Home /News /knowledge /

कैसा था वो पहला बिजली बल्ब, जो एडिसन ने आज के दिन कराया था पेटेंट

कैसा था वो पहला बिजली बल्ब, जो एडिसन ने आज के दिन कराया था पेटेंट

एडिसन का प्रकाश बल्ब (Light Bulb) का पेटेंट 27 जनवरी 1880 को किया गया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

एडिसन का प्रकाश बल्ब (Light Bulb) का पेटेंट 27 जनवरी 1880 को किया गया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

बिजली (Electricity) के बल्ब का आविष्कार (Invention of Bulb) आज से करीब 140 साल पहले हुआ था. आज ही के दिन 27 जनवरी 1880 को थॉमस अल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने अपने द्वारा बनाए गए पहले बल्ब का पेटेंट हासिल किया था जो विज्ञान के इतिहास में एक बड़ा दिन माना जाता है. इसके बाद दुनिया में लोगों को अपने घरों में रोशनी मिलने लगी थी. एडिसन का बल्ब अपने स्वरूप में बहुत ही कम बदलावों के साथ सौ सालों को लोगों के घरों को रोशन करता रहा और कई जगह अब भी कर रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    आज एक बल्ब (Bulb) हमारे कमरे को रोशन करने वाला सामान्य उपकरण दिखाई देता है. लेकिन जब इसका आविष्कार (Invention) हुआ था तब इसे किसी चमत्कार से कम नहीं माना गया था. 19वीं सदी के अंत में हुए इस आविष्कार को विज्ञान की दुनिया में सर्वश्रेष्ठ आविष्कारों में से एक माना जाता है जिसने पूरी दुनिया में ऐसी रोशनी फैलाई जिससे लोग सूरज ढलने के  बाद भी अपने काम करने में सक्षम हो सके थे. जो बल्ब लंबे सम से उपयोग में  लाया जा रहा है कि उसे विकसित करने श्रेय थॉमस अल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) को दिया जाता है. आज ही के दिन एडिसन 27 जनवरी 1880 को अपने पहले बल्ब का पेटेंट हासिल किया था.

    लंबे समय तक नहीं बदला स्वरूप
    हाल के कुछ सालों में बल्ब का स्वरूप बहुत बदल गया है. सीएफएल बल्ब के बाद अब एलईडी बल्ब लोगों को उपलब्ध होने लगे हैं जिनसे बिजली की काफी बचत हो रही है. लेकिन जैसा बल्ब एडिसन ने सबसे पहले पेटेंट कराया था उसी तरह का फिलामेंट वाला बल्ब सौ सालों से भी कहीं ज्यादा समय तक दुनिया पर राज करता रहा.

    नहीं की थी औपचारिक पढ़ाई
    थॉमस एल्वा एडिसन का जन्म 11 फरवरी 1847 को अमेरिका के ओहियो में हुआ था. एक जाने माने आविष्कार के तौर पर मशहूर एडिसन को बहुत ही कम औपचारिक शिक्षा मिल सकी और उन्होंने अपनी अधिकांश पढ़ाई घर पर ही की. परिवार के मकान के बेसमेंट में ही उनकी प्रयोगशाला थी जहां वे प्रयोग करते रहते थे. उनकी मां ने ही उनकी रसायन शास्त्र और भौतिकी में रुचि को देखते हुए उन्हें संबंधित विषयों की पुस्तकें उपलब्ध कराईं.

    एक लैम्प बनाने का प्रयास
    आजीविका के लिए टेलीग्राफ पर काम करते एडिसन ने अनुसंधान कार्य जारी रखा और 1876 में खुद ही की एक प्रयोगशाला बनाई जिसमें उनके पिता ने सहयोग दिया. 1878 से 1880 का वह समय था जब एडिसन और उनके सहयोगियों ने लैम्प बनाने के लिए हजारों सिद्धातों पर काम किया. यह लैम्प में बिजली का उपयोग कर एक पदार्थ के तार को गर्म करता है जिससे चमकीला प्रकाश फैलता है.

    Science, Research, Electric Bulb, Invention, Thomas Alva Edison, Edison Bulb, Patent of first buld, Patent of Edison Bulb, Invention of Bulb, Filament,

    थॉमस अल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) को इस बल्ब के फिलामेंट के लिए हजारों प्रयोग करने पड़े. (तस्वीर: Vectorku Studio Shutterstock)

    एक फिलामेंट की समस्या
    इस लैम्प को बनाने के बहुत सारे प्रयास हो रहे थे. लेकिन लगातार स्थायी तौर पर या लंबे समय तक प्रकाश देने वाला लैम्प बन नहीं पा रहा था. इस लैम्प में समस्या वह पदार्थ, जिसे फिलामेंट कहते हैं, था जिससे प्रकाश निकलना था क्योंकि वह गर्म हो कर जल जाता था. एडिसन ने एक ग्लास निर्वात में इस फिलामेंट का उपयोग करने का सोचा लेकिन फिर भी उन्हें योग्य फिलामेंट नहीं मिल रहा था.

    यह भी पढ़ें: जानिए लॉकडाउन में क्यों कम हुई थी बिजली गिरने की घटनाएं

    फिलामेंट पर ही फोकस
    एडिसन ने अपने फिलामेंट के लिए बहुत प्रयास किए. माना जाता है कि उनकी वास्तविक खोज बल्ब नहीं बल्कि वह फिलामेंट ही था. एडिसन एक उच्च प्रतिरोधक तंत्र बनना चाहते थे जिसमें आर्क लैंप की तुलना में बिजली की ऊर्जा कम लगे और यहीं से उनका लैम्प बनाने के प्रयास बल्ब बनाने की ओर चला गया.

    Electric Bulb, Invention, Thomas Alva Edison, Edison Bulb, Patent of first buld, Patent of Edison Bulb, Invention of Bulb, Filament,

    दुनिया में आज भी एडिसन के बनाए बल्ब (Electric Bulb) ही उपयोग में लाए जाते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    आखिर मिल ही गया पेटेंट
    एडिसन ने फिलामेंट के तलाश के लिए हजारों की संख्या में प्रयोग किया जिससे उन्हें एक स्थायी फिलामेंट मिल सके. एडिसन के प्रयोगों में ज्यादातर कार्बन युक्त फिलामेंट रहे. उनके प्रयोगों के साथ फिलामेंट की उम्र भी बढ़ती जा रही थी. अंततः 1880 में उनके इलेक्ट्रिक लैम्प को पेटेंट संख्या 223,898 प्रदान की गई और यह पेंटेट एडिसन को 27 जनवरी को ही दिया.

    यह भी पढ़ें: Nikola Tesla Death Anniversary: कैसे थे निकोला टेस्ला के जीवन के उतार चढ़ाव

    एडिसन ने बल्ब के आविष्कार की कल्पना भी नहीं की थी और ना ही उन्होंने इसका सबसे पहले आविष्कार किया था. बल्ब को उनके पैदा होने से पहले ही चले आ रहे थे. उन्होंने तो इसे बस विकसित कर इसे रोजमर्रा के उपयोग की वस्तु बनाया था. उनका बनाया बल्ब इंकैन्डेसेंट बल्ब था. लेकिन एडिसन का योगदान इससे भी कम नहीं होता है.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर