कश्मीर पर मीडिया: पाक ने कहा 'खतरनाक' तो अमेरिका ने 'अशांति की ओर'

जम्मू कश्मीर राज्य संशोधन बिल के पारित होने के बाद न केवल भारत बल्कि पाकिस्तान और दुनिया भर के मीडिया की निगाह इस मुद्दे पर बनी हुई है. जानें दुनिया के मीडिया में इस मामले पर किस तरह की खबरें आ रही हैं.

News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 8:07 PM IST
कश्मीर पर मीडिया: पाक ने कहा 'खतरनाक' तो अमेरिका ने 'अशांति की ओर'
पाकिस्तान के डॉन अखबार का कश्मीर पर कवरेज.
News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 8:07 PM IST
आर्टिकल 370 के प्रावधान समाप्त कर जम्मू और कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म करते हुए राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों के रूप में लाने के भारत सरकार के फैसले पर मंगलवार को भी पूरी दुनिया के मीडिया में चर्चा रही. पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि अमेरिका और यूरोप के मीडिया ने भी इस खबर पर भरपूर चर्चा की. एक तरफ, पाकिस्तान के मीडिया में सबसे बड़ी सुर्खियां भारत के इस कदम से ही जुड़ी रहीं, तो वहीं अमेरिका के मीडिया ने कश्मीर पर अमेरिकी रुख को लेकर खबरों और बयानों को महत्व दिया.

ये भी पढ़ें : लद्दाख 1989 में ही बन सकता था केंद्रशासित प्रदेश, लेकिन...

दुनिया भर के मीडिया में आ रहीं तमाम खबरें यही तस्वीर पेश कर रही हैं कि भारत के इस कदम की फ़िलहाल आलोचना की जा रही है. भारत के आक्रामक रुख को लेकर चिंता भी ज़ाहिर की जा रही है और पूरी दुनिया की नज़र कश्मीर पर टिक गई है. पाकिस्तान में हाई प्रोफाइल बैठकों का दौर जारी है और लगातार बयान आ रहे हैं. कुल मिलाकर कश्मीर में अब क्या होगा? इस सवाल को लेकर कई जगह एक सनसनी सी फैली दिख रही है. जानिए पाकिस्तान और अन्य देशों के मीडिया ने इस बारे में क्या लिखा है.

पाकिस्तान में कुछ ऐसी रहीं सुर्खियां

पड़ोसी मुल्क और भारत के दुश्मन देश पाकिस्तान के प्रमुख समाचार समूह डॉन ने ​कश्मीर पर भारत के कदम को भरपूर कवरेज देते हुए कई खबरें प्रकाशित की हैं. इनमें से एक का शीर्षक है 'भारत के कब्ज़े वाले कश्मीर की भयानक वास्तविकता'. इस शीर्षक से संपादकीय में भारत के कदम की भरपूर आलोचना की गई है और ये कहा गया है कि इस फैसले से भारत ने संयुक्त राष्ट्र के समक्ष किए अपने कई वादे तोड़ दिए हैं.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

jammu kashmir issue, jammu kashmir state controversy, jammu kashmir in media, pakistan media, jammu kashmir updates, जम्मू कश्मीर मुद्दा, जम्मू कश्मीर राज्य विवाद, मीडिया में जम्मू कश्मीर, पाकिस्तानी मीडिया, जम्मू कश्मीर अपडेट
पाकिस्तानी अखबार द न्यूज़ ने मंगलवार को कश्मीर मामले पर विस्तार से लिखा.

Loading...

डॉन में इस मुद्दे से जुड़ी कई खबरें छपी हैं. कुछ प्रमुख शीर्षक इस तरह हैं : 'पाक पीएम इमरान खान ने कश्मीर में भारत के अत्याचार पर कहा कि हम नस्लवादी विचार के खिलाफ लड़ रहे हैं', 'पश्चिम बंगाल सीएम ममता बनर्जी ने कश्मीर बिल और महबूबा व उमर की गिरफ्तारी पर बीजेपी पर हमला बोला', '15 अगस्त पर मोदी के भाषण की वजह से इस वक्त लिया गया कश्मीर फैसला'.

