, एंजला ने कहा कि अब दुनिया भर में स्‍टोर्स पर सैनेटाइजिंग वाइप्‍स (Sanitizing Wipes) उपलब्‍ध हैं. आप इनसे भी पैकेजिंग को सैनेटाइज कर सकते हैं. दरअसल, उनका कहना है कि अगर कोई व्‍यक्ति स्‍टोर में खांसकर या छींककर वायरस को पैकेजिंग पर छोड़ देता है तो आप इन तरीकों से उसे सैनेटाइज करके संक्रमण को फैलने से रोक सकते हैं.

घर का जरूरी सामान खरीदने स्‍टोर्स या दुकान पर जाएं तो सोशल डिस्‍टेंसिंग और सुरक्षा उपायों का ख्‍याल रखें. भारत में जगह-जगह दुकानदार और स्‍टोर चलाने वालों ने इसका अच्‍छा इंतजाम किया है. 


स्‍टोर्स में भी रखें सोशल डिस्‍टेंसिंग का ख्‍याल, कैशियर बरतें सावधानी
स्‍टोर्स में बिलिंग काउंटर पर मौजूद कैशियर की दूरी ग्राहक से अमूमन काफी कम होती है. ऐसे में उन्‍हें संक्रमित होने का खतरा सबसे ज्‍यादा होता है. बेहतर होगा कि स्‍टोर्स में यहां भी सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों के मुताबिक ग्राहक और कैशियर के बीच की दूरी को कम से कम 1 मीटर और बेहतर होगा 6 फीट किया जाए. इससे भी संक्रमण को फैलने से रोकने में काफी मदद मिलेगी. इसके अलावा कैशियर्स बिलिंग के दौरान ग्राहक के लाए हर सामान को छूते हैं. अब मान लीजिए कि कोई ग्राहक संक्रमित है तो कैशियर में संक्रमण फैलने का जोखिम ज्‍यादा हो जाता है.

संक्रमण से बचाव के लिए कैशियर्स को ग्‍लब्‍स और मास्‍क का इस्‍तेमाल करना चाहिए. यहां ये भी जरूरी है कि स्‍टोर्स को दिन में कई बार पूरी तरह से सैनेटाइज किया जाए. वहीं, ग्राहकों को लाई हुई सब्‍जी या फल को गर्म पानी से सैनिटाइज कर लेना चाहिए. हालांकि, भारत में भोजन को काफी देर तक तेज आंच पर पकाया जाता है. इससे संक्रमण फैलने की आशंका खत्‍म हो जाती है. डॉक्‍टर स्‍कंद शुक्‍ल खाने को पूरी तरह पकाकर खाने की सलाह देते हैं.

ये भी देखें:

coronavirus : जानें कैसे लोगों की जिंदगी, व्‍यवहार और सोच को स्‍थायी तौर पर बदल देगा संक्रमण

Coronavirus: अगर घर में हैं पालतू जानवर तो संक्रमण से बचने के लिए बरतें ये सावधानियां

Coronavirus: क्‍या यहां-वहां मंडराती मक्खियां भी फैला सकती हैं संक्रमण

जानें महात्‍मा गांधी ने 102 साल पहले ऐसे दी थी दुनिया की सबसे बड़ी महामारी को मात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 4:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर