कुलभूषण जाधव केस: जानें भारत ने कैसे खारिज किए पाकिस्तान के दावे

पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में मौत की सज़ा पा चुके कुलभूषण जाधव के मामले में इंटरनेशनल कोर्ट का फैसला बुधवार को आ सकता है. जानें इंटरनेशनल कोर्ट में भारत ने कैसे अपना पक्ष रखा और पाकिस्तान के खिलाफ क्या दलीलें पेश कीं.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 10:49 AM IST
कुलभूषण जाधव केस: जानें भारत ने कैसे खारिज किए पाकिस्तान के दावे
कुलभूषण जाधव केस में आईसीजे का फैसला बुधवार को संभव.
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 10:49 AM IST
भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी बताए गए कुलभूषण जाधव के मामले में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) का फैसला बुधवार शाम 6:30 बजे तक आने की उम्मीद है, जिस पर पूरे देश की नज़रें हैं. इससे पहले फरवरी महीने में आईसीजे ने सुनवाई पूरी होने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. पाकिस्तान सेना द्वारा अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के आरोप में गिरफ्तार किए गए जाधव को छुड़ाने के लिए भारत ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लंबी लड़ाई लड़ी. जानें कि भारत ने इस कानूनी लड़ाई में क्या दलीलें दीं और इस अहम केस की टाइमलाइन क्या रही.

पढ़ें : कुलभूषण जाधव मामले में आज फैसला सुनाएगा इंटरनेशनल कोर्ट

भारत के दावे और दलीलें
कुलभूषण जाधव मामले में भारत ने पाकिस्तान के मूल दावे को ही खारिज कर दिया, जिसमें पाकिस्तान ने कहा था कि जाधव को 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान प्रांत से गिरफ़्तार किया गया था. पाक के इस दावे के बरक्स भारत ने दावा किया कि ईरान में निजी व्यापार करने वाले जाधव का अपहरण ईरान से किया गया. इसके अलावा भारत की तरफ से पैरवी में और क्या कहा गया, सिलसिलेवार जानें.

* इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस में भारत ने पाकिस्तान पर विएना संधि के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कहा कि जाधव को भारतीय दूतावास के अधिकारियों से बात करने का हक़ नहीं दिया गया यानी जाधव को 'कॉन्सुलर एक्सेस' नहीं दी गई. दूसरी ओर, पाकिस्तान का कहना है कि अगर कोई जासूसी का दोषी पाया जाता है तो उसे 'कॉन्सुलर एक्सेस' देना मुमकिन नहीं है.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

* भारत ने सुनवाई की प्रक्रिया के न्यूनतम मानकों के उल्लंघन का भी आरोप लगाते हुए अंतरराष्ट्रीय अदालत में अपील की कि जाधव को दिए गए मृत्युदंड को रद्द कर उन्हें तुरंत रिहा किया जाए.
Loading...

* इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस में भारतीय वकील हरीश साल्वे ने सुनवाई के दौरान कहा कि पाकिस्तान के पास जाधव का जो इकबालिया बयान है, वो 'जबरन' लिया गया और इसके अलावा पाकिस्तान के पास कोई और सबूत है ही नहीं.

kulbhushan jadhav, kulbhushan jadhav case, kulbhushan jadhav story, kulbhushan jadhav news, kulbhushan jadhav case timeline, कुलभूषण जाधव, कुलभूषण जाधव मामला, कुलभूषण जाधव केस, कुलभूषण जाधव स्टोरी, कुलभूषण जाधव न्यूज़
भारत ने पाकिस्तान पर आईसीजे को गुमराह करने की नाकाम कोशिशें करने का आरोप लगाया.


* सुनवाई के दौरान साल्वे ने पाकिस्तान पर उसकी अंतरराष्ट्रीय जांच से ध्यान भटकाने का आरोप लगाते हुए दलील दी कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को मोहरे की तरह इस्तेमाल किया.

* साल्वे ने आईसीजे में पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में सुनवाई को पटरी से उतारने यानी अदालत को गुमराह करने की नाकाम कोशिशें करने का भी आरोप लगाया.

* साल्वे ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत के फैसले पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि कोई देश अपने क़ानून की आड़ में अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों का उल्लंघन करने का अधिकार नहीं रखता.

