लाइव टीवी

अन्य देशों की तुलना में जानिए कितना गंभीर है दिल्ली का प्रदूषण

News18Hindi
Updated: November 3, 2019, 7:38 PM IST
अन्य देशों की तुलना में जानिए कितना गंभीर है दिल्ली का प्रदूषण
दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के चलते स्वास्थ्य आपाल काल लागू कर दिया गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने रविवार को दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के चलते खतरनाक हुई स्थित के मद्देनजर कैबिनेट सचिव के साथ हाई लेवल मीटिंग की. रविवार दोपहर के बाद दिल्ली का वायु प्रदूषण स्तर AQI 625 को भी पार कर गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2019, 7:38 PM IST
  • Share this:
दिल्ली (Delhi) में जहरीले स्मॉग के चलते पब्लिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर दिया गया है. रविवार को एयर क्वालिटी इनडेक्स के अनुसार दिल्ली की वायु गणवत्ता खतरनाक स्थिति में पहुंच गई है. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के चलते खतरनाक हुई स्थित के मद्देनजर कैबिनेट सचिव के साथ हाई लेवल मीटिंग की. जिसमें प्रदूषण को कम करने वाले उपायों पर चर्चा की गई. इसके अलावा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से दिल्ली का प्रदूषण कम करने की गुहार लगाई है.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण को रोकने और पर्यावरण के संरक्षण के मद्देनजर शुक्रवार को एक आदेश जारी किया है. कोर्ट ने कहा है कि शहर में निर्माण कार्य पूरी तरह से बंद कर दिया जाए. वहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक के लिए बंद करने का आदेश दिया है. इसके साथ ही उन्होंने छात्रों को करीब 50 लाख मॉस्क का वितरण किया है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक के लिए बंद करने का आदेश दिया है.


पश्चिमी विक्षोभ के चलते बेहतर होंगे हालात

मौसम विभाग का कहना है कि ऐसा संभावना है कि सोमवार तक पश्चिमी विक्षोभ के चलते हवाओं की स्पीड़ बढ़ जाएगी. जिसके चलते जल्द ही दिल्ली को जहरीले स्मॉग से मुक्ति मिल जाएगी.

यूएस-ईपीए 2016 मानक द्वारा परिभाषित एयर क्वालिटी इंडेक्स स्केल के अनुसार,
0-50 के बीच AQI को अच्छा
Loading...

51-100 के बीच AQI संतोषजनक
101-200 के बीच AQI मध्यम स्तर
201-300 के बीच AQI खराब स्तर
301-400 के बीच AQI बहुत खराब स्तर
401-500 के बीच AQI गंभीर स्तर का प्रदूषण
500 से ऊपर के AQI को प्लस गंभीर स्तर का प्रदूषण माना जाता है.

गौरतलब है कि पिछले साल की तरह ही इस साल भी दिल्ली की वायु गुणवत्ता दुनिया के प्रमुख शहरों के मुकाबले में सबसे खराब स्थित में है. एक रिपोर्ट के अनुसार 2018 में दिल्ली का वायु प्रदूषण दर सामान्य की अपेक्षा दस गुना अधिक थी.

दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक
शनिवार को दिल्ली में हुई हल्की बारिश के बावजूद सुबह वायु प्रदूशण का स्तर AQI 466 के ऊपर पहुंच गया है. जबकि रविवार दोपहर के बाद दिल्ली के वायु प्रदूषण का स्तर AQI 625 को भी पार कर गया है. वहीं मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की है कि दिल्ली-एनसीआर में 5 नवंबर को तेज हवाओं के साथ ही बारिश होने की संभावना है. जिससे वायु प्रदूषित से कुछ राहत मिलेगी.

सोमवार तक पश्चिमी विक्षोभ के चलते बेहतर हालात हो जाएंगे.


भारत के मुकाबले अन्य देशो में वायु प्रदूषण का स्तर
भारत की तरह ही हमारा पड़ोसी देश चीन भी गंभीर वायु प्रदूषण से प्रभावित है. चीन पिछले कई सालों से प्रदूषणकारी उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई और शख्त पर्यावरणीय नियमों को लागू करने के की जिद्दो जहद कर रहा है. हालांकि चीन के कुछ शहर इस बढ़ते वायु प्रदूषण के लिए प्रमुख अपराधी हैं. चीन के सबसे ज्यादा खराब वायु प्रदूषण वाला शहर होटन हैं. जहां का रविवार का AQI 349 दर्ज किया गया है.

चीन के पर्यावरण मंत्रालय के आधिकारिक सूत्र का कहना है कि देश में सर्वाधिक प्रदूषित इलाका उत्तरी क्षेत्र है. जहां का वायु प्रदूषण PM 2.5 के उच्च स्तर पर है. चीन के 28 शहरों में से केवल चार शहर- बीजिंग, हान्डान, कंगझोऊ और जीनिंग ने ही प्रदूषण के स्तर को कम किया जा सका है. पिछले साल बीजिंग दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में 122 वें स्थान पर था. चीन की प्रमुख इस्पात प्रदेश हैबाई में बढ़ते वायु प्रदूषण के चलते 1 नवंबर से नारंगी स्मॉग का अलर्ट जारी किया गया है.

लाहौर दुनिया के सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में से एक
एक रिपोर्ट के अनुसार हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान का लाहौर शहर दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में से एक है. वर्तमान समय में इसका स्मॉग का स्तर 550 के स्तर को पार कर गया है. देश की प्रमुख मीडिया हाउस डान के अनुसार शहर में सभी बाहरी कामकाज को प्रतिबंधित कर दिया गया है. अनुसंधान के अनुसार शहर के प्रदूषण का प्रमुख स्रोत ज्यादातर स्थानीय हैं.

जंगलों में लगी आग के चलते इंडोनेशिया में गंभीर है प्रदूषण की समस्या
यूनिसेफ द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार इंडोनेशिया के सुमात्रा में जंगलों में लगी आग के चलते देश में वायु प्रदूषण का खतरा काफी बढ़ गया है. जिसके कारण करीब 10 मिलियन बच्चों में गंभीर स्वास्थ्य की समस्या पैदा हो गई है. वहीं एक रिपोर्ट के अनुसार देश में राजधानी जकार्त में वायु की गुणवत्ता दुनिया में सबसे खराब स्तर की है. शिकागो विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार जकार्ता में हवा की गुणवत्ता इतनी खराब है कि यह निवासी के औसत जीवनकाल में 2.3 साल की कटौती कर रही है. इसके अतिरिक्त देश में सक्रिय ज्वालामुखी के कारण भी वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ा है.

वायु गुणवत्ता सूचकांक काफी खराब स्थित में
मई में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार राजधानी ढाका की वायु गुणवत्ता सूचकांक काफी खराब स्थित में है. ढाका को दुनिया के तीसरे सबसे खराब प्रदूषित शहर का दर्जा दिया गया है. गौरतलब है कि बांग्लादेश की घनी आबादी लंबे समय से वायु प्रदूषण की समस्या से जूझ रही है. रविवार को दर्ज वायु गुणवत्ता सूचकांक के अनुसार AQI 185 था.

काबुल
अफगानिस्तान में वायु प्रदूषण को लेकर 2017 में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार देश में वायु प्रदूषण के चलते 26000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अफगानिस्तान में कठोर सर्दियों से बचने के लिए जलाने जाने वाले प्लास्टिक, कोयला और रबर के कारण गंभीर वायु प्रदूषण की स्थित उत्पन्न हो गई है.

ये भी पढ़ें: 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 7:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...