इसी तरह, पाकिस्तान के समाचार समूह द न्यूज़ ने मंगलवार को प्रकाशित एक लेख का शीर्षक दिया है 'मोदी ने कश्मीर को निगल लिया'. इसके अलावा भी द न्यूज़ ने इस मुद्दे पर बड़ा कवरेज दिया है. कुछ शीर्षक देखें : 'जनरल बाजवा ने कहा कि पाकिस्तान कश्मीरियों के साथ मज़बूती से खड़ा है', 'भारतीय कश्मीर में नज़रबंदी, मानवाधिकार पर अमेरिका बनाए हुए है नज़र'. पाकिस्तान के तकरीबन सभी समाचार समूहों में भारत के कश्मीर फैसले को बड़ा कवरेज मिला है.

अमेरिकी मीडिया की सुर्खियां
वॉशिंगटन पोस्ट में दक्षिण एशियाई इतिहास की प्रोफेसर हफ़सा कंजवाल ने लिखा है 'कश्मीर पर भारत के लंबे समय तक रहे रुख पर सोमवार को टर्निंग पॉइंट दिखा'. कंजवाल ने ये भी ​लिखा कि 'भारतीय इतिहासकार और कई कानून विशेषज्ञ मान रहे हैं कि जिस राष्ट्रपति आदेश के तहत ये कदम उठाया गया, वो असंवैधानिक था. आर्टिकल 370 भारत और विवादास्पद राज्य कश्मीर के बीच इकलौता कानूनी पुल था, जिसे तोड़ दिया गया'. वहीं, वॉशिंगटन पोस्ट के एक और लेख का शीर्षक है 'भारत ने कश्मीर का विशेष राज्य दर्जा रद्द कर तनावग्रस्त राज्य को मुश्किल मोड़ पर ला खड़ा किया है'.

वहीं, न्यूयॉर्क टाइम्स यानी एनवायटी ने भी कश्मीर पर भारत के फैसले को चिंताजनक मानते हुए एक लेख का शीर्षक दिया है 'दुनिया के सबसे खतरनाक स्थान कश्मीर में भारत ने की किस्मत आज़माइश'. यही नहीं एनवायटी ने एक और शीर्षक में लिखा कि 'कश्मीर में अशांति का डर बढ़' गया है.

jammu kashmir issue, jammu kashmir state controversy, jammu kashmir in media, pakistan media, jammu kashmir updates, जम्मू कश्मीर मुद्दा, जम्मू कश्मीर राज्य विवाद, मीडिया में जम्मू कश्मीर, पाकिस्तानी मीडिया, जम्मू कश्मीर अपडेट
ब्रिटेन के इंडिपेंडेंट ने भी कश्मीर मामले को प्रमुखता से प्रकाशित किया.


अन्य देशों के मीडिया का रुख
भारत के कश्मीर पर फैसले के बाद ब्रिटिश मीडिया में भी चिंता जताई गई. इंडिपेंडेंट ने अपनी एक रिपोर्ट का शीर्षक दिया है 'भारत की नज़र में कश्मीर का गोरखधंधा हल हो गया लेकिन सच ये है कि सबसे खराब अब होने वाला है'. वहीं भारत के साथ दोस्ती का दावा करने वाले इज़रायल के प्रमुख समाचार समूह जेरूसलम पोस्ट ने मंगलवार को ताज़ा खबर छापी है 'पाक आर्मी चीफ ने कहा कि कश्मीर को लेकर उसकी सेना किसी भी हद तक जा सकती है'. इससे पहले जेपी ने कश्मीर पर भारत के फैसले पर विश्लेषण भी छापा था.

ये भी पढ़ें:
वो मुस्लिम नेता, जिसने सबसे पहले किया था आर्टिकल 370 का विरोध
अब पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का क्या होगा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2019, 8:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...