* आईसीजे में सुनवाई के दौरान हुई बहस के दौरान पाकिस्तान के रवैए पर भी सवाल खड़े किए गए. दिसंबर 2017 में जाधव की मां और पत्नी जब उनसे मिलने पाकिस्तान गई थीं तब मुलाकात के माहौल को दहशत और 'धमकाता' हुआ बताते हुए भारत ने इस पूरी प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए कहा था कि 'कोई विश्वसनीयता नहीं' थी. भारतीय विदेश मंत्रालय ने आरोप लगाए थे कि पाकिस्तान में जाधव की मां और पत्नी के कपड़ों, जूतों और भाषा को लेकर ज़बरदस्ती की गई थी.

जाधव केस की खास तारीखें
- 1970 में महाराष्ट्र के सांगली में जन्मे कुलभूषण जाधव को 3 मार्च 2016 को पाकिस्तान ने रिटायर्ड भारतीय नौसेना अधिकारी बताते हुए पकड़ा और बाद में जासूसी के मामले में बलूचिस्तान से पकड़ने का दावा किया.

kulbhushan jadhav, kulbhushan jadhav case, kulbhushan jadhav story, kulbhushan jadhav news, kulbhushan jadhav case timeline, कुलभूषण जाधव, कुलभूषण जाधव मामला, कुलभूषण जाधव केस, कुलभूषण जाधव स्टोरी, कुलभूषण जाधव न्यूज़

- 25 मार्च 2016 को पाकिस्तान ने भारतीय प्रशासन को प्रेस रिलीज़ से जाधव की गिरफ़्तारी की सूचना दी. भारत ने कबूल किया कि कुलभूषण भारतीय नागरिक हैं लेकिन उन्हें जासूस नहीं माना. भारत सरकार ने दावा किया कि कुलभूषण ईरान में कारोबारी थे और पाकिस्तान पर अपहरण का आरोप लगाया.
- जाधव के कथित इक़बालिया बयान का वीडियो पाकिस्तान ने जारी किया जिसमें कुलभूषण 1991 में भारतीय नौसेना में शामिल होने की बात कबूल करते हुए बताए गए.
- जारी किए गए छह मिनट के वीडियो में कुलभूषण कहते बताए गए कि 1987 में उन्होंने नेशनल डिफेंस एकेडमी ज्वॉइन की और 2013 में रॉ के लिए काम शुरू किया था.
- 7 दिसंबर 2016 को तत्कालीन पाकिस्तानी विदेश मंत्री सरताज अज़ीज़ ने पाक संसद में जाधव के ख़िलाफ़ ठोस सबूत न होने की बात कही. विदेश मंत्रालय ने उसी दिन बयान जारी कर कहा कि यह बयान ग़लत है.
- 30 मार्च, 2016 को भारतीय विदेश मंत्रालय ने जवाब में कुलभूषण जाधव को प्रताड़ित किए जाने की बात कही.
- भारत ने जाधव को कॉन्सुलर एक्सेस दिए जाने की बात लगातार कही लेकिन 26 अप्रैल 2017 को पाकिस्तान ने भारत की ये अपील 16वीं बार खारिज की.
- 10 अप्रैल 2017 को पाकिस्तानी सेना के जनसंपर्क विभाग (ISPR) की तरफ से सूचना आई कि सैन्य अदालत ने जाधव को मौत की सज़ा सुनाई.
- 6 जनवरी 2017 को पाकिस्तान की तरफ से बयान आया कि उसने संयुक्त राष्ट्र महासचिव को एक डोज़ियर सौंपकर कहा है कि इस्लामाबाद में भारत दख़लंदाज़ी और देश को अस्थिर करने की कोशिश रहा है.
- 16 बार भारत के कॉन्सुलर एक्सेस की अपील ठुकराए जाने के बाद 8 मई 2017 को भारत ने यूएन में याचिका दायर करते हुए पाकिस्तान पर विएना संधि के उल्लंघन का आरोप लगाया.
- 9 मई 2017 को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस ने सुनवाई पूरी होने तक जाधव की मौत की सज़ा पर रोक लगाई.
- 17 अप्रैल 2018 को भारत ने जवाब आईसीजे को सौंपा और 17 जुलाई 2018 को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने आईसीजे को 400 पन्नों का जवाब सौंपा.

ये भी पढ़ें
जानें कौन हैं हरीश साल्वे, जिन्होंने लड़ा कुलभूषण जाधव के लिए केस
क्या नील आर्मस्ट्रॉन्ग ने सच में चांद पर सुनी थी अज़ान? कबूल कर लिया था इस्लाम?
First published: July 17, 2019, 9:36 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...